New Year 2021: न्यू ईयर पर गुलाबीनगर पावणों से गुलजार, जयपुर में पर्यटकों की रिकॉर्ड आवक 

New Year 2021: न्यू ईयर पर गुलाबीनगर पावणों से गुलजार, जयपुर में पर्यटकों की रिकॉर्ड आवक 

New Year 2021:  न्यू ईयर पर गुलाबीनगर पावणों से गुलजार, जयपुर में पर्यटकों की रिकॉर्ड आवक 

जयपुर: न्यू ईयर पर गुलाबीनगर पावणों से गुलजार नजर आ रहा है. राजधानी में पर्यटकों की रिकॉर्ड आवक देखने को मिल रही है. पिछले दिनों जहां आमेर को 6 हजार से ज्यादा पर्यटकों ने देखा वहीं आज यह रिकॉर्ड फिर टूटता नजर आ रहा है. पर्यटकों की बढ़ती आवक के चलते सभी सरकारी व निजी होटल में 60 फ़ीसदी तक बुक हो चुके हैं. आज सुबह से ही जल महल से लेकर कनक घाटी और आमेर तक वाहनों की लंबी कतारें लगी हुई हैं. कमोबेश यही हाल कूकस से आमेर तक का है. कोरोना के बावजूद भारी जन सैलाब पर्यटन स्थलों की ओर बढ़ रहा है.

फ्लाइट्स का संचालन बंद होने से विदेशी सैलानी ना के बराबर:
आमेर हॉट डेस्टिनेशन बना हुआ है. वहीं जल महल, नाहरगढ़, जयगढ़, सिटी पैलेस, हवा महल, अल्बर्ट हॉल, जंतर मंतर, झालाना लैपर्ड सफारी और नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क देखने हजारों की संख्या में सैलानी रहे हैं. खासकर गुजराती और दक्षिण भारत के पर्यटक जयपुर में इस बार ज्यादा आए हैं. माना जा रहा है कि 24 दिसंबर से 31 दिसंबर के सप्ताह में जयपुर के अंदर पर्यटकों की संख्या आज 1 लाख पार पहुंच सकती है. हालांकि अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट्स का संचालन बंद होने विदेशी सैलानी न के बराबर आ रहे हैं लेकिन कुछ विदेशी चेहरे पर्यटनस्थलों पर दिखाई जरूर दे रहे हैं.

पर्यटकों को होटल में जश्न की छूट:
कोविड के चलते राज्य सरकार ने जलसे पर रोक लगा रखी है लेकिन न्यू ईयर के चलते इन बाउंड पर्यटकों को होटल में जश्न की छूट दी गई है. कोविड के चलते जो होटल और रिसॉर्ट खाली पड़े थे उनमें भी पिछले चार पांच दिन से रौनक होचली है. आमतौर पर  जिन रिसोर्ट में  5000 से ₹6000 में कमरा मिल जाया करता था उसकी कीमत ₹15000 तक पहुंच चुकी है. पूरे प्रदेश की बात करें तो सबसे ज्यादा हॉट फेवरेट डेस्टिनेशन के तौर पर जैसलमेर का नाम सबसे पहले सामने आता है. जैसलमेर में चप्पे-चप्पे पर पर्यटकों की चहल-पहल दिखाई देती है हजारों की संख्या में जैसलमेर पहुंच रहे हैं पर्यटक। इसके बाद जोधपुर, फलोदी, माउंट आबू, उदयपुर और रणथंभौर का नाम आता है. यहां की तमाम जो होटल है पहले से ही बुक हैं और 5 जनवरी तक होटलों में पैर रखने की जगह भी नहीं है.

मरुधरा सैलानियों से पूरी तरह से आबाद:
कहा जा सकता है कि मरुधरा सैलानियों से पूरी तरह से आबाद है. यह भी कहा जा सकता है कि कोविड के चलते पिछले नौ महीने से पर्यटकों को तरस गई ट्यूरिज्म इंडस्ट्री के चेहरे पर अब हलकी से मुस्कान देखने को मिली है. न्यू ईयर को लेकर राजधानी जयपुर, जोधपुर,  सवाईमाधोपुर, जैसलमेर, उदयपुर, माउंट आबू और चित्तौड़ में काफी संख्या में पर्यटकों की आवक हो रही है. ट्रैवल ट्रेड में कोविड और किसान आंदोलन का भी खास असर देखने को नहीं मिला इसे पर्यटन उद्योग की जीत माना जा रहा है. राजधानी जयपुर की बात करेंं तो आज सुबह से ही पर्यटक जलमहल, कनक घाटी, नाहरगढ़, जयगढ़, आमेर, नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क झालाना लेपर्ड सफारी सहित हर स्मारक पर पर्यटक की जोरदार आवक देखनेे को मिली है.  आंदोलनों के बावजूद पिछले 5 दिनों मैं ट्रैवल ट्रेड को मानो संजीवनी मिल गई है. उम्मीद की जा रही है न्यू ईयर ईव के साथ ही आने वाला वर्ष भी ट्रैवल ट्रेड के लिए  जोरदार साबित होगा. 

और पढ़ें