राजधानी पुलिस की नई रणनीति, दूकानदारों और शॉपिंग मॉल्स को सीसीटीवी कैमरे लगाने के दिये निर्देश 

राजधानी पुलिस की नई रणनीति, दूकानदारों और शॉपिंग मॉल्स को सीसीटीवी कैमरे लगाने के दिये निर्देश 

राजधानी पुलिस की नई रणनीति, दूकानदारों और शॉपिंग मॉल्स को सीसीटीवी कैमरे लगाने के दिये निर्देश 

जयपुर: जयपुर शहर में लूट व डकैती की घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस ने व्यापारिक संस्थाओं से भी सहयोग लेकर नई रणनीति के साथ कार्य करने की योजना तैयार की है. पुलिस ने शहर के दूकानदारो और शॉपिंग मॉल्स को सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश दिये है. जिससे अभय कमांड सेंटर को अधिक मजबूत बनाया जा सके. 

हरकत में आया जयपुर पुलिस कमिश्नरेट:
राजधानी जयपुर में लूट, डकैती व चोरी की बढ़ती घटनाओं के बाद जयपुर पुलिस कमिश्नरेट हरकत में आया है. शहर में बढ़ती लूट ,डकैती व चोरी की वारदातों को लेकर अब पुलिस ने गश्त व्यवस्था को दुरुस्त करने के साथ ही शहर में व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश दिए हैं. जयपुर शहर में सरकारी स्तर पर लगे सीसीटीवी कैमरों की मॉनिटरिंग अभय कमांड सेंटर से की जा रही है, लेकिन ये कैमरें भी नाकाफी साबित हो रहे है. ऐसे में जयपुर पुलिस कमिश्नरेट ने बैंक, एटीएम, सिनेमा हॉल, होटल, मॉल्स, पेट्रोप पंप, शराब की दुकानों समेत अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर सीसीटीवी कैमरें लगाने के निर्देश जारी किए है. निर्देशों के मुताबिक सभी व्यापारिक प्रतिष्ठानों को अच्छी क्वालिटी के सीसीटीवी कैमरें लगाने होंगे और 15 दिनों तक उनकी रिकार्डिंग सुरक्षित रखनी होगी. ऐसा नहीं करने पर पुलिस व्यापारिक प्रतिष्ठानों के खिलाफ भारतीय दण्ड संहिता 188 के तहत सख्त कार्रवाई करेगी. 

अभय कमांड सेंटर को भी मजबूती देने का तैयारियां शुरु:
वहीं दूसरी ओर पुलिस ने अभय कमांड सेंटर को भी मजबूती देने का तैयारियां शुरु कर दी है. पुलिस कमिश्नरेट की ओर से पुलिस मुख्यालय के जरिये राज्य सरकार को कैमरों की संख्या बढाये जाने के लिए प्रस्ताव भिजवाया गया है. जयपुर कमिश्नरेट के डीसीपी हेडक्वार्टर मनोज कुमार का कहना है कि सीसीटीवी कैमरों की संख्या बढने से कानून व्यवस्था को मजबूत करने के साथ साथ अपराध पर नियंत्रण करने में सहायता मिल सकेगी. फिलहाल जयपुर शहर में 766 कैमरे लगाये गये है. जिनके जरिये शहर पर अभय कमांड सेंटर के जरिये सीधी नजर रखी जा रही है. इसके अलावा शहर के चारों पुलिस जिलों में व्यापारिक संगठनों और कॉलोनीवासियों से मिलकर भी पुलिस ने कैमरे लगाने की लिये लोगों को जागरुक किया है. सरकार की ओर से भी जल्द ओर कैमरे जयपुर कमिश्नरेट को दिये जायेंगे जिससे पुलिस की जांच को अधिक मजबूती मिल पायेगी.

आएंगे सकारात्मक परिणाम:
डीसीपी मनोज कुमार का कहना है कि अब तक शहर में हुए कई अपराध के मामलों में  निजी दूकानों पर लगे कैमरों से पुलिस को अपराधियों तक पहुंचने में सफलता मिली है. कैमरों की संख्या बढाये जाने से ओर भी कई सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे. अपराध कम होने से आमजन का भी पुलिस के लिए विश्वास बढ सकेगा. ऐसे में उम्मीद की जानी चाहिए की पुलिस की यह नई योजना शहर के अपराध पर अंकुश लगाने में सफल रहेगी. 

... संवाददाता सत्यनारायण शर्मा की रिपोर्ट 
 

और पढ़ें