UGC की गाइडलाइन को लेकर NSUI का प्रदर्शन, आदेश को वापस लेने की मांग

UGC की गाइडलाइन को लेकर NSUI का प्रदर्शन, आदेश को वापस लेने की मांग

UGC की गाइडलाइन को लेकर NSUI का प्रदर्शन, आदेश को वापस लेने की मांग

जयपुर: 5 दिन पहले प्रदेश सरकार ने राजस्थान में उच्च शिक्षा में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को प्रमोट करने का फैसला लिया, लेकिन उसके 2 दिन बाद ही यूजीसी ने पूरे देश में उच्च शिक्षा के अंतिम वर्ष की परीक्षाएं अनिवार्य रूप से आयोजित करवाने की गाइड लाइन जारी की. यूजीसी की गाइडलाइन जारी होने के बाद ही उच्च शिक्षा में पढ़ने वाले विद्यार्थी असमंजस में पड़ गए. 

VIDEO- राजस्थान: यातायात नियमों को तोड़ने पर अब लगेगा भारी भरकम जुर्माना, यहां देखें पूरी लिस्ट 

एनएसयूआई यूजीसी की गाइड लाइन के विरोध में उतर चुकी: 
यूजीसी की गाइडलाइन के बाद उच्च शिक्षा विभाग ने जहां यूजीसी की गाइडलाइन का अध्ययन करने के बाद कोई फैसला लेने का निर्णय लिया, तो वहीं छात्र संगठन एनएसयूआई यूजीसी की गाइड लाइन के विरोध में उतर चुकी है. एनएसयूआई छात्र संगठन की ओर से आज राजस्थान विश्वविद्यालय के मुख्य गेट पर विरोध प्रदर्शन किया गया. प्रदर्शन के दौरान यूजीसी और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई. प्रदर्शन कर रहे छात्र नेताओं ने यूजीसी की गाइडलाइन की प्रतियां भी जलाई.

प्रवासी पक्षियों की मौत की वजह नहीं पता, हाईकोर्ट ने नाराजगी जाहिर करते हुए कमेटी गठन का किया फैसला 

यूजीसी को छात्रों के स्वास्थ्य से कोई लेना देना नहीं:
विरोध प्रदर्शन में एनएसयूआई प्रदेशाध्यक्ष अभिमन्यु पूनिया सहित बड़ी संख्या में छात्र नेता मौजूद रहे. अभिमन्यु पूनिया ने कहा कि "परीक्षाएं रद्द करवाने की मांग को लेकर 2 महीने से एनएसयूआई का पूरे प्रदेश में आंदोलन चल रहा था. जिसके बाद सरकार ने छात्र हित में बड़ा फैसला लेते हुए छात्रों को प्रमोट करने का फैसला लिया, लेकिन केंद्र सरकार और यूजीसी को छात्रों के स्वास्थ्य से कोई लेना देना नहीं है. वर्तमान दौर में कोरोना का संकट लगातार बढ़ता जा रहा है, ऐसे में यूजीसी द्वारा परीक्षाओं के आयोजन को लेकर लिया गया फैसला छात्र हित में नहीं है. अगर यूजीसी अपने इस फैसले को नहीं बदलती है तो एनएसयूआई की ओर से पूरे देश में एक बड़ा आंदोलन किया जाएगा. 

और पढ़ें