Nagaur: 35 साल बाद परिवार में बेटी के जन्म पर मनाया अनोखा जश्न, 7 लाख खर्च कर हेलीकॉप्टर से लाया गया घर; पेश की नई मिसाल

Nagaur: 35 साल बाद परिवार में बेटी के जन्म पर मनाया अनोखा जश्न, 7 लाख खर्च कर हेलीकॉप्टर से लाया गया घर; पेश की नई मिसाल

नागौर: हमारे समाज में जहां बेटा होने पर खुशियां मनाई जाती हैं वहीं बेटी होने पर घरों में मायूसी छा जाती है. लेकिन नागौर के कुचेरा क्षेत्र के गांव निम्बड़ी चांदावता में बेटी (Girl) के जन्म लेने पर कुछ ऐसा नजारा देखने को मिला जिसके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे. एक सामान्य किसान परिवार ने अपने घर में जन्मीं बेटी की खुशी का इतना अनोखा जश्न मनाया की समाज के लिए एक मिसाल कायम कर दी है. उन्होंने अपनी बेटी को घर लाने के लिए एक हेलीकॉप्टर (helicopter) का इस्तेमाल किया है. 

दरअसल इस जश्न की वजह ये है कि किसान मदन लाल प्रजापत के घर 35 साल बाद एक बेटी का जन्म हुआ है और इसी खुशी में, उन्होंने अपनी पोती को उसके ननिहाल से बुधवार को हेलीकॉप्टर में घर लाया है. इसके लिए दादा ने अपनी सालभर की पूरी फसल बेच डाली और सात लाख रुपये किराया चुका कर हेलिकॉप्टर (Helicoptar) से अपनी पोती को घर लाये. इस दौरान गांववालों ने भी इस जश्न में भाग लिया था और हेलीपैड से लेकर घर तक के रास्ते में फूल बिछा दिए. प्रदेश में 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' की शायद ही इससे बड़ी मिसाल मिली हो.  

बेटी का पहली बार अलग तरीके से स्वागत करने का मन था: 
जानकारी के अनुसार किसान परिवार का अपनी बेटी का पहली बार अपने घर में स्वागत अलग तरीके से करने का मन था. बेटी को पहली बार घर हेलीकॉप्टर से लाने की योजना बनाई गई. बच्ची का जन्म तीन मार्च को नागौर जिला अस्पताल में हुआ था. जिसके बाद बच्ची अपनी मां के साथ देखभाल के लिए ननिहाल हरसोलाव गांव चली गई थी. चांदावता से हरसोलाव की दूरी सड़क मार्ग से लगभग 40 किलोमीटर की है. जिसे हेलीकॉप्टर से तय करने में 10 मिनट का समय लगा था. परिवार ने बेटा बेटी में फर्क न करने का लोगों से आग्रह किया. 

और पढ़ें