कांग्रेस से ज्यादा भाजपा को अपनों से भीतरघात का खतरा

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/11/14 10:36

श्रीगंगानगर। लंबी मशक्कत और विचार-विमर्श के बाद भाजपा ने भले ही श्रीगंगानगर जिले की सूरतगढ़,रायसिंहनगर,सादुलशहर सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा कर दी,लेकिन यहां पार्टी में बगावत का ख़तरा मंडराने लगा है । रायसिंहनगर और सादुलशहर में तो भाजपा कार्यकर्ताओं ने टिकटों से वंचित रहे नेताओं के घर जाकर प्रत्याशियों की घोषणा पर रोष जताया और निर्दलीय चुनाव लड़ने की मांग की। ऐसे में अब माना जा रहा है कि ये नेता या तो बगावत करेंगे अथवा प्रत्याशी के साथ चलकर भी भीतरघात ही करेंगे। उधर तीन सीटों पर प्रत्याशियों की हुई घोषणा में पार्टी ने युवा और पार्टी के वफादार सिपाहियों को चुनाव मैदान में उतारा है । 

श्रीगंगानगर जिले की छह विधानसभा सीटों में से भाजपा द्वारा तीन सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा के बाद जहाँ उम्मीदवारों ने वोटरों की नब्ज टटोलनी शुरू कर दी है तो वहीँ पार्टी के बागियों से निपटने के लिए भाजपा के इन उम्मीदवारों को आने वाले दिनों में भारी मसकत करनी पड़ सकती है । सादुलशहर से टिकट कटने के बाद जहाँ बागी रणनीति बनाकर भितरघात की तैयारी में है तो वहीँ रायसिंहनगर और सूरतगढ़ सीटों पर भी बागियों से ख़तरा मंडराने लग गया है । रायसिंहनगर में भाजपा ने पिछली बार सोनादेवी बावरी के सामने चुनाव हार चुके बलवीर लूथरा पर ही भरोसा जताया है। लूथरा पिछले चुनाव में दूसरे नंबर पर रहे थे। 

हालांकि लूथरा पूरी तरह से निर्विवादित चेहरा हैं और पार्टी में उनका विरोध भी कम है। लूथरा की माने तो जनता की मांग पर भरोसा जताकर पार्टी ने उन पर विश्वाश जताकर भाजपा का प्रत्याशी बनाया है । भाजपा जिलाध्यक्ष हरिसिंह कामरा की माने तो पिछली गलतियों से सबक लेकर इस बार रायसिंहनगर सीट पर जित हाशिल की जाएगी। लेकिन भाजपा प्रत्याशी लूथरा के सामने सांसद निहालचंद के भाई लालचंद मेघवाल टिकट मांग रहे थे। निहालचंद खुद इसके लिए आलाकमान तक सिफारिश कर रहे थे। उन्हें उम्मीद भी थी कि टिकट उन्ही के परिवार को मिलेगी। मगर अब टिकट काटने से इनके द्वारा भितरघात करके पार्टी को यहाँ नुकसान पहुंचाया जा सकता है । 

सूरतगढ़ विधानसभा से विधायक राजेंद्र भादू की टिकट काटकर रामप्रताप कासनिया को उम्मीदवार बनाने से विधायक राजेंद्र भादू अंदरखाते नाराज नजर आते है । भादू रामप्रताप कासनिया के साथ रहकर भी भीतरघात कर सकते है । कासनिया के रिकार्ड की बात करें तो वे 6 चुनाव लड़े हैं, जिनमें तीन जीते हैं। ये तीनों चुनाव उन्होंने पीलीबंगा विधानसभा से जीते हैं। सूरतगढ़ से उनका यह दूसरा चुनाव है । उधर जिले की हॉट सीट कहे जाने वाली सादुलशहर विधानसभा से गुरवीर का पहला चुनाव,लेकिन बड़ा खतरा यहां की चौकड़ी से है । सादुलशहर में विधायक गुरजंटसिंह बराड़ के पार्टी में ही धुर विरोधी डा.बृजमोहन सहारण,पूर्व प्रधान हरभगवान सिंह बराड़,किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष आत्माराम तरड़ एवं सादुलशहर से प्रदीप खीचड़ की चौकड़ी टिकट मांग रही थी। लेकिन यहां टिकट विधायक गुरजंटसिंह बराड़ के पौते गुरवीर बराड़ को दे दी गई। 

लिहाजा अब चारों ही नेता पार्टी से नाराज हैं। ऐसे में यह तय है कि गुरवीर को इन नेताओं से भीतरघात का खतरा रहेगा। हालाँकि राजनीती के दिग्गज कहें जाने वाले विधायक गुरजंट सिंह बराड़ का अपने क्षेत्र में अलग ही प्रभाव है और वे विकास पुरुष के रूप में माने जाते है । ऐसे में दादा के विकास का पोते को फायदा मिल सकता है । तभी पोता दादा से विरासत में मिली राजनीती से फायदा मिलने की बात कह रहे है । वही गुरवीर का युवा होना और युवाओ में पकड़ होना भी पार्टी को फायदा दिलाएगा। गुरवीर की माने तो बुजुर्गो के आशीर्वाद से ही वे यहाँ तक पहुंचे है और पार्टी ने बुजुर्गो के लिए जो योजनाए चलाई है उनसे बुजुर्गो को फ़ायदा भी दिलाया जायेगा। हॉटसीट कही जाने वाली सादुलशहर विधानसभा सीट से दोनों ही पार्टियों के दावेदार अधिक होने की वजह से यहाँ हर बार मुकाबला कड़ा रहता है । ऐसे में भाजपा प्रत्याशी रूठे हुए कार्यकर्ताओ को मनाने में लगे है तो वही बागियों से निपटने के लिए राजनितिक बिसात बिछा रहे है। 

श्रीगंगानगर जिले में भाजपा ने तीनो ही सीटें सर्वे रिपोर्ट के बाद सोच समझकर जिताऊ उम्मीदवारों की घोषणा करके प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारा है । ऐसे में पार्टी में भितरघात नहीं होता है तो तीनो सीटें मजबूत इस्तिथि में नजर आ रही है । उधर कांग्रेस इन प्रत्याशियों का तोड़ निकालकर किस रणनीति के साथ जित और बढ़ेगी इंतजार ऐसी का है । 
काका सिंह 1st इंडिया न्यूज़ लालगढ जाटान श्री गंगानगर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in