Live News »

रिश्ते तार-तार: नाबालिग ने 4 वर्षीय मासूम बहन को बनाया हवस का शिकार

रिश्ते तार-तार: नाबालिग ने 4 वर्षीय मासूम बहन को बनाया हवस का शिकार

अलवर: जिले में खैरथल थाना क्षेत्र में एक नाबालिग ने 4 वर्षीय मासूम बहन को हवस का शिकार बना डाला. इस घटना ने भाई बहन के रिश्ते को भी तार-तार कर दिया. खैरथल कस्बे में ही रहने वाली 4 वर्षीय बालिका से उसी के ताऊ के बेटे ने दुष्कर्म किया.

सरकार ने भरतपुर DIG को किया APO, एसीबी ने करीबी प्रमोद शर्मा को 5 लाख की घूस के साथ किया था ट्रैप

परिजनों की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया: 
दुष्कर्म की सूचना लगने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची. परिजनों की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया है. बालिका का मेडिकल करा दिया गया है और खैरथल थाना पुलिस ने आरोपी नाबालिग को दस्तयाब भी कर दिया है. खैरथल थाना अधिकारी दारा सिंह ने कहा कि चौंकाने वाली घटना घटी है. आरोपी नाबालिग पुलिस कस्टडी में है. मामले की जांच कर रहे हैं.

VIDEO: पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह  ने अपने ही विभाग की खोली 'जन्मपत्री', मुख्यमंत्री से विभाग में बदलाव की मांगी अनुमति 

और पढ़ें

Most Related Stories

पाली में श्रमिकों से भरा मिनी ट्रक पलटा, 4 लोगों की मौके पर मौत

पाली में श्रमिकों से भरा मिनी ट्रक पलटा, 4 लोगों की मौके पर मौत

पाली: जिले में आज सुबह श्रमिकों से भरा एक मिनी ट्रक पलटने से 4 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई. मृतकों में दो मासूम बच्चियां और 2 महिलाएं शामिल है. जबकि 10 घायलों को गुंदोज व बांगड़ अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. हादसे की जानकारी मिलने पर गुड़ा एंडला थाना प्रभारी ने मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का जायजा लिया. सभी श्रमिक प्रतापगढ़ जिले के बताए जा रहे हैं. 

{related}

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार प्रतापगढ़ जिले के सादड़ी इलाके के रहने वाले मूर्तियां बनाने वाले कुछ श्रमिक मिनी ट्रक में दिल्ली से आ रहे थे. ये लोग पाली जिले के सांडेराव में उतरकर अन्य वाहन के माध्यम से प्रतापगढ़ जाने वाले थे. इसी दौरान कीरवा के निकट अचानक मिनी ट्रक पलट गया और उसमें सवार दो महिलाओं व दो बच्चों की मौत हो गई. पुलिस मामले की जांच कर रही है.  
 

जयपुर सहित छह नगर निगमों के चुनाव स्थगित करवाने हाईकोर्ट पहुंची राज्य सरकार

जयपुर सहित छह नगर निगमों के चुनाव स्थगित करवाने हाईकोर्ट पहुंची राज्य सरकार

जयपुर: जयपुर, जोधपुर और कोटा में 2-2 नगर निगम के गठन के बाद से लगातार चुनाव टले हैं. कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चलते अब राज्य सरकार 31 मार्च 2021 तक इन नगर निगम चुनाव कराने के लिये समय चाहती है. कुल छह नगर निगम के चुनाव स्थगित करवाने के लिए राज्य सरकार ने एक बार फिर से राजस्थान हाईकोर्ट में प्रार्थना पत्र दायर किया है. जिसमें चुनाव 31 मार्च 2021 तक करवाने की अनुमति मांगी है. राज्य सरकार की ओर से पेश किये गये प्रार्थना पत्र की प्रति चुनाव आयोग के अधिवक्ता को भी दे दी है. सरकार के प्रार्थना पत्र पर इसी सप्ताह सुनवाई होने की संभावना है.

31 अक्टूबर तक चुनाव करवाने की अनुमति दी थी: 
गौरतलब है कि 22 जुलाई को राज्य सरकार के प्रार्थना पत्र पर ही हाईकोर्ट ने 31 अक्टूबर तक चुनाव करवाने की अनुमति दी थी. राज्य सरकार ने जुलाई में हाईकोर्ट से 31 दिसंबर तक चुनाव करवाने की छूट मांगी थी. लेकिन राज्य निर्वाचन विभाग ने इस पर आपत्ति करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने पंचायत चुनाव 15 अक्टूबर तक करवाने का आदेश दिया है ऐसे इनको भी अक्टूबर में करवाया जा सकता था. इसी वजह से हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को तीनों जिले के छहों निगम चुनाव करवाने के लिए 31 अक्टूबर तक का समय दिया था. अब एक बार फिर कोविड—19 संक्रमण का हवाला देते हुए राज्य सरकार ने हाईकोर्ट में प्रार्थना पत्र दायर किया है. जिसमें कहा है कि प्रदेश में संक्रमण लगातार फैल रहा है. ऐसे में नगर निगम चुनाव के दौरान ईवीएम मशीनों के उपयोग व भीड़ के इकट्‌ठा होने के संभावना है.  

{related}

कब कब टले चुनाव: 
नगर निगम के चुनाव नवंबर 2019 से लंबित है. राज्य सरकार ने द बार एसोसिएशन के महासचिव सतीश कुमार शर्मा की जनहित याचिका में सुनवाई के दौरान छह माह में चुनाव करवाने का आश्वसन हाईकोर्ट में दिया था. इसी वजह से अप्रैल में चुनाव करवाए जाने थे लेकिन राज्य सरकार ने 18 मार्च को प्रार्थना पत्र दायर कर अदालत से छह सप्ताह का समय लिया था. जिसकी मियाद 31 मई तक पूरी होने से पहले ही सरकार फिर से कोर्ट पहुंच गई. कोर्ट ने राज्य सरकार के प्रार्थना पत्र पर अदालत ने 31 अगस्त तक चुनाव करवाने की छूट दी थी. इसके बाद 22 जुलाई को राज्य सरकार के प्रार्थना पत्र पर एक बार फिर चुनाव 31 अक्टूबर तक टाले गए थे.  

राज्यसभा में किसान बिल पर जोरदार हंगामा, 8 सांसद एक हफ्ते के लिए हुए निलंबित

राज्यसभा में किसान बिल पर जोरदार हंगामा, 8 सांसद एक हफ्ते के लिए हुए निलंबित

नई दिल्ली: संसद के मानसून सत्र का आज आठवां दिन है. राज्यसभा में आज विपक्षी सांसदों के हंगामे का मुद्दा उठा. सभापति ने हंगामा करने वाले सांसदों के खिलाफ कार्रवाई की है. उन्होंने हंगामा करने वाले आठ विपक्षी सांसदों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें एक हफ्ते के लिए निलंबित कर दिया है. यानी वे एक हफ्ते तक सदन की कार्यवाही में हिस्सा नहीं ले पाएंगे. निलंबित होने वाले सांसदों में डेरेक ओ ब्रायन, संजय सिंह, रिपुन बोरा, नजीर हुसैन, केके रागेश, ए करीम, राजीव साटव, डोला सेन हैं. 

अविश्‍वास प्रस्‍ताव नियमों के हिसाब से सही नहीं: 
सभापति ने कहा कि कहा कि उपसभापति के खिलाफ विपक्षी सांसदों की तरफ से लाया गया अविश्‍वास प्रस्‍ताव नियमों के हिसाब से सही नहीं है. सभापति की कार्रवाई के बाद भी सदन में हंगामा जारी रहा.

{related}

कल राज्यसभा के लिए सबसे खराब दिन था:
राज्यसभा के सभापति ने कल की घटना पर कहा कि राज्यसभा के लिए सबसे खराब दिन था. कुछ सांसदों ने पेपर को फेंका. माइक को तोड़ दिया. रूल बुक को फेंका गया. इस घटना से मैं बेहद दुखी हूं. उपसभापति को धमकी दी गई. उनपर आपत्तिजनक टिप्पणी की गई.

किसानों को उनकी फसल का पूरा समर्थन मूल्य मिलेगा:
कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कहा कि सरकारी खरीद जारी रहेगी और किसानों को उनकी फसल का पूरा समर्थन मूल्य मिलेगा. ये बिल पूरी तरह किसानों के हित में है और किसी को कोई आशंका नहीं होनी चाहिए. किसान वैश्विक मानदंडों के तहत कार्य कर पाएगा और उनकी पहुंच पूरी तरह से बाजार पर अपनी आजादी के तहत होगी.


 

CoronaVirus in India: देश में 24 घंटे में 87,882 नए मरीज आए, अबतक करीब 55 लाख संक्रमित

CoronaVirus in India: देश में 24 घंटे में 87,882 नए मरीज आए, अबतक करीब 55 लाख संक्रमित

नई दिल्ली: देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार तेजी से इजाफा हो रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 86,961 नए कोरोना मामले दर्ज किए गए हैं, 1130 लोगों की जान भी चली गई है. ऐसे में देश में अब कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 54 लाख 87 हजार 580 हो गई है. इनमें से 87,882 लोगों की मौत हो चुकी है.

एक्टिव केस की संख्या 10 लाख 3 हजार:
वहीं एक्टिव केस की संख्या 10 लाख 3 हजार है और 43 लाख 96 हजार लोग ठीक हो चुके हैं. संक्रमण के सक्रिय मामलों की संख्या की तुलना में स्वस्थ हुए लोगों की संख्या करीब चार गुना अधिक है. कुल रिकवरी के मामले में भारत दुनिया के अन्य देशों से आगे निकलकर पहले स्थान पर बना हुआ है. अब तक 44 लाख लोग रिकवर हो चुके हैं.

{related}

20 सितंबर तक कुल 6,43,92,594 सैंपल्स टेस्ट किए गए: 
ICMR के मुताबिक, 20 सितंबर तक कुल 6,43,92,594 सैंपल्स टेस्ट किए गए जिनमें कल टेस्ट किए गए 7,31,534 सैंपल्स भी शामिल हैं.

मृत्यु दर में गिरावट: 
राहत की बात है कि मृत्यु दर और एक्टिव केस रेट में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. मृत्यु दर गिरकर 1.60% हो गई. इसके अलावा एक्टिव केस जिनका इलाज चल है उनकी दर भी घटकर 19% हो गई है. इसके साथ ही रिकवरी रेट यानी ठीक होने की दर 80% हो गई है. भारत में रिकवरी रेट लगातार बढ़ रहा है.

महाराष्ट्र के भिवंडी में तीन मंजिला इमारत ढही, अब तक 10 लोगों की मौत, कई दबे

मुंबईः महाराष्ट्र के भिवंडी में धामनकर नाका के पास पटेल कंपाउंड इलाके में दर्दनाक हादसा हो गया. यहां पर तीन मंजिला बिल्डिंग ढहने से हादसे में 10 लोगों की मौत हो गई है, वहीं 25 लोगों की जान बचा ली गई है. अभी भी बिल्डिंग के मलबे में 50 लोगों के फंसे होने की आशंका है. मौके पर राहत और बचाव कार्य जारी है. 

इमारत को नगरपालिका ने नोटिस दिया हुआ था:
ये इमारत साल 1984 में बनी थी और 21 परिवार यहां रहते हैं. क्षमता से ज्यादा लोग रहने के चलते इस इमारत को नगरपालिका ने नोटिस दिया हुआ था. जानकारी के मुताबिक रात 3.40 बजे हादसा हुआ है. जानकारी के मुताबिक तीन मंजिला इस इमारत में 21 परिवार रहते थे.

{related}

दुर्घटनाग्रस्त इमारत को साल 1984 में बनाया गया था: 
स्थानीय लोगों ने बताया कि दुर्घटनाग्रस्त इमारत जिलानी अपार्टमेंट हाउस नंबर 69 को साल 1984 में बनाया गया था. प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो  सुबह करीब 3.30 बजे पटेल कंपाउंड इलाके में हलचल हुई. हादसे के वक्त इमारत में रहने वाले लोग गहरी नींद में सो रहे थे. हादसा हुआ था तब इस इमारत में लोग सो रहे थे. 

देह व्यापार के आरोप में युवती और एजेंट गिरफ्तार, सदर पुलिस ने की कार्रवाई

 देह व्यापार के आरोप में युवती और एजेंट गिरफ्तार, सदर पुलिस ने की कार्रवाई

आबूरोड: सदर पुलिस ने रेवदर मार्ग पर देर रात को न्यू टाउन स्थित नेहा किचन हाईवे होटल पर दबिश दी. होटल के कमरे से एक युवती को गिरफ्तार किया. साथ ही दलाल को भी दबोच लिया. पुलिस दोनों को गिरफ्तार कर सदर थाने ले गई.

एसपी पूजा अवाना के निर्देश पर हुई कार्रवाई:
घर में इन दिनों कई होटलों में देह व्यापार का कारोबार पैर पसार चुका है. इसी के चलते एसपी पूजा अवाना के निर्देश पर देर रात को रेवदर मार्ग पर न्यू टाउन स्थित होटल नेहा किचन हाईवे पर कार्रवाई की गई. डीएसपी प्रवीण कुमार,प्रशिक्षु आरपीएस सुदर्शन पालीवाल व सदर थानाधिकारी आनंद कुमार मय टीम होटल पर पहुंचे.

{related}

पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी:
पुलिस ने एक पुलिसकर्मी को बोगस ग्राहक बनाकर बाड़मेर के गडरा निवासी अशरफ खान के पास भेजा. इशारा मिलते पुलिस टीम ने होटल केेेेेे कमरे पर दबिश की. कमरे सेे असम हाल अहमदाबाद निवासी युवतीं को गिरफ्तार किया. साथ ही एजेंट अशरफ खान को भी दबोच लिया. पुलिस दोनोंं को सदर थाने ले गई. फिलहाल, पुलिस पूरे मामले की तहकीकात में जुटी है.

तालाब पर नहाने गए युवक की डूबने से हुई मौत, गोगुन्दा के सायरा थाना क्षेत्र की घटना

तालाब पर नहाने गए युवक की डूबने से हुई मौत, गोगुन्दा के सायरा थाना क्षेत्र की घटना

उदयपुर: प्रदेश के उदयपुर जिले के सायरा थाना क्षेत्र के ढोल ग्राम पंचायत के बड़गांव गांव में तालाब पर नहाते समय युवक का पैर फिसलने से पानी में डूबने से युवक की मौत हो गई. जानकारी के अनुसार मोहन गमेती तालाब पर नहाने गया था तभी अचानक उसका पैर फिसल गया, जिससे पानी में डूबने से उसकी मौत हो गई.

{related}

सूचना पर ढोल चौकी के कांस्टेबल पहुंचे मौके पर:
सूचना पर ग्रामीण और परिजन मौके पर जमा हो गए. परिजनों की सूचना पर ढोल चौकी के हेड कांस्टेबल मौके पर पहुंचे ओर ग्रामीणों व पुलिस ने बड़ी मशक्कत के बाद शव को तालाब से बाहर निकाला. वहीं परिजनों ने पुलिस में कोई मामला दर्ज नहीं करवाया है.

जेपी नड्डा बोले, किसानों और गरीबों को गुमराह कर राजनीति करना कांग्रेस की पुरानी आदत है

जेपी नड्डा बोले, किसानों और गरीबों को गुमराह कर राजनीति करना कांग्रेस की पुरानी आदत है

नई दिल्ली: बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कृषि से जुड़े विधेयक राज्यसभा में पास होने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का अभिनंदन करते हुए कांग्रेस पर पलटवार किया है. जेपी नड्डा ने कहा कि कांग्रेस ने किसानों के सशक्तिकरण के लिए कभी कोई रिफॉर्म्स नहीं किया. उसके पास न इसके लिए सोच थी, न ही इच्छाशक्ति. किसानों और गरीबों को गुमराह कर राजनीति करने की कांग्रेस की पुरानी आदत रही है. कांग्रेस के दोहरे चरित्र से किसान वाकिफ हैं, वे अब उसके बहकावे में आने वाले नहीं हैं. जेपी नड्डा ने कहा कि कृषि एवं किसानों के सशक्तिकरण के लिए केंद्र सरकार द्वारा लाए गए विधेयकों के संसद में पास होने पर मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का अभिनंदन करता हूं और देश के सभी किसान भाइयों को शुभकामनाएं देता हूं. मैं समर्थन के लिए सभी सांसदों एवं राजनीतिक दलों को भी साधुवाद देता हूं.

{related}

किसानों की आय को दोगुना करने में निभाएंगे महत्वपूर्ण भूमिका: 
जेपी नड्डा ने कहा कि संसद द्वारा पारित उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सरलीकरण), कृषक (सशक्तिकरण व संरक्षण) कीमत आश्वासन एवं कृषि सेवा पर करार और आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक सही मायनों में किसानों को अपने फसल के भंडारण, और बिक्री की आजादी देंगे और बिचौलियों के चंगुल से उन्हें मुक्त करेंगे. उन्होंने कहा कि MSP अर्थात मिनिमम सपोर्ट प्राइस था, है और रहेगा. APMC की व्यवस्था भी बनी रहेगी. प्रधानमंत्री मोदी ने दूरदर्शिता का परिचय देते हुए किसानों के बेहतर भविष्य के लिए ये कदम उठाए हैं जो किसानों की आय को दोगुना करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे.

अब किसान अपनी मर्जी का होगा मालिक:
उन्होंने कहा कि अब किसान अपनी मर्जी का मालिक होगा. किसानों को उपज बेचने का विकल्प देकर उन्हें सशक्त बनाया गया है. बिक्री लाभदायक मूल्यों पर करने से संबंधित चयन की सुविधा का भी लाभ किसान ले सकेंगे. इससे जुड़ी किसी भी समस्या का समाधान किसान के घर पर ही उपलब्ध होगा. यह मोदी सरकार है जिसने स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट को लागू किया, किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि दी, फसल बीमा की सौगात दी और कृषिगत सुधार के लिए एक लाख करोड़ रुपए का अलग से आवंटन किया. कांग्रेस ने लोक सभा चुनाव 2019 के अपने घोषणापत्र में एपीएमसी व्यवस्था को खत्म करने की बात की थी जबकि इन विधेयकों के अनुसार MSP और APMC चलती रहेगी. मोदी सरकार तो किसानों को बेहतर विकल्प उपलब्ध करा रही है. आखिर राहुल गांधी और कांग्रेस किसानों को सशक्त होते देखना क्यों नहीं चाहते.

Open Covid-19