Live News »

नाग पंचमी और सावन सोमवार का दुर्लभ संयोग आज, इन बातों का रखें ध्यान

नाग पंचमी और सावन सोमवार का दुर्लभ संयोग आज, इन बातों का रखें ध्यान

जयपुर: श्रावण मास शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को नाग पंचमी मनाई जाती है. इस बार शिव भक्तों के लिए नाग पंचमी और सावन सोमवार का दुर्लभ संयोग दशकों में बाद आया है. माना जाता है कि सोमवार और नाग पंचमी एक साथ आने से सोमवार का व्रत रखना और नाग पंचमी की पूजा दोनों का महत्व बढ़ जाता है. ऐसे में आज पूजा करने से भोलेनाथ के भक्तों पर विशेष कृपा बरसती है. यह दिन जन्म कुंडली में सर्प दोष तथा राहु केतु की शांति के निवारण बहुत ही उत्तम माना गया है. नाग पंचमी पर पूजा अर्चना करके जीवन की सभी मुश्किलों को बहुत आसानी से दूर किया जा सकता है.

नाग पंचमी पर बरतें यह सावधानियां: 
शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि पूर्णा तिथि होती है इस दिन संयोगवश सोमवार और नाग पंचमी होने से इस दिन की महत्वता बढ़ जाती है. इस दिन हो सके तो कहीं पर भी जमीन की खुदाई ना करें तथा छोटे जीव जंतुओं की रक्षा करने का प्रयत्न करें. बीमार पशु पक्षियों को हो सके तो अस्पताल तक पहुंचाने की कोशिश करें तथा पूजा पाठ में शुद्ध सामग्री ही भगवान शिव को अर्पण करें. 

इस वजह से होती है नागों की पूजा:
कई पौराणिक कथाओं में नागों को भगवान शिव का गण माना गया है. साथ भगवान विष्णु के शेषनाग की शय्या पर विराजमान होने से विष्णु का भी सेवक माना गया है. ऐसे में नागों को किसी प्रकार का नुकसान पहुंचाना वर्जित माना गया है. 

पूजा विधि:
गृह-द्वार के दोनों तरफ गाय के गोबर से सर्पाकृति बनाकर अथवा सर्प का चित्र लगाकर सुबह उन्हें जल चढ़ाया जाता है. इसके साथ ही उन पर घी-गुड़ चढ़ाया जाता है. शाम को सूर्यास्त होते ही नाग देवता के नाम पर मंदिरों और घर के कोनों में मिट्टी के कच्चे दिए में गाय का दूध रखा जाता है. भगवान राम के छोटे भाई लक्ष्मण को शेषनाग का अवतार माना गया है. 
 

और पढ़ें

Most Related Stories

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

नई दिल्ली: आज पूरी दुनिया के सामने कोरोना वायरस एक चिंता का विषय बनकर सामने आया है. ना ही इसकी अभी तक कोई दवा बन पाई है. बस एक ही बचाव है वो है सोशल डिस्टेंसिंग. इस महामारी से दुनिया के कई देश जुझ रहे है. वहीं एक भविष्यवाणी की बात करे तो, उसमें बताया गया है कि कोरोना वायरस का खात्मा मध्य अप्रैल से शुरू हो जाएगा. कोरोना के खौफ के बीच यह राहत भरी भविष्यवाणी है. जिसमें बताया ​गया है कि भारतीय पंचांगों ने उन्हीं ज्योतिषीय गणनाओं के आधार पर की है, जिसके आधार पर उन्होंने सालभर पहले ही बता दिया था कि दुनिया का साल 2020 विषाणुजनित महामारी से जूझेगा. खबरों के मुताबिक महामारी का उल्लेख भारतीय पंचांगों ने साल भर पहले ही कर दिया था. भारतीय पंचांग चैत्र माह में हिंदू नववर्ष की शुरुआत पर उपलब्ध हो जाते हैं, जिनकी छपाई इससे भी पहले पूर्ण कर ली जाती है. गत वर्ष प्रकाशित श्री ऋषिकेष हिंदी पंचांग के पृष्ठ 3 पर दुनिया और भारत का फल शीर्षक के अंतर्गत किसी विषाणुजनित महामारी के संकेत बताएं गए थे. 

BJP स्थापना दिवस : PM मोदी का संबोधन, कहा-हमने हर स्तर पर कोरोना के खिलाफ प्रयास किए, WHO ने भी भारत के प्रयासों को सराहा

चीन में 2019 में शुरू हो गई थी महामारी:
भविष्यवाणी में यह भी बताया गया है कि चीन में कोरोना वायरस का प्रभाव दिसंबर 2019 से दिखना शुरू हो गया था, लेकिन फरवरी-मार्च 2019 में प्रकाशित हो चुके भारतीय पंचांगों को देखें तो इनमें वैश्विक महामारी के संकेत दे दिए गए थे. अब जब यही ज्योतिषशास्त्री कह रहे हैं कि 14 अप्रैल के बाद कोराना का प्रभाव कम होने लग जाएगा, तो इस पर विश्वास न करने का कोई तर्क नहीं है. 

बुरे प्रभाव में आने लगेगी कमी:
ज्योतिषीय गणनाओं के मुताबिक कोरोना की वजह से 14 अप्रैल तक वक्त ज्यादा खराब है. इसके बाद धीरे धीरे कोरोना वायरस का खात्मा होने लग जाएगा. यह बात भारत वर्ष की कुंडली के आधार पर सामने आई है. आपको बता दें कि भारतीय नववर्ष का प्रारंभ चैत्र शुक्ल प्रतिपदा 25 मार्च, 2020 दिन बुधवार से शुरू हुआ. यानी आनेवाले साल के राजा बुध है. उनके साथ मंत्री के रूप में चंद्र रहेंगे. इन दोनों के प्रभाव से इस रोग का खात्मा जून 2020 तक हो जाएगा. 13 अप्रैल को रात्रि 8.23 मिनट से सूर्य का संक्रमण मीन राशि से मेष राशि में होगा. उसके बाद कोरोना महामारी के बुरे प्रभाव में कमियां नजर आने लगेगी. इस वायरस के मरीज कम होने लगेंगे. 27 और 28 अप्रैल के बाद सूर्य का संक्रमण मेष में 15 डिग्री से आगे बढ़ने पृथ्वी स्थित वासी इसके बुरे प्रभाव से बचने लगेंगे. तो यह बात ज्योतिषीय गणनाओं के आधार पर सामने आई है. 

देशभर में मनाई जा रही है महावीर जयंती, घरों में ही हो रही है विशेष पूजा, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना

देशभर में मनाई जा रही है महावीर जयंती, घरों में ही हो रही है विशेष पूजा, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना

देशभर में मनाई जा रही है महावीर जयंती, घरों में ही हो रही है विशेष पूजा, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना

केशवरायपाटन(बूंदी): देशभर में सोमवार को महावीर जयंती पर जैन समाज के लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए घरों में ही विशेष पूजा अर्चना की. वहीं लोगों ने कोरोना से मुक्ति की कामना की. प्रदेश के बूंदी जिले के केशवरायपाटन के रोटेदा कस्बे में स्थित श्री पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में सोमवार को महावीर जयंती के अवसर पर विशेष पूजा अर्चना की गई.

भाजपा का 40 वां स्थापना दिवस: सभी कार्यकर्ता अपने अपने घरों में ही मना रहे स्थापना दिवस, सोशल डिस्टेंसिंग की पूरी पालना 

सोशल डिस्टेंसिंग की पालना: 
मन्दिर में इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की पालना मुताबिक इक्के दुक्के समाजबंधु ही मौजूद रहे. समाजबंधुओं ने भगवान महावीर की पूजा अर्चना कर कोरोना से मुक्ति की कामना की. गौरतलब है कि हर साल चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को भगवान महावीर स्वामी की जन्म जंयती मनाई जाती है.

सिंगर कनिका कपूर अस्पताल से हुई डिस्चार्ज, छठी रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद किया डिस्चार्ज

जैन धर्म के 24वें तीर्थकर धर्मगुरु:
भगवान महावीर स्वामी का जन्म जैन धर्म में लगभग 599 ईसा पूर्व हुआ था. भगवान महावीर स्वामी जैन धर्म के 24वें तीर्थकर धर्मगुरु माने जाते हैं. भगवान महावीर स्वामी के अथक प्रयासों से उनके जीवन काल में ही जैन धर्म, कौशल, विदेह, मगध, अंग, काशी, मिथला आदि राज्यों में लोकप्रिय हो गया था. 

हनुमान मंदिर में चोरी की वारदात, अज्ञात चोर ने 2 दानपात्र और 13 चांदी के छत्र चुराए

हनुमान मंदिर में चोरी की वारदात, अज्ञात चोर ने 2 दानपात्र और 13 चांदी के छत्र चुराए

अनूपगढ़ (श्रीगंगानगर): अनूपगढ़ तहसील के गांव 14 में स्थित हनुमान मंदिर में बीती रात अज्ञात चोरों ने चोरी की वारदात को अंजाम दिया है. मंदिर के पुजारी राधेश्याम ने जानकारी देते हुए बताया कि बीती रात अज्ञात चोर मंदिर में आए और मंदिर के गेट की कुंडी तोड़कर मंदिर में रखे दो दानपात्र और 13 चांदी के छत्र चुरा कर ले गए.

Coronavirus Updates: कोरोना का कहर, राजस्थान में पॉजिटिव मरीजों की संख्या हुई 274, कोटा में एक मरीज की मौत 

13 चांदी के छत्र गायब मिले:
पुजारी ने बताया कि सोमवार सुबह जब वह पूजा के लिए मंदिर में गए तो उन्होंने मंदिर के दरवाजे की कुंडी टूटी हुई देखी, जब उन्होंने मंदिर के अंदर जाकर देखा तो दोनों दानपात्र और मंदिर में रखे हुए 13 चांदी के छत्र गायब मिले.

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा

पुजारी ने दी पुलिस को सूचना:
मंदिर के पुजारी ने बताया कि मंदिर में चोरों की चप्पल भी रह गई है। मंदिर के पुजारी राधेश्याम ने चोरी की सूचना अनूपगढ़ पुलिस थाने में दी. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच शुरू कर दी है. वहीं अज्ञात चोरों के द्वारा अनूपगढ़ में स्थित निरंकारी भवन में भी चोरी का प्रयास किया गया. वहां के सेवादार ने बताया कि उसने कुछ दूरी तक चोर का पीछा भी किया मगर चोर भागने में कामयाब हो गया.

VIDEO: कोरोना संकट के चलते मुस्लिम धर्मगुरु से लेकर शिक्षाविद आए आगे, आम जनता से घरों में रहने की कर रहे अपील

जयपुर: कोरोना महामारी से बचाव के लिए आम जनता को संदेश देने में कई मुस्लिम उलेमा, मुफ्ती, विशेषज्ञ, इस्लामी शिक्षाविद और धर्मगुरु भी आगे आए है. सोशल मीडिया से लेकर अलग अलग प्लेटफार्म पर ये सभी मिलकर आम जनता को घरों में रहने के साथ ही जांच के लिए आने वाले चिकित्साकर्मियों के सहयोग की अपील कर रहे हैं. 

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा 

दर्जनों उलेमा, मुफ्ती, विशेषज्ञ, इस्लामी शिक्षाविद आगे आकर कर रहे अपील: 
आल इंडिया दारूल कजात के राष्ट्रीय अध्यक्ष चीफ काजी खालिद उस्मानी, मौलाना आजाद विश्वविद्यालय के कोफांउडर मोहम्मद अतीक, जामा मस्जिद जयपुर के ताहिर आजाद, राजस्थान बार कॉउसिल के चैयरमेन शाहीद हसन, राज्य वक्फ बोर्ड चैयरमेन खानूखां बुधवाली, अमीन पठान, राजस्थान अल्पसंख्यक कर्मचारी अधिकारी संघ के हारून खान, राजस्थान मुस्लिम परिषद अध्यक्ष युनुस चौपदार के साथ दर्जनों उलेमा, मुफ्ती, विशेषज्ञ, इस्लामी शिक्षाविद आगे आकर अपील कर रहे हैं. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी 

श्री खोले के हनुमान मंदिर में कोरोना वायरस उन्मूलन यज्ञ

श्री खोले के हनुमान मंदिर में कोरोना वायरस उन्मूलन यज्ञ

जयपुर: श्री न र व र आश्रम सेवा समिति श्री खोले के हनुमान जी मंदिर में कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए शनिवार को श्री वाल्मिकी रामायण की चौपाईयों के साथ सुंदरकाण्ड यज्ञ का आयोजन किया गया. श्री न र व र आश्रम सेवा समिति के अध्यक्ष गिरधारी लाल शर्मा ने बताया कि शनिवार प्रात: 9 बजे वाल्मिकी रामायण की चौपाईयों के साथ सुंदरकाण्ड यज्ञ प्रारम्भ हुआ. जिसका पूर्णाहुति के साथ रात्रि 8 बजे समापन हुआ.

कोरोना रोकथाम के लिए ग्राम पंचायत स्तर पर कोर ग्रुप का गठन, मुख्य सचिव ने दिए आदेश

जहां होते है यज्ञ अनुष्ठान:
यज्ञवेदी पर सामाजिक दूरी को ध्यान में रखते हुए आहुतियां दी गई. यज्ञ आहुति से उठने वाली धुआं और सुगंध से श्री खोले के हनुमान मंदिर परिसर का वातावरण खुशनुमा हो गया. कहते है जहां यज्ञ अनुष्ठान सम्पन्न होते हैं वहां किसी तरह की महामारी का प्रकोप नहीं होता. यज्ञ कार्यक्रम रविवार को भी कराया जाएगा.

कोरोना वॉरियर्स का हौसला बढ़ाने टोंक पहुंचे पायलट, कहा-जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने मेहनत से किया काम

लॉक डाउन के बाद वीरान हुआ सालासर, दस दिन से बालाजी के दर्शन बंद

लॉक डाउन के बाद वीरान हुआ सालासर, दस दिन से बालाजी के दर्शन बंद

सालासर(चूरू): लॉक डाउन का व्यापक असर धार्मिक नगरी सालासर में भी देखने को मिल रहा है. नियमित दस हजार से अधिक सालासर बालाजी में बालाजी के दर्शनों के लिए आने श्रद्धालुओ की चहल कदमी लॉक डाउन के बाद से थम गई है. 

Coronavirus Updates: देश में अब तक 2900 से ज्यादा लोग संक्रमित, दुनियाभर में 52 हजार लोगों की मौत  

लक्खी मेला भी लॉक डाउन के दौरान स्थगित होता नजर आ रहा:
मन्दिर में चैत्र पूर्णिमा पर भरा जाने वाला लक्खी मेला भी लॉक डाउन के दौरान स्थगित होता नजर आ रहा है. मन्दिर के बाहर की दुकानें बंद है और बालाजी मंदिर के सामने मन्दिर के गार्ड तैनात है. मन्दिर के पुजारी परिवार के सदस्य विश्व व देश को इस संकट की घड़ी से उभारने की प्रार्थना कर रहे हैं.

 Rajasthan Corona Update: राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा पहुंचा 196, अब तक 18 जिलो में पसारे पैर 

रामनवमी पर भक्तों की भीड़ से गुलजार रहने वाली अयोध्या रही सूनी, घर-घर मनी रामनवमी

रामनवमी पर भक्तों की भीड़ से गुलजार रहने वाली अयोध्या रही सूनी, घर-घर मनी रामनवमी

नई दिल्ली: कोरोना वायरस और लॉकडाउन की वजह से गुरुवार को रामनवमी का पर्व बिना दर्शनार्थियों के मंदिरों में मनाया गया. भगवान राम की मंदिरों में पूजा आराधना की गई. भगवान राम की जन्मस्थली उत्तर प्रदेश के अयोध्या में भी घर-घर ही भगवान राम की पूजा आराधना की गई. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए किए गए लॉकडाउन से हर साल रामनवमी के मौके पर भक्तों की भीड़ से गुलजार रहने वाली रामनगरी इस बार बिल्कुल सूनी है. 

भाजपा ने उठाई मांग, आम आदमी की स्थिति ठीक नहीं, 3 महिने के बिजली और पानी के बिल हो माफ

नहीं हुए मंदिरों में धार्मिक अनुष्ठान
जिले की सीमाएं सील कर दी गई हैं और पूरे जिले में लॉकडाउन है. 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा के बाद धाम की सीमा को भी सील कर दिया गया है. मंदिरों में ना धार्मिक अनुष्ठानों हुए. ना ही विशेष पूजा आराधना. रामनवमी मेले में यह पहली बार है जब सरयू घाट से लेकर मठ-मंदिरों में सन्नाटा पसरा रहा. इसलिए गुरुवार को राम जन्मोत्सव का पर्व सीमित अनुष्ठानों के बीच मठ-मंदिरों में ही मनाया गया. इसके पहले प्रदेश सरकार ने भी लोगों से रामनवमी पर्व घर पर ही मनाने की अपील की थी.

प्रतापगढ़ पुलिस ने गिरफ्तार किए 3 इनामी शूटर, हत्या के आरोप में चल रहे थे फरार

श्री खोले के हनुमान मंदिर में रामनवमी उत्सव सम्पन्न, दशमी को होगी हवन-पूजा

श्री खोले के हनुमान मंदिर में रामनवमी उत्सव सम्पन्न, दशमी को होगी हवन-पूजा

जयपुर: श्री नरवर आश्रम सेवा समिति श्री खोले के हनुमान जी मंदिर परिसर में बने श्रीराम मंदिर में गुरूवार को रामनवमी मनाई गई. इसके साथ ही अखण्ड वाल्मिकी रामचरितमानस के पाठ भी सम्पन्न हुए. दशमी के अवसर पर वैदिक मंत्रोच्चार पूर्णाहुति के साथ हवन किया जाएगा. 

भगवान श्रीराम का अभिषेक:
इससे पहले गुरूवार को रामनवमी के अवसर पर सुबह 6 बजे 101 जड़ी-बूटी, विभिन्न तीर्थों से लाए गए जल, पंचामृत तथा दुग्ध से भगवान श्रीराम का अभिषेक किया गया.इसके बाद सुबह 7 बजे हनुमान जी महाराज का दुग्धाभिषेक एवं रूद्री के पाठ का आयोजन किया गया.

भरतपुर में कोरोना पॉजिटिव मिलने पर प्रशासन में मचा हड़कंप, जुरहरी में कर्फ्यू के आदेश

56 भोग की झांकी सजाई गई:
श्री न र व र आश्रम सेवा समिति के महामंत्री बृजमोहन शर्मा ने बताया कि भगवान श्रीराम और हनुमान जी का अभिषेक के बाद सुबह 10 बजे षोडशोपचार पूजा कर श्री सियारामजी को सपरिवार नई पोशाक धारण करवाई और सियाराम मंदिर में 56 भोग की झांकी सजाई गई. जिसके बाद मंदिर पंडितों की ओर से भगवान श्रीराम की आरती की गई. महामंत्री ने बताया कि दशमी को सायंकाल 4 बजे मंत्रोच्चारण के साथ हवन किया जाएगा.

Open Covid-19