VIDEO: ACB में तैनात राजस्थान सरकार के तेज़-तर्रार अफसर, 4 सालों में ही किए 1200 से ज्यादा ट्रैप

VIDEO: ACB में तैनात राजस्थान सरकार के तेज़-तर्रार अफसर, 4 सालों में ही किए 1200 से ज्यादा ट्रैप

जयपुर: राजस्थान सरकार के वो तेज तर्रार अफसर जो कि ACB में तैनात हैं और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के एंटी करप्शन एजेंडे को लागू करने में जुटे हुए हैं. हम बात कर रहे हैं एसीबी के डीजी डॉक्टर आलोक त्रिपाठी की, जिन्होंने करीब 4 सालों में ही 1200 से ज्यादा ट्रैप किए हैं. वहीं इनको कंधे से कंधे मिलाकर के सहयोग दिया, एसीबी के एडीजी दिनेश एम एन ने.आइये हम आपको बताते है इस जोड़ी ने कैसे भ्रस्टाचार में लिप्त आरोपियों को जनता के सामने बेनकाब किया है.इसी कड़ी में अब इस टीम ने एक और बड़ी मछली पर कार्रवाई की है. एसीबी टीम ने अभी हाल ही में अजमेर की एमडीएस युनिवर्सिटी के वीसी आरपी सिंह को भी रिश्वत खोरी के आरोप में गिरफ्तार किया है.

एक के बाद एक बड़ी मछलियों को फांस रहे हैं कानून के शिकंजे में: 
एसीबी के डीजी आलोक त्रिपाठी के नेतृत्व में आईजी दिनेश एमएन एक के बाद एक बड़ी मछलियों को कानून के शिकंजे में फांस रहे हैं. इस टीम का एक ही मकसद है मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के एंटी करप्शन मेंडेट को पूरा करना, जो ये बखूबी कर रहे हैं. पहले कोटा में नारकोटिक्स डिपार्टमेंट में तैनात IRS सहीराम मीणा हो या फिर जयपुर के झोटवाड़ा के ACP आस मोहम्मद. इसी कड़ी में एक और बड़ा कदम उठाते हुए इन सुपर कॉप्स ने CBI में चल रहे घूसखोरी के खेल का पर्दाफाश किया था. अब हाल ही में एसीबी ने अजमेर की एमडीएस युनिवर्सिटी के वीसी आरपी सिंह को भी रिश्वत खोरी के आरोप में गिरफ्तार किया है.एमडीएस यूनिवर्सिटी के कुलपति आरपी सिंह के आवास पर हुई कार्रवाई से पूरे शिक्षा विभाग में हडकम्प मचा हुआ है.कैसे कुलपति कॉलेज संचालकों से पैसा लिया करता था और उन्हे पैसा देने के लिए किस तरह से परेशान करता था इस के टैक्नीकल एविडेंस एसीबी के पास मौजूद थे. बता दें कि डीजी आलोक त्रिपाठी के नेतृत्व में ये कोई पहली बड़ी कार्रवाई नहीं है, इससे पहले भी 4 सालो में त्रिपाठी के नेतृत्व में एसीबी ने कई बड़े आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

 -भरतपुर के रेंज डीआईजी  के नाम से रिश्वत मांगने वाले दलाल प्रमोद  को एसीबी ने 5 लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
-ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट में एक साथ कार्रवाई करते हुए 15 से अधिक आरटीओ अधिकारियो और दलालो को पकड़ा
श्रीगंगानर में कार्रवाई करते हुए एडिशनल एसपी को गिरफ्तार किया..
-माइनिंग विभाग के जॉइंट सेकेट्री बीड़ी कुमावत को रिश्वत लेते ट्रेप किया
-कोटा में जिला प्रमुख को रिश्वत लेते किया ट्रैप
-कोटा में कार्रवाई करते हुए IRS सहीराम मीणा को एक लाख की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों दबोचा था
-अफीम की खेती की आड़ में नारकोटिक्स महकमे में पनप रहे करप्शन के मकड़जाल को तोड़ा था
-सहीराम के ठिकानों पर तलाशी ली गई, तो सैकड़ों करोड़ रुपए की संपत्ति का खुलासा हुआ था
-धौलपुर एसडीएम को रिश्वत के साथ किया था ट्रैप

आलोक त्रिपाठी के निर्देश पर हुई 1200 से ज्यादा कार्रवाई: 
वहीं अगर पिछले 4 सालों की बात करे तो एसीबी डीजी आलोक त्रिपाठी के निर्देश पर 1200 से अधिक कार्रवाई हो चुकी है और बेईमानों को उनके ठिकाने पर पहुंचा दिया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जिस मकसद से डीजी आलोक त्रिपाठी और एडीजी दिनेश एम एन को ACB की ज़िम्मेदारी सौंपी है, उसे बहुत ही शानदार तरीके से ये टीम पूरा कर रही है और जिस रफ्तार से ये टीम घूसखोरों पर कार्रवाई कर रही है, उससे लगता है कि राजस्थान के हर विभाग से घूसखोरी का अंत होकर रहेगा और ईमानदारी सिर चढ़कर बोलेगी.  

और पढ़ें