यरुशलम इजरायली प्रधानमंत्री ने अलग अंदाज में दी महान मित्र नरेंद्र मोदी को 72वें गणतंत्र दिवस की बधाई

इजरायली प्रधानमंत्री ने अलग अंदाज में दी महान मित्र नरेंद्र मोदी को 72वें गणतंत्र दिवस की बधाई

इजरायली प्रधानमंत्री ने अलग अंदाज में दी महान मित्र नरेंद्र मोदी को 72वें गणतंत्र दिवस की बधाई

यरुशलम: इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने अपने भारतीय समकक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मंगलवार को देश के 72वें गणतंत्र दिवस की बधाई देते हुए कहा कि हमारी दोस्ती साल दर साल बढ़ रही है.

नेतन्याहू ने अपनी और मोदी के साथ तस्वीर की साझाः
इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने ट्वीट किया कि मेरे महान दोस्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आपको और भारत की जनता को 72वें गणतंत्र दिवस की बधाई. हमारी दोस्ती साल दर साल बढ़ रही है. इसके साथ ही उन्होंने अपनी मोदी के साथ तस्वीर और हाथ मिलाने के चिह्न, भारतीय और इजरायली ध्वज के प्रतीक को साझा किया.

इजरायली संसद के अध्यक्ष ने दी बधाईः
इजरायली संसद नेसेट के अध्यक्ष यारिव लेविन ने मंगलवार को लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को भेजे वीडियो संदेश में कहा कि भारतीय संविधान के मूल्य ‘ बहुत प्रेरणादायी’ हैं. लेविन ने कहा कि भारत की संविधान के आदर्शों एवं मूल्यों के प्रति प्रतिबद्धता बहुत प्रेरणादायी है. भारत और इजरायल के संबंध हाल के वर्षों में बहुत बढ़े हैं और मैं प्रसन्न हूं कि कई क्षेत्रों में रणनीतिक साझेदारी हुई है. मुझे हमारे संसदों के बीच बढ़ रही मित्रता पर गर्व है जो साझा मानवाधिकार के मूल्यों पर आधारित है जो आपके संविधान में प्रतिबिंबित होती है.

भारत के टीकाकरण अभियान की भी प्रशंसा कीः
नेसेट के अध्यक्ष ने पड़ोसी देशों में कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए भारत द्वारा टीका आपूर्ति कर दिखाई गई शानदार सद्भावना की भी प्रशंसा की. लेविन ने भारत में चल रहे टीकाकरण अभियान की भी प्रशंसा की. उन्होंने उम्मीद जताई कि भारत-इजरायल की करीबी साझेदारी आने वाले वर्षों में भी जारी रहेगी.

बिरला ने स्पीकर यारिव लेविन को दिया धन्यवादः
बिरला ने नेसेट के अध्यक्ष को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए ट्वीट किया कि हमारे 72वें गणतंत्र दिवस पर बधाई देने के लिए नेसेट के माननीय स्पीकर यारिव लेविन धन्यवाद.हम हमारी संसदों के बीच साझेदारी को बहुत महत्व देते हैं. हमारी दोस्ती इस साझेदारी को मजबूत करने एवं दोनों देशों के लाभ के लिए ऐसे ही जारी रहे.
सोर्स भाषा

और पढ़ें