नई दिल्ली Delhi: मनीष सिसोदिया बोले- एक एनजीओ के लिए सीएसआर कोष लाने के लिए काम कर रहे हैं नगर निगम के अधिकारी

Delhi: मनीष सिसोदिया बोले- एक एनजीओ के लिए सीएसआर कोष लाने के लिए काम कर रहे हैं नगर निगम के अधिकारी

Delhi: मनीष सिसोदिया बोले- एक एनजीओ के लिए सीएसआर कोष लाने के लिए काम कर रहे हैं नगर निगम के अधिकारी

नई दिल्ली: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सोमवार को आरोप लगाया कि भाजपा के नेतृत्व वाले नगर निगमों के अधिकारी एक एनजीओ की ‘स्मार्ट क्लासरूम’ परियोजना के लिए सीएसआर कोष लाने के लिए काम कर रहे हैं. यह गैर सरकारी संगठन (NGO) भाजपा की शहर इकाई के प्रमुख के करीबी लोगों द्वारा कथित तौर पर चलाया जा रहा है.

सिसोदिया ने इसे ‘‘भ्रष्टाचार में लिप्त होने का एक नया तरीका’’ बताया है. दिल्ली में तीन नगर निगम हैं और एक नए कानून के अनुसार, इन निगमों का जल्द ही एकीकरण कर दिया जायेगा. भारतीय जनता पार्टी (BJP) की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष आदेश गुप्ता से इस संबंध में तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी है. सिसोदिया ने आरोप लगाया कि हम जानते हैं कि कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व कोष (सीएसआर) का इस्तेमाल एक एनजीओ के साथ मिलकर किया जा रहा है. यह नगर निगमों द्वारा भ्रष्टाचार में लिप्त होने का एक नया तरीका है. स्मार्ट क्लासरूम परियोजना के लिए सीएसआर के माध्यम से निधि जुटाने और इसे एक एनजीओ को सौंपने के लिए उपायुक्त-रैंक के एक अधिकारी के नेतृत्व में अधिकारियों की एक टीम बनाई गई है. 

यह एनजीओ भाजपा की दिल्ली के प्रमुख आदेश गुप्ता के करीबी लोग चला रहे हैं. हालांकि, उपमुख्यमंत्री ने यह नहीं बताया कि यह परियोजना शहर के किसी विशेष नगर निगम से संबंधित है या नहीं. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि हस्ताक्षर किए गए समझौता ज्ञापन (एमओयू) में, ऐसा लगता है कि इस तरह का एनजीओ ‘‘वास्तव में मौजूद ही नहीं है’’ और इसके पिछले कार्यों का ‘‘कोई विवरण नहीं’’ है. उन्होंने कहा कि जल्द ही एक नई एमसीडी आएगी, और नगर निगम चुनावों के बाद, भाजपा के लिए जाने का समय होगा. सोर्स- भाषा

और पढ़ें