जयपुर VIDEO: नया साल लाएगा जयपुर वासियों के लिए नई उम्मीद, मिलेगी कई प्रोजेक्ट्स की सौगात, देखिए ये खास रिपोर्ट

VIDEO: नया साल लाएगा जयपुर वासियों के लिए नई उम्मीद, मिलेगी कई प्रोजेक्ट्स की सौगात, देखिए ये खास रिपोर्ट

जयपुर: नया साल जयपुर वासियों के लिए नई उम्मीदें लेकर आएगा. नए साल 2022 में जयपुर शहर को दो हजार करोड़ रुपए से अधिक लागत की विकास परियोजनाओं की समर्पित की जाएंगी. इस नए साल में यातायात को सुगम करने, शहरवासियों को जाम से बचाने और शहर की खूबसूरती में चार चांद लगाने वाले प्रोजेक्ट्स की सौगात मिलेगी. हालांकि जयपुर विकास प्राधिकरण के इन प्रोजेक्ट्स की लागत दो हजार करोड़ रुपए से अधिक है. लेकिन इनमें 1676 करोड़ रुपए की द्रव्यवती नदी परियोजना भी शामिल है. आपको बताते हैं कौन-कौनसे प्रोजेक्ट नए साल 2022 में जयपुर को मिलेंगे और इनकी खासियत क्या है.

सोढाला एलिवेटेड रोड:
-करीब 250 करोड़ रुपए की लागत से निर्माणाधीन इस परियोजना का काम नए साल में जनवरी तक पूरा होने की उम्मीद है.
-इस एलिवेटेड रोड के निर्माण से टाेंक रोड व जन पथ से अजमेर रोड व हवा सड़क जाने वाले वाहनों की राह आसान होगी.
-इस इलाके में पीक आवर में अक्सर यातायात जाम की स्थिति रहती है.
-मौजूदा बाइस गोदाम रेलवे ओवरब्रिज बढ़ते वाहनों के दबाव के चलते छोटा पड़ने लगा है.

झोटवाड़ा एलिवेटेड रोड:
-शहर को झोटवाड़ा व कालवाड़ इलाके से जोड़ने वाला मौजूदा रेलवे ओवरब्रिज बमुश्किल तीन लेन का है.
-इसके चलते सुबह से रात तक कई बार वाहन जाम में फंसे रहते हैं.
-जेडीए की ओर से करीब 108 करोड़ रुपए की लागत से झोटवाड़ा एलिवेटेड रोड का निर्माण किया जा रहा है.
-इस प्रोजेक्ट का काम अगले साल दिसंबर तक पूरा करने की डेडलाइन है.
-प्रोजेक्ट का काम पूरा होने के बाद झोटवाड़ा व कालवाड़ जाने के लिए जाम का सामना नहीं करना पड़ेगा.

जवाहर सर्किल प्रोजेक्ट:
-जवाहर सर्किल जयपुर पर प्रतिदिन लगभग 2 लाख के मध्य वाहनों का अवागमन रहता है.
-प्रोजेक्ट में पदयात्रियों एवं साईकिल सवार हेतु 3 सब-वे  एवं एयरपोर्ट रोड के सामने मॉन्यूमेन्ट का निर्माण किया जाना प्रस्तावित है.
-इसके अतिरिक्त जवाहर सर्किल की बाहरी परिधि पर साईकिल ट्रैक, पार्किंग एवं सौन्दर्यीकरण के साथ विधुतीकरण के कार्य भी प्रस्तावित है.
-प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत राशि 44.19 करोड है. 
-इस प्रोजेक्ट का काम वर्ष 2022  के अंत तक पूरा होगा.

लक्ष्मी मन्दिर तिराहे पर स्वतन्त्रता सेनानियों की मूर्तियों की स्थापना:
-लक्ष्मी मन्दिर तिराहे पर ट्रैफिक सिग्नल फ्री के कार्य के साथ-साथ जयपुर की पारम्परिक स्थापत्य कला एवं संस्कृति को प्रदर्शित करते हुए एवं जनमानस में स्वतन्त्रता सेनानियों की यादें बनाए रखने के​ लिए 08 स्वतंत्रता सेनानियों की मूर्ति यहां लगाई जाएगी.
-यहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी,सुभाषचंद्र बोस,जवाहरलाल नेहरू, सरदार वल्लभ भाई पटेल,डॉ.राजेन्द्र प्रसाद,अब्दुल गफ्फार, सरोजिनी नायडू और मौलाना अब्दुल कलाम आजाद की प्रतिमा लगाई जाएगी.
-इस कार्य की अनुमानित लागत राशि 3.40 करोड़ रुपए है.
-यह कार्य नए साल के अगस्त में पूरा होगा.

द्रव्यवती नदी परियोजना:
-पिछली भाजपा सरकार के समय 10 अप्रेल 2016 तक को इस परियोजना का काम शुरू किया गया.
-करीब 1676 करोड़ रुपए लागत के इस काम की जिम्मेदारी टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड व शंघाई अरबन कंस्ट्रक्शन ग्रुप के कंसोरटियम को दी गई.
-इस परियोजना के तहत नाहरगढ़ की पहाड़ियों के आगे से ढूंढ नदी तक 47 किलोमीटर लम्बाई में बहने वाली द्रव्यवती नदी का कायाकल्प किया जाना है.
-परियोजना का प्रमुख उद्देश्य नदी का बहाव क्षेत्र संरक्षित करना और इसमें स्वच्छ पानी का बहाव सुनिश्चित करना था.
-परियोजना का काम 10 अक्टूबर 2018 में पूरा किया जाना था.
-लेकिन अब तक ना तो पूरी लम्बाई में बहाव क्षेत्र संरक्षित हो पाया है और नहीं नदी में साफ पानी बह रहा है.
-प्रोजेक्ट का काम नए साल के जनवरी से मार्च के बीच पूरा होने की उम्मीद है.
-साथ ही यह भी उम्मीद है कि इस नए साल में नदी की तय चौड़ाई से सभी अतिक्रमण हट जाएंगे और यहां स्वच्छ पानी बहेगा.

वाकई यह नया साल जयपुर शहर के लिए खुशियों भरा रहेगा. उम्मीद है कि ये सभी प्रोजेक्ट़्स निर्धारित डेडलाइन में ही पूरे किए जाएंगे.  

और पढ़ें