कोरोना के बीच संसद का मॉनसून सत्र शुरू, PM मोदी बोले- पूरा सदन एक भाव से अपने वीर सैनिकों के साथ खड़ा

कोरोना के बीच संसद का मॉनसून सत्र शुरू, PM मोदी बोले- पूरा सदन एक भाव से अपने वीर सैनिकों के साथ खड़ा

नई दिल्ली: कोरोना काल के बीच संसद के मॉनसून सत्र की आज से शुरुआत हो गई है. लोकसभा की कार्यवाही शुरू होने के बाद दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को श्रद्धांजलि दी गई. लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिडला ने प्रणब मुखर्जी के जीवनकाल के बारे में बताया. उन्होंने कहा कि उनके कार्य हमें आगे भी प्रेरित करते रहेंगे. प्रणब मुखर्जी की 84 साल की उम्र में राजधानी दिल्ली में निधन हो गया था.

कोरोना की कोई दवाई नहीं आ जाती तबतक कोई ढिलाई न बरतें: 
सत्र शुरू होने से ठीक पहले मीडिया को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने हिन्दी दिवस पर शुभकामनाएं दी. मोदी ने कहा कि इस अवसर पर हिन्दी के विकास में योगदान दे रहे सभी भाषाविदों को मेरा हार्दिक अभिनंदन. पीएम मोदी ने कहा कि जबतक कोरोना वायरस की कोई दवाई नहीं आ जाती तबतक कोई ढिलाई न बरतें.

पूरा सदन एक भाव से अपने वीर सैनिकों के साथ खड़ा:
लद्दाख में चीन से सीमा विवाद पर पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सेना के वीर जवान हिम्मत के साथ, जज्बे के साथ, बुलंद हौसलों के साथ, दुर्गम पहाड़ियों में डटे हुए हैं. कुछ समय के बाद बर्फबारी भी शुरू होगी. ऐसे में पूरा सदन एक भाव से अपने वीर सैनिकों के साथ खड़ा है. 

इस सत्र में कई महत्वपूर्ण निर्णय होंगे:
मोदी ने कहा कि इस सत्र में कई महत्वपूर्ण निर्णय होंगे, अनेक विषयों पर चर्चा होगी और हम सबका अनुभव है कि लोकसभा में जितनी ज़्यादा चर्चा होती है उतना सदन को, विषय वस्तु को और देश को भी लाभ होता है. इस बार भी उस महान परम्परा में हम सब सांसद भी वेल्यू एडिशन करेंगे, ये हम सबका विश्वास है. 

विपक्षी पार्टियां संसद में एकजुटता दिखाने की कोशिश में:
बता दें कि विपक्षी पार्टियां संसद में एकजुटता दिखाने की कोशिश में हैं. इसी एकजुटता को दिखाने के लिए विपक्ष ने राज्यसभा में उपसभापति के लिए आरजेडी के मनोज झा को साझा उम्मीदवार भी बनाया है. विपक्ष सरकार को अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर घेरना चाहता है. साथ ही LAC पर चीन के मुद्दे को लेकर विपक्ष सरकार से सवाल-जवाब भी करेगा. इसके अलावा कोरोना के मुद्दे पर भी सरकार को घेरने की तैयारी है. विपक्ष का मानना है कि सरकार ने इन तमाम मुद्दों को गंभीरता से नहीं लिया. 

और पढ़ें