नहरी किसानों के लिए राहत की खबर, आज से 30 जुलाई तक मिलेगा खरीफ का पानी

नहरी किसानों के लिए राहत की खबर, आज से 30 जुलाई तक मिलेगा खरीफ का पानी

नहरी किसानों के लिए राहत की खबर, आज से 30 जुलाई तक मिलेगा खरीफ का पानी

जैसलमेर: भारत पाक सीमा से सटे सरहदी जिले जैसलमेर के नहरी किसानों के लिए अच्छी खबर है कि अब उन्हें आगामी एक महीने तक खरीफ की फसलों के लिए पानी दिया जाएगा. हालांकि पहले सरकार द्वारा रेगुलेशन के तहत 26 अप्रैल से 30 मई तक पानी दिया जाना था, लेकिन रेगुलेशन में संशोधन करते हुए सरकार ने 30 मई से आगामी 30 जुलाई तक किसानों को खरीफ की फसल व पेयजल के लिए पानी उपलब्ध करवाया जाएगा. 

Coronavirus Vaccine बनाने में अब एक और कंपनी ने जगाई दुनिया की उम्मीदें, अक्टूबर के अंत तक हो सकती है तैयार

सिंचाई के लिए 30 मई से 30 जुलाई तक पानी दिया जाएगा:
इंदिरा गांधी नहर परियोजना की नहरों को खरीफ फसलों के दौरान सिंचाई के लिए 30 मई से 30 जुलाई तक पानी दिया जाएगा. नहरों के 4 समूह में से इन अवधि में दो समूह चलाएं जाएंगे. जिसमें जैसलमेर व पोकरण भी शामिल है. इसके साथ ही बाड़मेर लिफ्ट परियोजना के लिए भी पानी छोड़ा जाएगा. विभाग ने काश्तकारों से अपील की है कि सिंचाई पानी की मात्रा को ध्यान में रखते हुए कम पानी के उपयोग वाली फसलों की सिंचाई करे. इंदिरा गांधी नहर परियोजना जैसलमेर संभाग में बुर्जी 1254 मुख्य नहर के नीचे बारी प्रणाली, द्वितीय चरण के रेगुलेशन के लिए जल नहरों में सिंचाई के लिए दिया जाएगा. नहरबंदी के बाद अब किसानों को सिंचाई के लिए पानी रविवार से नियमित रूप से मिलेगा.

जयपुर एयरपोर्ट से आज 20 में से 12 फ्लाइट रद्द, 6 दिन बाद एयरलाइन्स पहुंची पहले दिन के संचालन पर 

किसानों ने भी खरीफ की बुआई की तैयारियां शुरू कर दी:
अब सिंचाई के लिए इंदिरा गांधी मुख्य नहर से जुड़ी नहरों के चार में दो समूह में पानी चलाया जाएगा ताकि खरीफ फसल की बुआई की जा सके. नहरों में दो समूह में चलने वाला पानी एक समूह में साढ़े आठ दिन तक चलता है. इसके बाद दूसरा समूह शुरू होता है. इसी क्रम से नहरी पानी का शिड्यूल 34 दिनों तक निर्धारित होता है. उधर सिंचाई पानी का बेसब्री से इंतजार कर रहे किसानों ने भी खरीफ की बुआई की तैयारियां शुरू कर दी है. पंजाब के साथ अब राजस्थान सीमा में भी नहर की मरम्मत नहीं होगी क्योंकि 4 समूह में पानी देने के लिए नहर में हरिके से 11 हजार 500 क्यूसेक पानी छोड़ा जाना है. इतने पानी में नहर का जलस्तर ज्यादा रहेगा, जिससे किसी भी प्रकार की मरम्मत संभव नहीं है.  

और पढ़ें