Live News »

नासा ने एक बार फिर रचा इतिहास, SpaceX के अंतरिक्षयान से दो अंतरिक्ष यात्रियों को धरती से भेजा स्पेस 

 नासा ने एक बार फिर रचा इतिहास, SpaceX के अंतरिक्षयान से दो अंतरिक्ष यात्रियों को धरती से भेजा स्पेस 

नई दिल्ली: नासा ने एक बार फिर से इतिहास रच दिया है. अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने पहली बार प्राइवेट कंपनी स्पेसएक्स के अंतरिक्षयान से दो लोगों को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन भेजा है. अमेरिका ने 9 साल में पहली बार अपनी धरती से अंतरिक्ष में अंतरिक्ष यात्री भेजे हैं. नासा के ऐडमिनिस्ट्रेटर जिम ब्राइडेनस्टीन ने लॉन्च के बारे में जानकारी दी. चांद को छूने के लिए पृथ्वी से पहली उड़ान इसी जॉन एफ केनेडी सेंटर से रखी गई थी.अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी इस ऐतिहासिक पल के गवाह बने. ट्रंप के साथ में बेटी इवांका और दामाद जेयर्ड भी थे.

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने जारी किया टाइम टेबल, 12वीं की परीक्षाएं होंगी 18 जून से 30 जून के बीच 

19 घंटे के सफर के बाद अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन पहुंचेंगे:
स्पेसएक्स के जिस अंतरिक्ष यान में नासा के 2 अंतरिक्ष यात्रियों को भेजा गया है उसका नाम द क्रू ड्रैगन है. द क्रू ड्रैगन में यात्री के रूप में नासा के एस्ट्रोनॉट बॉब बेनकेन और डग हर्ली सवार हैं जो 19 घंटे के सफर के बाद अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन पहुंचेंगे. इस मिशन के लिए एस्ट्रोनॉट बॉब बेनकेन और डग हर्ली का चयन वर्ष 2000 में ही हो चुका था. दोनों ही स्पेस शटल के ज़रिए 2-2 बार अंतरिक्ष में जा चुके हैं. जोखिम कम से कम हो इसलिए अमेरिका के सबसे भरोसेमंद रॉकेट फॉल्कन-9 से लॉन्चिंग की गई.

दोनों अंतरिक्ष यात्री सभी तैयारियों के साथ हुए सवार: 
अमेरिकी समय के अनुसार दोपहर 3 बजकर 22 मिनट पर रॉकेट को लॉन्च किया गया. दोनों अंतरिक्ष यात्री सभी तैयारियों के साथ SpaceX रॉकेट में सवार हुए. काउंटडाउन खत्म होने के साथ ही यान अंतरिक्ष की ओर उड़ चला. इससे पहले बुधवार को खराब मौसम की वजह से लॉन्चिंग को तय समय से 16 मिनट पहले टालना पड़ा था.

हरियाणा में खुलेंगे धार्मिक स्थल, होटल, रेस्टोरेंट, कंटेनमेंट जोन में 30 जून तक रहेगा लॉकडाउन

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Political Crisis: उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए गए सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा भी बर्खास्त

 Rajasthan Political Crisis:  उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए गए सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा भी बर्खास्त

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम के चलते कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद केसी वेणुगोपाल, अविनाश पांडे, रणदीप सुरजेवाला और अजय माकन ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने तीन मंत्रियों को बर्खास्त किया है. इसमे सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा शामिल है. वहीं सचिन पायलट को पीसीस चीफ पदे से भी हटाया गया है. उनके स्थान पर  गोविंद सिंह डोटासरा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बने हैं. वहीं मुकेश भाकर को यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर उनके स्थान पर गणेश घूघरा को यूथ कांग्रेस अध्यक्ष बनाया गया है. वहीं हेमसिंह शेखावत सेवादल प्रदेशाध्यक्ष होंगे. 

8 करोड़ जनता के सम्मान को चुनौती:  
कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने एक षडयंत्र के तहत राजस्थान की 8 करोड़ जनता के सम्मान को चुनौती दी है. बीजेपी ने साजिश के तहत कांग्रेस की सरकार को अस्थिर कर गिराने की साजिश की है. बीजेपी धनबल और सत्ताबल से कांग्रेस पार्टी और निर्दलीय विधायकों को खरीदने की कोशिश की है.

सचिन पायलट भ्रमित होकर बीजेपी के जाल में फंस गए: 
रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सचिन पायलट भ्रमित होकर बीजेपी के जाल में फंस गए और कांग्रेस सरकार गिराने में लग गए. पिछले 72 घंटे से कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट और अन्य नेताओं से संपर्क करने की कोशिश की. कांग्रेस की ओर से लगातार सचिन पायलट को मनाने की कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने लगातार हर बात को नकारा.


 

Rajasthan Political Crisis: भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर का बड़ा बयान, कहा- सचिन पायलट के लिए दरवाजे खुले

Rajasthan Political Crisis: भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर का बड़ा बयान, कहा- सचिन पायलट के लिए दरवाजे खुले

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम पर भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर का बड़ा बयान आया है. उन्होंने कहा कि सचिन पायलट के लिए दरवाजे खुले हैं. सचिन पायलट पार्टी में आते हैं तो उनका स्वागत होगा. साथ ही कहा कि कांग्रेस ने पायलट के साथ अच्छा बर्ताव नहीं किया. सियासी संकट कांग्रेस का अंदरूनी मामला है. पहले से प्रस्तावित दौरे पर ओम माथुर दिल्ली से जयपुर के लिए रवाना हो गए हैं. 

Rajasthan Political Crisis: बागियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई का प्रस्ताव पारित, कांग्रेस विधायक दल की बैठक जारी  

बीजेपी राज्य में संभावनाएं तलाश कर रही: 
वहीं राजस्थान बीजेपी की बैठक की भी खबरें आ रही हैं. गुलाबचंद कटारिया और राजस्थान बीजेपी के अध्यक्ष सतीश पूनिया इस बैठक में शामिल हैं. माना जा सकता है कि राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच बीजेपी राज्य में संभावनाएं तलाश कर रही है.

कांग्रेस ने बागियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई का प्रस्ताव पारित किया:
माथुर का बयान ऐसे समय में सामने आया जब कांग्रेस ने बागियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई का प्रस्ताव पारित किया. मंत्री शांति धारीवाल ने अनुशासनात्मक कार्रवाई का प्रस्ताव रखा जिसका सभी विधायकों ने दोनों हाथ खड़े करके समर्थन किया. वहीं बैठक में 109 विधायकों का दावा किया जा रहा है. 

विधायकों ने अशोक गहलोत को ही अपना नेता करार दिया: 
इससे पहले गहलोत समर्थक विधायकों ने बागियों पर कार्रवाई की मांग उठाई है. कांग्रेस पार्टी पायलट के आने की उम्मीद लगाई बैठी थी लेकिन सचिन पायलट की ओर से बिल्कुल मना कर दिया गया. बैठक में विधायकों ने अशोक गहलोत को ही अपना नेता करार दिया है. सभी विधायक अशोक गहलोत का समर्थन कर रहे हैं. ऐसे में सचिन पायलट गुट को ये बड़ा झटका माना जा रहा है. 

कांग्रेस ने पायलट पर कार्रवाई करने का मन बना लिया: 
वहीं कांग्रेस अब विधायक दल की बैठक में नहीं शामिल हुए विधायकों को नोटिस भेजने की तैयारी में है. पार्टी की ओर से बार-बार विधायकों को चेतावनी दी गई थी, लेकिन कोई भी शामिल नहीं हुआ. वहीं सूत्रों की माने तो अब कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट से और कोई बात नहीं करने का मन बना लिया है. उनका मानना है कि पायलट को मनाने की जितनी कोशिश हो सकती थी वो की जा चुकी हैं. ऐसे में अब माना जा सरहा है कि कांग्रेस ने पायलट पर कार्रवाई करने का मन बना लिया है और उनके समर्थक विधायकों पर भी सख्त फैसला लिया जा सकता है. 

VIDEO: सचिन पायलट समर्थक विधायक भंवरलाल शर्मा का बयान, कहा- फ्लोर टेस्ट में सब कुछ क्लीयर हो जाएगा 

रणदीप सुरजेवाला व अविनाश पांडे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे:
कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले सीएम अशोक गहलोत ने केसी वेणुगोपाल, रणदीप सुरजेवाला, अविनाश पांडे,अजय माकन और विवेक बंसल से अमह चर्चा की. चर्चा में आगे की रणनीति पर बात हुई. इसके साथ ही विधायक दल की बैठक के बाद रणदीप सुरजेवाला व अविनाश पांडे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में बागियों पर कार्रवाई की मांग उठी

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में बागियों पर कार्रवाई की मांग उठी

जयपुर: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गहलोत समर्थक विधायकों ने बागियों पर कार्रवाई की मांग उठाई है. इससे पहले कांग्रेस पार्टी पायलट के आने की उम्मीद लगाई बैठी थी लेकिन सचिन पायलट की ओर से बिल्कुल मना कर दिया गया. वहीं बैठक में विधायकों ने अशोक गहलोत को ही अपना नेता करार दिया है. सभी विधायक अशोक गहलोत का समर्थन कर रहे हैं. ऐसे में सचिन पायलट गुट को ये बड़ा झटका माना जा रहा है.

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू, अपनी बात मनवाने पर अड़ा पायलट गुट!  

कांग्रेस ने पायलट पर कार्रवाई करने का मन बना लिया: 
वहीं कांग्रेस अब विधायक दल की बैठक में नहीं शामिल हुए विधायकों को नोटिस भेजने की तैयारी में है. पार्टी की ओर से बार-बार विधायकों को चेतावनी दी गई थी, लेकिन कोई भी शामिल नहीं हुआ. वहीं सूत्रों की माने तो अब कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट से और कोई बात नहीं करने का मन बना लिया है. उनका मानना है कि पायलट को मनाने की जितनी कोशिश हो सकती थी वो की जा चुकी हैं. ऐसे में अब माना जा सरहा है कि कांग्रेस ने पायलट पर कार्रवाई करने का मन बना लिया है और उनके समर्थक विधायकों पर भी सख्त फैसला लिया जा सकता है. 

रणदीप सुरजेवाला व अविनाश पांडे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे:
कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले सीएम अशोक गहलोत ने केसी वेणुगोपाल, रणदीप सुरजेवाला, अविनाश पांडे,अजय माकन और विवेक बंसल से अमह चर्चा की. चर्चा में आगे की रणनीति पर बात हुई. इसके साथ ही विधायक दल की बैठक के बाद रणदीप सुरजेवाला व अविनाश पांडे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. 

VIDEO: सचिन पायलट समर्थक विधायक भंवरलाल शर्मा का बयान, कहा- फ्लोर टेस्ट में सब कुछ क्लीयर हो जाएगा 

कांग्रेस से जनता का मोहभंग हो चुका: 
दूसरी ओर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राजस्थान के सियासी संकट पर कहा है कि कांग्रेस से जनता का मोहभंग हो चुका है. वहीं गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने कहा है कि आज शाम तक राजस्थान संकट सुलझ जाएगा और अशोक गहलोत और सचिन पायलट अपने बीच के मतभेदों को सुलझा लेंगे. 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू, अपनी बात मनवाने पर अड़ा पायलट गुट!

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू, अपनी बात मनवाने पर अड़ा पायलट गुट!

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच एक बार फिर विधायक दल की बैठक शुरू हो गई है. कांग्रेस के विधायक जयपुर के फेयरमॉन्ट होटल में है. बैठक में विधायकों ने अशोक गहलोत को ही अपना नेता करार दिया है. वहीं सूत्रों की माने तो सचिन पायलट आज होने वाली विधायक दल की बैठक में नहीं पहुंचे तो उन पर कार्रवाई हो सकती है. इसके अलावा सचिन पायलट के समर्थक विधायक भी अगर बैठक में नहीं आए तो उनपर भी कार्रवाई के लिए विधानसभा अध्यक्ष से उनकी सदस्यता रद्द करने के लिए कहा जा सकता है. 

 VIDEO: सचिन पायलट समर्थक विधायक भंवरलाल शर्मा का बयान, कहा- फ्लोर टेस्ट में सब कुछ क्लीयर हो जाएगा 

गहलोत को सीएम के पद से हटाने पर ही समझौता हो पाएगा: 
राजस्थान में पायलट का गुट अपनी बात पर अड़ गया है. पायलट गुट के विधायकों ने कहा कि जब तक मान सम्मान की गारंटी नहीं होगी, तब तक वापसी नहीं होगी और मान-सम्मान तब तक वापस नहीं मिलेगा जब तक लीडरशिप चेंज नहीं होगा. सूत्रों के मुताबिक पायलट गुट ने आलाकमान के पास संदेश भिजवा दिया है कि अशोक गहलोत को सीएम के पद से हटाने पर ही समझौता हो पाएगा. फिलहाल जयपुर आने का कोई कार्यक्रम नहीं है और बीजेपी में जाने का भी कोई कार्यक्रम नहीं है.

सचिन पायलट को बीजेपी में आना चाहिए: 
दूसरी ओर राजस्थान बीजेपी के अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा है कि सचिन पायलट को बीजेपी में आना चाहिए क्योंकि बीजेपी में युवा शक्ति का सम्मान होता है और सीनियर नेताओं को भी पूरा आदर दिया जाता है. सचिन पायलट को बीजेपी में आने के बारे में सोचना चाहिए.

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ मीटिंग कर रहे सीएम गहलोत, आगे की रणनीति पर कर रहे चर्चा 

सौ से अधिक विधायकों को साथ लेकर गहलोत ने अपनी ताकत दिखाई: 
जयपुर में सोमवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई, जिसमें सौ से अधिक विधायकों को साथ लेकर अशोक गहलोत ने अपनी ताकत दिखाई. साथ ही साफ कर दिया कि विधायक उनके साथ हैं. लेकिन अब एक बार फिर आज पार्टी ने बैठक बुलाई है. जिसमें सचिन पायलट समेत अन्य विधायकों को एक मौका और दिया है. 

VIDEO: सचिन पायलट समर्थक विधायक भंवरलाल शर्मा का बयान, कहा- फ्लोर टेस्ट में सब कुछ क्लीयर हो जाएगा

VIDEO: सचिन पायलट समर्थक विधायक भंवरलाल शर्मा का बयान, कहा- फ्लोर टेस्ट में सब कुछ क्लीयर हो जाएगा

जयपुर: राजस्थान में कांग्रेस के भीतर चल रहे सत्ता के संघर्ष के बीच सचिन पायलट समर्थक विधायक भंवरलाल शर्मा का बड़ा बयान सामने आया है. फर्स्ट इंडिया न्यूज से बात करते हुए उन्होंने स्वीकार किया है कि हम दिल्ली में हैं. साथ ही सियासी उठापठक बात करते हुए कहा कि फ्लोर टेस्ट में सब कुछ क्लीयर हो जाएगा. हमारी पार्टी के प्रति नाराजगी नहीं है. 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ मीटिंग कर रहे सीएम गहलोत, आगे की रणनीति पर कर रहे चर्चा 

हमारा चेहरा सचिन पायलट:  
इसके साथ ही क्लीयर करते हुए कहा कि बीजेपी में जाएंगे नहीं, नेतृत्व बदला जाए. हमारा चेहरा सचिन पायलट है. वहीं विधायक शर्मा ने कहा कि हम उप चुनाव भी लड़ने के लिए तैयार है. रात को सचिन पायलट हमारे साथ थे, अभी नहीं है. 

Rajasthan Political Crisis: आज फिर होगी कांग्रेस विधायक दल की बैठक, सचिन पायलट को भी बुलाया 

अशोक गहलोत ने अपनी ताकत दिखाई: 
इससे पहले जयपुर में सोमवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई, जिसमें सौ से अधिक विधायकों को साथ लेकर अशोक गहलोत ने अपनी ताकत दिखाई. साथ ही साफ कर दिया कि विधायक उनके साथ हैं. लेकिन अब एक बार फिर आज पार्टी ने बैठक बुलाई है. जिसमें सचिन पायलट समेत अन्यों को न्योता दिया गया है. हालांकि, सचिन आएंगे या नहीं, ये साफ नहीं है.

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ मीटिंग कर रहे सीएम गहलोत, आगे की रणनीति पर कर रहे चर्चा

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ मीटिंग कर रहे सीएम गहलोत, आगे की रणनीति पर कर रहे चर्चा

जयपुर: राजस्थान में कांग्रेस के भीतर ही शुरू हुआ सत्ता का संघर्ष अभी थमने का नाम ही नहीं ले रहा. कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले मुख्यमंत्री गहलोत कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ मीटिंग कर रहे हैं. मीटिंग में सुरजेवाला, माकन व अविनाश पांडे के साथ महेश जोशी और शांति धारीवाल भी मौजूद है. मीटिंग में आगे की रणनीति पर चर्चा कर रहे हैं. 

Rajasthan Political Crisis: आज फिर होगी कांग्रेस विधायक दल की बैठक, सचिन पायलट को भी बुलाया 

पायलट व बागी विधायकों को मौका दिया जा रहा:  
वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आज बैठक से पहले पायलट व बागी विधायकों को मौका दिया जा रहा है. हालांकि पायलट व समर्थक विधायक बैठक में नहीं आएंगे. वहीं कांग्रेस कार्रवाई से पहले सुलह के अंतिम प्रयास का संदेश देना चाहती है ताकि विधायक न कह सके कि बात करने का मौका नहीं दिया गया. 

सचिन पायलट से बैठक में आने की अपील: 
दूसरी ओर बैठक से पहले कांग्रेस नेता अविनाश पांडे ने सचिन पायलट से बैठक में आने की अपील की है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि मैं पायलट और उनके सभी साथी विधायकों से अपील करता हूं कि वे आज की विधायक दल की बैठक में शामिल हों. कांग्रेस की विचारधारा और मूल्यों में अपना विश्वास जताते हुए कृपया अपनी उपस्थिति निश्चित करें व सोनिया गांधी व राहुल गांधी के हाथ मजबूत करें. 

भारत में नकली अयोध्या बताकर घर में ही घिरे पीएम केपी ओली 

अशोक गहलोत ने अपनी ताकत दिखाई:
जयपुर में सोमवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई, जिसमें सौ से अधिक विधायकों को साथ लेकर अशोक गहलोत ने अपनी ताकत दिखाई. साथ ही साफ कर दिया कि विधायक उनके साथ हैं. लेकिन अब एक बार फिर आज पार्टी ने बैठक बुलाई है. जिसमें सचिन पायलट समेत अन्यों को न्योता दिया गया है. हालांकि, सचिन आएंगे या नहीं, ये साफ नहीं है.
 

भारत में नकली अयोध्या बताकर घर में ही घिरे पीएम केपी ओली

भारत में नकली अयोध्या बताकर घर में ही घिरे पीएम केपी ओली

काठमांडू: नेपाल (Nepal) के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली (KP Sharma Oli) ने दावा किया कि भारत ने सांस्कृतिक अतिक्रमण के लिए नकली अयोध्या का निर्माण किया है. जबकि, असली अयोध्या नेपाल में है. ओली ने सवाल किया कि उस समय आधुनिक परिवहन के साधन और मोबाइल फोन (संचार) नहीं था तो राम जनकपुर तक कैसे आए? उन्होंने दावा किया कि लेकिन, हमने भारत में स्थित अयोध्या के राजकुमार को सीता नहीं दी. बल्कि नेपाल के अयोध्या के राजकुमार को दी थी. अयोध्या एक गांव हैं जो बीरगंज के थोड़ा पश्चिम में स्थित है. भारत में बनाया गया अयोध्या वास्तविक नहीं है. 

Rajasthan Political Crisis: आज फिर होगी कांग्रेस विधायक दल की बैठक, सचिन पायलट को भी बुलाया 

बेतुकी टिप्पणी पर वे अब घर में घिरते नजर आ रहे:  
वहीं ओपी की इस बेतुकी टिप्पणी पर वे अब घर में घिरते नजर आ रहे हैं. सोशल मीडिया पर ओली के इस बयान का मजाक किया जा रहा है, इसके साथ नेपाल के कई बड़े नेता भी इस टिप्पणी को लेकर आपत्ति जाहिर कर रहे हैं. इससे पहले भी नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी (NCP) पहले ही ओली को भारत विरोधी बयानों के लिए चेतावनी दे चुकी है. 

धर्म राजनीति और कूटनीति से ऊपर: 
नेपाली लेखक और पूर्व विदेश मंत्री रमेश नाथ पांडे ने ट्वीट किया है कि धर्म राजनीति और कूटनीति से ऊपर है. यह एक बड़ा भावनात्मक विषय है. अबूझ भाव और ऐसी बयानबाज़ी से आप केवल शर्मिंदगी महसूस करते हैं. और अगर असली अयोध्या बीरगंज के पास है तो फिर सरयू नदी कहाँ है?

आदि-कवि ओली द्वारा रचित कल युग की नई रामायण सुनिए:
वहीं नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री बाबू राम भट्टाराई ने ओली के बयान पर व्यंग्य करते हुए लिखा है कि आदि-कवि ओली द्वारा रचित कल युग की नई रामायण सुनिए, सीधे बैकुंठ धाम का यात्रा करिए.

कांग्रेस विधायक दानिश अबरार बोले, सरकार के पास बहुमत से ज्यादा नंबर हैं

इस तरह के निराधार, अप्रमाणित बयानों से बचना चाहिए:
राष्ट्रीय प्रजातांत्री पार्टी के सह-अध्यक्ष कमल थापा ने ट्वीट कर कहा कि प्रधानमंत्री के लिए इस तरह के निराधार, अप्रमाणित बयानों से बचना चाहिए. थापा ने ट्वीट किया कि  ऐसा लग रहा है कि पीएम तनावों को हल करने के बजाय नेपाल-भारत संबंधों को और खराब करना चाहते हैं. सिर्फ कमल ही नहीं नेपाल राष्ट्रीय योजना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष स्वर्णिम वागले ने चेतावनी दी कि भारतीय मीडिया पीएम के ऐसे बयान से विवादास्पद सुर्खियां बटोर सकता है और बना सकता है. 

Rajasthan Political Crisis: आज फिर होगी कांग्रेस विधायक दल की बैठक, सचिन पायलट को भी बुलाया

Rajasthan Political Crisis: आज फिर होगी कांग्रेस विधायक दल की बैठक, सचिन पायलट को भी बुलाया

जयपुर: राजस्थान में चले रही सियासी खिंचतान को सुलझाने में लगातार आलाकमान की कोशिशें जारी है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार राहुल गांधी और प्रियंका गांधी समेत कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता उनके संपर्क में हैं. कांग्रेस आलाकमान चाहता है कि पायलट आगे कोई भी बात बढ़ाने से पहले वे जयपुर में विधायक दल की बैठक में शामिल हों. 

पायलट समर्थित विधायकों का पहला वीडियो, समर्थकों का दावा, कल नहीं होंगे पायलट विधाय​क दल की बैठक में शामिल 

पायलट अभी अपने समर्थकों को एकजुट रख पाने में सक्षम नहीं: 
इससे पहले रविवार को पायलट ने गहलोत के खिलाफ खुलकर मोर्चा खोल दिया था और दावा किया था कि उनके पास 30 से अधिक विधायकों का समर्थन है और अशोक गहलोत सरकार अल्पमत में आ चुकी है. वहीं कांग्रेस के एक सीनियर नेता की मानें तो सचिन पायलट अभी अपने समर्थकों को एकजुट रख पाने में सक्षम नहीं हैं क्योंकि वे चाहते हैं कि विधायक पहले इस्तीफा दें, जबकि विधायक इसके लिए तैयार नहीं हैं.

पार्टी आलाकमान इस मामले को अब और ज्यादा नहीं खींचना चाहता: 
सूत्रों की माने तो पार्टी आलाकमान इस मामले को अब और ज्यादा नहीं खींचना चाहता और कोशिश है कि मंगलवार तक इसका समाधान निकल जाए. आलाकमान को लगता है कि सचिन पायलट का ऐसे वक्त में अड़ जाना सही फैसला नहीं है जबकि उन्हें महज 15 विधायकों का ही समर्थन प्राप्त है. वहीं पायलट से जुड़े सूत्रों की माने तो वो अभी भी अपने मांगों को लेकर अड़े हुए हैं. वहीं पार्टी को सचिन की कुछ मांगे अनुचित लग रही है और नेताओं द्वारा मामले को सुलझाने का प्रयास जारी है.

कांग्रेस विधायक दानिश अबरार बोले, सरकार के पास बहुमत से ज्यादा नंबर हैं 

आइए राजनीतिक यथास्थिति पर चर्चा करें:
वहीं कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने जयपुर में कहा कि एक बार फिर हम सचिन पायलट, सभी विधायक साथियों को लिखकर भी भेज रहे हैं. उनसे अनुरोध करते हैं कि आइए राजनीतिक यथास्थिति पर चर्चा करें. राजस्थान को कैसे मजबूत करें, ये चर्चा करें. अगर किसी व्यक्ति विशेष से कोई मतभेद है तो खुले मन से वो भी कहिए, कांग्रेस नेतृत्व... सोनिया गांधी और राहुल गांधी सबकी बात सुनने और उसका हल निकालने के लिए संपूर्ण रूप से तैयार हैं. 


 

Open Covid-19