नाम का आदर्श गांव हकीकत में कुछ भी नहीं

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/10/29 09:58

कुराबड़ (उदयपुर)। उदयपुर के सलूम्बर में मेवल का सबसे बड़ी पंचायत गांव खरका जहां की लगभग 10 हजार की जनसंख्या, 4 राजस्व ग्राम और 4600 मतदाता सर्कल गांव होने के साथ आदर्श गांव का दर्जा मिला है लेकिन मूलभूत सुविधाओं का हमेशा टोटा ही रहा है। हालात ये है कि एक आदर्श गांव सिर्फ कागजों में आदर्श बनकर रह गया। ग्रामीण बताते है कि न जाने किसकी नजर लगी या फिर नेताओं की बेरूखी के कारण हमेशा गांव में साधन और सुविधाओं की कमी रही है। 

गौरतलब है कि मेवल क्षेत्र की सबसे बड़ी पंचायत में दस हजार के आसपास लोग निवासरत है और मेवल क्षेत्र की सबसे बड़ी पंचायत होने के कारण तकरीबन 4600 मतदाता है। स्थानीय वाशिंदों ने जनप्रतिनिधियों को पलकों पर तो बैठाया, लेकिन विकास से हमेशा वंचित ही रहे। आदर्श गांव में आदर्श श्मशान होना चाहिए लेकिन यदि यहां कोई मर जाए तो श्मशान की हालत देखकर अपनों को रोते परिजन श्मशान को देख रोने लगे जाते है। श्मशान में लगे टिन शेड, लोहे की एंगल टूट के बिखर गई है। शर्म की बात तो यह है कि यहां एंगल में लगे नट-बोल्ट तक लोग उठा ले गए है। अब किसी का दाह संस्कार करना हो तो नदी पेटे में करों।

वहीं गांव के बस स्टैंड की हालात तो यह है कि बस स्टैंड पर रुकने का मतलब नाक-भोह सिकुड़ने के समान है। बस की प्रतिक्षा में खड़ा रहना लोगों के लिए जी का जंजाल बन जाता है। यही नहीं नालियों के अभाव में पानी रोड पर पसरा रहता है। गांव की हालत खराब होने के कारण लोग सरकार को कोस रहे है लेकिन समस्या का समाधान करने वाला कोई नहीं है। एक आदर्श गांव कर लिए कई मूलभूत सुविधाएं होती है लेकिन यहां तो न रोड लाइट, न सड़क का विकास, न आदर्श श्मशान सहित दर्जनों समस्या से जूझ रहे खरका गांवके लोगों को उम्मीद है कि क्षेत्र का विकास होगा। स्थानिया वाशिंदों का कहना है कि,"विकास नहीं तो वोट नहीं। बीते 15 वर्ष से खरका उपेक्षा का शिकार हो रहा है और आगे ऐसा कतई नहीं होने दिया जाएगा।" 

कुराबड़ से संवाददाता नारायण मेघवाल की खबर 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

सपना ने थामा कांग्रेस का हाथ, ड्रीम गर्ल को देंगी टक्कर !

16 साल बाद चुनावी राजनीति में दिग्गी की एंट्री, भोपाल से लड़ेंगे चुनाव
बीजेपी की शत्रु से दोस्ती खत्म! पटना साहिब से कटा शत्रुघ्न सिन्हा का टिकट
राहुल गांधी 2 सीटों से लड़ सकते हैं चुनाव
देखिये BJP की पांचवीं लिस्ट
क्रिकेट खेलते समय बॉल लगी तो घर में घुसकर की मारपीट
बीजेपी सरकार से हर वर्ग दुखी है : राहुल गाँधी
बिहार में NDA की सीटों का ऐलान