दुष्कर्म के मामले के बावजूद मुंबई महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित शहर - शिवसेना

दुष्कर्म के मामले के बावजूद मुंबई महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित शहर - शिवसेना

दुष्कर्म के मामले के बावजूद मुंबई महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित शहर - शिवसेना

मुंबई: शिवसेना ने सोमवार को कहा कि यहां एक महिला के साथ हुए नृशंस दुष्कर्म और हत्या ने सभी को झकझोर कर रख दिया लेकिन मुंबई दुनिया में महिलाओं के लिए ‘‘सबसे सुरक्षित शहर’’ है और इसे लेकर किसी के मन में कोई संदेह नहीं होना चाहिए.

शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' के संपादकीय में कहा गया है कि महाराष्ट्र में महिलाओं के खिलाफ अपराध की हालिया घटनाएं राज्य की संस्कृति पर एक 'धब्बा' हैं और लोगों में गुस्सा उचित है. पुलिस ने पहले कहा था कि उपनगरीय साकीनाका में शुक्रवार तड़के एक खड़े टेम्पो के अंदर एक व्यक्ति ने 34 वर्षीय एक महिला के साथ दुष्कर्म और क्रूरता की. शनिवार तड़के एक अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी.

दिल्ली में 2012 में हुए ‘निर्भया’ सामूहिक दुष्कर्म की याद ताजा कर दी:
मुंबई में हुई दुष्कर्म की इस घटना ने दिल्ली में 2012 में हुए ‘निर्भया’ सामूहिक दुष्कर्म की याद ताजा कर दी. घटना के कुछ घंटों के भीतर गिरफ्तार किए गए 45 वर्षीय संदिग्ध पर बाद में हत्या का आरोप लगाया गया. ‘सामना’ ने कहा, ‘‘साकीनाका में महिला के दुष्कर्म और हत्या ने सभी को झकझोर दिया है लेकिन, मुंबई महिलाओं के लिए दुनिया का अत्यंत सुरक्षित शहर है और किसी के भी मन में इस बारे में कोई संदेह नहीं होना चाहिए.’’

दुष्कर्म और हत्या जैसी घटनाएं एक ‘‘भयंकर विकृति’’ के कारण:
इसमें कहा गया है कि यहां साकीनाका इलाके में एक महिला के साथ दुष्कर्म और हत्या जैसी घटनाएं एक ‘‘भयंकर विकृति’’ के कारण होती हैं, जिसे दुनिया के किसी भी हिस्से में देखा जा सकता है और मुंबई की घटना की तुलना हाथरस (उत्तर प्रदेश में जहां पिछले वर्ष 19 वर्षीय दलित युवती की सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी) मामले से करना पूरी तरह से गलत है. संपादकीय में दावा किया गया कि हाथरस मामले के दोषियों को ‘‘राज्य के हुक्मरानों का प्रश्रय’’ था और दोषियों की गिरफ्तारी में देरी हुई थी. इसमें आरोप लगाया गया है कि सरकार ने सबूत मिटाने के लिए आनन-फानन में पीड़िता के शव को जला दिया था.

आरोपी को ‘‘बचाने’’ के लिए एक विशेष राजनीतिक दल के कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए:
मराठी दैनिक ने कहा कि योगी सरकार ने कहा था कि हाथरस में कोई दुष्कर्म नहीं हुआ, जो गलत साबित हुआ. उसने कहा कि जिस तत्परता के साथ राष्ट्रीय महिला आयोग की टीम साकीनाका पहुंची, वह हाथरस मामले में नहीं दिखाई दी. संपादकीय के अनुसार कठुआ (2018 में जम्मू-कश्मीर में एक नाबालिग लड़की की) दुष्कर्म मामले के आरोपी को ‘‘बचाने’’ के लिए एक विशेष राजनीतिक दल के कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए, जबकि साकीनाका घटना में पुलिस ने 10 मिनट में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस अपराध के सभी दृश्यों पर मौजूद नहीं हो सकती:
शिवसेना ने कहा कि ऐसे मामलों का एकमात्र समाधान विकृत मानसिकता पर अंकुश लगाना है. इसमें सवाल किया गया है कि राज्य सरकार ने साकीनाका पीड़िता की दो बेटियों की शिक्षा और आजीविका का ख्याल रखने का फैसला किया है. क्या यह संवेदनशील होने का संकेत नहीं है? उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी ने मुंबई के पुलिस आयुक्त हेमंत नगराले की इस टिप्पणी का भी बचाव किया कि पुलिस अपराध के सभी दृश्यों पर मौजूद नहीं हो सकती है. पार्टी ने कहा कि अन्य सभी राज्यों और शहरों की पुलिस इससे सहमत होगी.

डॉक्टरों और पुलिस के सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद महिला ने दम तोड़ दिया:
इसने कहा कि साकीनाका दुष्कर्म पीड़िता और आरोपी एक-दूसरे को जानते थे और कहा कि डॉक्टरों और पुलिस के सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद महिला ने दम तोड़ दिया. महाराष्ट्र में राकांपा और कांग्रेस के साथ सत्ता साझा कर रही शिवसेना ने कहा कि अब, मामले को न्यायपालिका पर छोड़ दें. अपराधी को हाथरस और कठुआ (मामलों) के विपरीत निश्चित रूप से फांसी पर लटकाया जाएगा क्योंकि आरोपी के समर्थन में कोई भी सामने नहीं आया है. किस मुद्दे व प्रकरण पर राजनीति करनी है, इसका भान रखना ही चाहिए.

जब मगरमच्छ के आंसू बहाए जाते हैं, तो यह भय पैदा करता है: 
इसने कहा कि साकीनाका की घटना पर आंसू बहाना "मन की संवेदनशीलता" को दर्शाता है, लेकिन जब मगरमच्छ के आंसू बहाए जाते हैं, तो यह भय पैदा करता है और घटना की गंभीरता नष्ट हो जाती है. संपादकीय में राज्य के नेताओं से संबंधित कई मामलों की जांच केंद्रीय एजेंसियों द्वारा किये जाने की ओर इशारा करते हुए व्यंग्यात्मक रूप से कहा गया है, ‘‘पुलिस को अपना काम करने दें. लेकिन, अगर कोई साकीनाका (मामले) की फाइल ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) को सौंपना चाहता है, तो कोई क्या कर सकता है.’’ सोर्स- भाषा 

और पढ़ें