NSG के ग्रुप कमांडर ने संक्रमण से तोड़ा दम, हालत बिगड़ने के बाद नहीं मिल पाया ICU बेड 

NSG के ग्रुप कमांडर ने संक्रमण से तोड़ा दम, हालत बिगड़ने के बाद नहीं मिल पाया ICU बेड 

NSG के ग्रुप कमांडर ने संक्रमण से तोड़ा दम, हालत बिगड़ने के बाद नहीं मिल पाया ICU बेड 

नई दिल्ली: दिल्ली में NSG (National Security Guard) के एक ग्रुप कमांडर ने बुधवार को संक्रमण से दम तोड़ दिया है. मीडिया रिपोर्ट़्स के मु़ताबिक, उन्हें समय पर ICU बेड (Intensive Care Unit Bed) नहीं मिल पाया. इस वजह से उनकी मौत हो गई. ग्रुप कमांडर बीरेंद्र कुमार झा को 22 अप्रैल का संक्रमित होने के बाद नोएडा के एक हॉस्पिटल में एडमिट किया गया था. तब उनकी हालत ठीक थी. 4 मई की शाम अचानक बीरेंद्र की हालत बिगड़ गई. उनका ऑक्सीजन लेवल काफी नीचे आ गया.
श्
सरकारी तंत्र में लगा समय, हालत और बिगड़ती चली गई:
बीरेंद्र जिस हॉस्पिटल में भर्ती थे, वहां ICU बेड खाली नहीं था. इस वजह से उन्हें रेफर कर दिया गया. किसी भी अस्पताल में ICU बेड न मिलने पर दिल्ली में जानकारी की गई. इस जानकारी मिलने के बाद भी सरकारी मशीनरी (Government Machinery) की ढ़ीलाई के कारण समय लग गया और कमांडर की हालत और ज्यादा खराब हो गई. दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल ले जाते वक्त बीरेंद्र ने दम तोड़ दिया. देश के सबसे बेहतरीन सुरक्षा बल NSG में कोरोना से यह पहली मौत बताई जा रही है.

1993 में BSF ज्वॉइन की थी:
NSG के सोशल मीडिया अकाउंट पर बताया गया है कि बीरेंद्र कुमार ने 1993 में BSF ज्वॉइन की थी. 53 साल के बीरेंद्र बिहार के रहने वाले थे. BSF से वह 2018 में प्रतिनियुक्ति (Deputation) पर NSG में शामिल हुए थे. अब तक NSG में संक्रमण के 430 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. इनमें से 59 का अभी इलाज चल रहा है.

दिल्ली में हालात काफी खराब:
देश की राजधानी दिल्ली में मंगलवार को 19,953 नए केस आए हैं. यहां अभी करीब 92 हजार एक्टिव केस (Active Case) हैं. आसपास के शहरों नोएडा और गुड़गांव में भी मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं. मरीजों के दबाव से हॉस्पिटल में बेड और ऑक्सीजन की कमी हो गई है. यही वजह है कि यहां मौत के आंकड़े भी बढ़ते जा रहे हैं.

और पढ़ें