स्कूल में बच्चे की पिटाई का मामलाः एनएचआरसी ने राजस्थान सरकार को दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा

स्कूल में बच्चे की पिटाई का मामलाः एनएचआरसी ने राजस्थान सरकार को दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा

स्कूल में बच्चे की पिटाई का मामलाः एनएचआरसी ने राजस्थान सरकार को दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा

नई दिल्ली: राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने राजस्थान सरकार से कहा है कि वह उन पुलिस अधिकारियों के खिलाफ अनुशासात्मक कार्रवाई करे, जिन्होंने 2017 में कोटा के एक स्कूल में कथित तौर पर शिक्षक की पिटाई के बाद पांचवीं कक्षा में पढ़ने वाले एक बच्चे की मौत हो जाने के मामले में प्राथमिकी दर्ज करने में देरी की थी.

आयोग ने बताया प्राथमिकी दर्ज करने में देरी संज्ञेय अपराधः
आयोग ने राज्य सरकार से कहा है कि बच्चे की मां को दो लाख रुपए अनुग्रह राशि के तौर पर दिए जाएं क्योंकि उनकी शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज करने में देरी संज्ञेय अपराध है और ‘‘मानवाधिकारों के हनन के समान है. आयोग ने एक बयान में कहा कि उसने बच्चे की मां की 12 दिसंबर 2017 की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया है जिसमें कहा गया था कि उसके बेटे को पर्यावरण विषय पढ़ाने वाले एक शिक्षक ने गृह कार्य पूरा नहीं करने पर बेंत से बुरी तरह से पीटा था. इसमें कहा गया कि जब उनका बेटा घर वापस आया तो उसके मन में शिक्षक का इतना डर बैठ गया था कि उसे अपनी मां और भाई को पहचानने में कठिनाई हो रही थी और यहां तक कि उसे ऐसे सपने आ रहे थे कि शिक्षक आ कर उसे चाकू मार देगा. वह कुछ खा-पी भी नहीं रहा था.

अयोग ने कहा कि आरोप- पुलिस अधिकारी ने नहीं की शिक्षक के खिलाफ कार्रवाईः
बयान में कहा गया कि बच्चे को सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने कहा कि उनके बेटे को तेज बुखार है और वह बुरी तरह डरा हुआ है और यही बात अगले दिन एक मनोरोग चिकित्सक ने भी कही. दो दिन बाद तीन दिसंबर 2017 को बच्चे की मौत हो गई. अयोग ने कहा कि आरोप हैं कि पुलिस अधिकारी शिक्षक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहे थे.

आयोग ने भेजा राज्य सरकार को नोटिसः
आयोग ने कोटा के पुलिस अधीक्षक, स्कूली शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव, राजस्थान सरकार को नाटिस भेज कर रिपोर्ट तलब की है. साथ ही महानिदेशक (जांच) को भी जांच रिपोर्ट पेश करने को कहा है. कोटा के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि कोटा की एक अदालत के निर्देश पर मामला दर्ज कर लिया गया है.
सोर्स भाषा

और पढ़ें