Live News »

सरकारी फरमान के आगे बेबस गरीबी, खुले आसमान के नीचे सोने को मजबूर हुआ विधवा का परिवार

सरकारी फरमान के आगे बेबस गरीबी, खुले आसमान के नीचे सोने को मजबूर हुआ विधवा का परिवार

सिवाना(बाड़मेर)। कहते है राम रूठ जाए लेकिन राज नही रूठता है लेकिन सिवाना उपखड क्षेत्र से 12 किलोमीटर दूर मायलावास गांव में विधवा ग़रीब महिला मंजू देवी का डेढ़ साल पहले तो राम रूठ गया था और किसी हादसे में अपने पति को खो चुकी है। मंजू देवी के तीन मासूम बच्चों के पालन करने का जिम्मा उनके कंधों पर आ गया। जैसे तैसे मंजू देवी मजदूरी कर अपने मासूमों का पालन कर रही थी यकायक अब राज भी रूठ गया है। क्योंकि सरकारी फरमान पर निजी बैंक कार्मिकों एंव पुलिस प्रशासन ने विधवा महिला को सामान सहित घर से बेदखल कर दिया है। 

विधवा महिला के घर को सीज कर बैंक ने अपने कब्जे में ले लिया है और पिछले दस दिनों से विधवा महिला मंजू देवी के घर का सामान बाहर गली में पड़ा है और इनके तीन मासूम बच्चे कड़कड़ाती ठंड में खुले आसमान के नीचे सो कर मन ही मन में अपनी किस्मत को कोस रहे है। गौरतलब है कि मोकलसर के कन्हैयालाल मेघवाल ने कुछ साल पहले बालोतरा की एक निजी बैंक से होंम लोन दिया था और डेढ़ साल पहले उसकी किसी हादसे में कन्हैयालाल की मौत हो गई तो इस पर वो उस होम लोन की किश्ते चुका नही पाने से बैंक ने विधवा महिला को पुलिस के बल पर घर से बाहर कर दिया। 

विधवा मंजू देवी अपने तीन मासूमों के साथ पिछले 10 दिनों से कड़कड़ाती ठंड में खुले आसमान के नीचे रात गुजार रहे है। दस दिन से मासूम बच्चे और विधवा महिला खुले आसमान के नीचे रात गुजार रहे है लेकिन मामले के दस दिन बाद भी नही तो कोई मानवाधिकार आयोग आगे आये है नही कोई प्रसाशनिक अधिकारी एंव राज नेता सुध लेने के लिए आगे आये है।
सिवाना से दिलीप सिंह राजपुरोहित की रिपोर्ट

और पढ़ें

Most Related Stories

Coronavirus Updates: दीये, मोमबत्ती और टॉर्च वाली रोशनी से जगमग हुआ देश, पीएम की अपील पर लोगों ने 9 मिनट तक मनाई 'दिवाली'

Coronavirus Updates: दीये, मोमबत्ती और टॉर्च वाली रोशनी से जगमग हुआ देश, पीएम की अपील पर लोगों ने 9 मिनट तक मनाई 'दिवाली'

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर आज देशभर में लोगों ने घरों की लाइट बंद कर दीया, मोमबत्ती और फ़्लैश लाइट जलाकर एकजुटता का बड़ा संदेश दिया. इस दौरान आतिशबाजी भी हुई और लोगों ने सोशल मीडिया पर खबू फोटो शेयर किए. एक बार तो ऐसा लग रहा था कि जैसे आज दीपोत्सव का त्योहार हो. पीएम मोदी ने कोरोना से मुकाबला कर रहे योद्धाओं का मनोबल बढ़ाने के लिए पीएम मोदी ने शुक्रवार को यह अपील की थी. 

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा

देश में कई जगह बेहतरीन तस्वीरें देखने को मिली:
प्रधानमंत्री की अपील पर देशभर में कोरोना से चल रही जंग के दौरान देश के सभी छोटे-बड़े शहरों के साथ गांवों में एक बेहतरीन तस्वीर देखने को मिली. इस दौरान बीजेपी के कई दिग्गज नेताओं ने मोमबत्ती और दीए जलाकर प्रधानमंत्री मोदी की अपील का समर्थन किया.

राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने भी दीए जलाए:
कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने दीए जलाए. वहीं, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर सहित कई बीजेपी नेताओं ने दीप जलाकर एकजुटता का संदेश दिया.

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी

योगी आदित्यनाथ ने मोमबत्ती से दीए जलाकर ओम की आकृति:
वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मोमबत्ती से दीए जलाकर ओम की आकृति बनाई थी. वो 9 बजे से पहले ही घर के बाहर आकर दीए जलाने के लिए इंतजार कर रहे थे. हाथ में दीए की थाली लेकर अपनी बेटी के साथ बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी भी घर के बाहर दिखे. 

Rajasthan Corona Update: एक दिन में 47 नए मामले सामने आए, 254 हुई पॉजिटिव मरीजों की संख्या

जयपुर: राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है. प्रदेश में आज 47 नए केस सामने आए है. जिसमें 39 केस जयपुर में सामने आए हैं. वहीं इससे पहले आज अलसुबह कोरोना पॉजिटिव रामगंज निवासी 82 वर्षीय बुजुर्ग ने SMS अस्पताल में दम तोड़ दिया है. हालांकि बुजुर्ग की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट उसकी मौत के बाद सामने आई है. वहीं प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस की वजह से 5 लोगों की मौत हो चुकी है.

Coronavirus Updates: देशभर में 3300 से अधिक लोग हुए संक्रमित, देशभर में 274 जिले प्रभावित- स्वास्थ्य मंत्रालय

राजस्थान में कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 254:
आज दौसा में 2 संक्रमित पाए गए है. इसके अलावा झुंझुनूं, नागौर और टोंक में भी एक-एक केस पॉजिटिव मिला है. इसके अलावा जोधपुर में ईरान से आए तीन लोग संक्रमित मिले हैं. जिसके बाद राजस्थान में कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 254 पहुंच गई.

प्रदेश के 20 जिलों में कोरोना वायरस अपने पैर पसार चुका:
प्रदेश के 20 जिलों में कोरोना वायरस अपने पैर पसार चुका है. सबसे ज्यादा मामले राजधानी जयपुर में मिले हैं. यहां अब तक 94 (2 इटली के नागरिक) पॉजिटिव सामने आए हैं. वहीं इसके बाद जोधपुर में 48 (इसमें 31 ईरान से आए) दूसरे नंबर पर है.  भीलवाड़ा में सरकार के प्रयासों के चलते स्थिती नियंत्रण में आ गई है, वहां पर 27 पॉजिटिव के साथ मरीजों की संख्या स्थिर बनी हुई है. 

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा

देशभर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 79:
देश में कोरोना वायरस के हालात को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि देश में कल से लेकर आज तक कोरोना वायरस के 472 नए मामले सामने आए हैं. वहीं देशभर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 79 हो गई है, जबकि 3300 से अधिक लोग संक्रमित हैं. उन्होंने बताया कि कल से लेकर आज तक में कोरोना से 11 लोगों की मौत हुई है. 267 लोग इस वायरस से ठीक हुए है, जिन्हें इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है.

Coronavirus Updates: देशभर में 3300 से अधिक लोग हुए संक्रमित, देशभर में 274 जिले प्रभावित- स्वास्थ्य मंत्रालय

Coronavirus Updates: देशभर में 3300 से अधिक लोग हुए संक्रमित, देशभर में 274 जिले प्रभावित- स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस के हालात को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि देश में कल से लेकर आज तक कोरोना वायरस के 472 नए मामले सामने आए हैं. वहीं देशभर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 79 हो गई है, जबकि 3300 से अधिक लोग संक्रमित हैं. उन्होंने बताया कि कल से लेकर आज तक में कोरोना से 11 लोगों की मौत हुई है. 267 लोग इस वायरस से ठीक हुए है, जिन्हें इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है.

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा 

कोरोना वायरस से देश के 274 जिले प्रभावित: 
अग्रवाल ने बताया कि कोरोना वायरस से देश के 274 जिले प्रभावित है. इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय ने सार्वजनिक स्थान पर थूकने से कोरोना फैलने की आशंका जताई है. आयुष्मान योजना के तहत कोरोना का फ्री टेस्ट और इलाज होगा. लव अग्रवाल ने कहा कि कृषि क्षेत्र में लॉकडाउन में छूट दी गई है. लव अग्रवाल ने कहा कि सोशल डिस्टेंनसिंग और लॉकडाउन की दवा है.

तब्लीगी की घटना नहीं हुई होती तो नहीं बढ़ते मामले:
उन्होंने बताया कि अगर तब्लीगी की घटना नहीं हुई होती तो केस 7.1 दिनों में दुगुना होता, जबकि अभी 4.1 दिनों में दुगुना हो रहा है. आज कैबिनेट सचिव ने देश के सभी जिलाधिकारियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए बैठक कर ज़िलाधिकारियों से अपने अपने जिलों में आपात प्रबंधन योजना बनाने को कहा है. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी 

27,661 राहत शिविरों में 12.5 लाख लोगों ने शरण ली:
प्रेस कॉन्फ्रेंस में गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने बताया कि 27,661 राहत शिविर और आश्रय गृह पूरे भारत में सभी राज्यों में स्थापित किए गए हैं. इनमें से 23,924 सरकार द्वारा और 3,737 गैर-सरकारी संगठनों द्वारा तैयार किया गया है. उन्होंने बताया कि इनमें 12.5 लाख लोगों ने शरण ली हुई हैं. 19,460 खाद्य शिविर भी स्थापित किए गए हैं. इनमें से 9,951 सरकार द्वारा और 9,509 गैर-सरकारी संगठनों द्वारा तैयार किया गया है. संयुक्त सचिव ने बताया कि 75 लाख से अधिक लोगों को भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है.


 

Coronavirus Updates: पीएम मोदी ने की प्रणब, सोनिया, मनमोहन समेत देश के कई बड़े नेताओं बात

Coronavirus Updates: पीएम मोदी ने की प्रणब, सोनिया, मनमोहन समेत देश के कई बड़े नेताओं बात

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रसार को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, मुलायम सिंह, अखिलेश यादव और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समेत देश के कई बड़े नेताओं से बात की है. 

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा 

पीएम अलग-अलग लोगों के लगातार चर्चा कर रहे: 
कोरोना महामारी पर सरकार की तैयारियों को लेकर पीएम अलग-अलग लोगों के लगातार चर्चा कर रहे हैं. इसी के चलते आज पूर्व राष्ट्रपति, पूर्व प्रधानमंत्री और अलग-अलग पार्टी के नेताओं से बात की. देश फिलहाल कोरोना वायरस की महामारी से कैसे जूझ रहा है और सरकार की इसको लेकर किस तरही की तैयारियां है, इस पर बात की गई. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी 

प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों से भी की थी बात:
इससे पहले पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों से भी 2 अप्रैल को बात की थी. इस दौरान राज्यों ने केंद्र सरकार से मेडिकल किट, बकाया पैसे के साथ ही आर्थिक मदद की मांग की थी. इसके बाद प्रधानमंत्री ने देश के अलग-अलग खेलों से संबंधित दिग्गज 40 खिलाड़ियों से कोरोना वायरस को लेकर चर्चा की थी. 

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा

मेलबर्न: संक्रामक महामारी कोरोना वायरस का ऑस्ट्रेलियाई शोधकर्ताओं ने इलाज ढूंढ़ निकालने का दावा किया है. शोधकर्ताओं दवा बनाने की शुरुआती तरकीब खोजने की बात कही है. इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि एक परजीवी रोधी दवा (एंटी पेरासिटिक्स ड्रग) 48 घंटे के भीतर कोशिकाओं में विकसित किए गए कोरोना वायरस को मार सकती है. उन्होंने बताया कि यह परजीवी रोधी दवा दुनियाभर में पहले से ही मौजदू है. 

VIDEO: कोरोना संकट के चलते राजस्थान में टूरिज्म इंडस्ट्री को 500 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान  

एक खुराक 48 घंटों तक सभी वायरल आरएनए को हटा सकती है:
अध्ययन के मुताबिक एंटीवायरल रिसर्च नामक पत्रिका में प्रकाशित दवा इवरमेक्टिन ने वायरस, सार्स-सीओवी-2 को 48 घंटे के भीतर सेल कल्चर में बढ़ने से रोक दिया. इसके साथ ही शोधकर्ताओं ने बताया कि यह प्रारंभिक शोध कोविड-19 के लिए एक नई नैदानिक चिकित्सा पद्धति के विकास और विस्तृत परीक्षण का पड़ाव बन सकता है. जानकारी में सामने आया कि इस दवा की एक खुराक भी निश्चित रूप से 48 घंटों तक सभी वायरल आरएनए को हटा सकती है. इतना ही नहीं इसमें 24 घंटे में ही काफी कमी आई है. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी 

परिणामों से शोधकर्ताओं में उत्साह:
जानकारी के अनुसार संभावित दवा के रूप में इस्तेमाल होने वाली इवरमेक्टिन के परिणामों से शोधकर्ताओं में उत्साह है. हालांकि, शोधकर्ताओं ने कहा कि अब यह पता लगाने की जरूरत है कि क्या आप इसे मनुष्यों में इस्तेमाल कर सकते हैं या नहीं और मनुष्यों में यह कितनी प्रभावी होगी. 


 

VIDEO: कोरोना संकट के चलते राजस्थान में टूरिज्म इंडस्ट्री को 500 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान

जयपुर: प्रदेश में कोरोना संकट के दौरान किए गए लॉक डाउन से अभी तक टूरिज्म इंडस्ट्री को 500 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान हो चुका है. पर्यटन और उससे जुड़े तमाम उद्योग ठप हैं ऐसे में रोजाना ट्रैवल ट्रेड को 50 करोड़ से अधिक का नुकसान हो रहा है. आशंका इस बात की है कि हालात जल्द नहीं सुधरे तो कम से कम इस वर्ष प्रदेश में पर्यटन व्यवसाय हाशिए पर ही रहेगा जिसके बुरे प्रभाव आने वाले 2 वर्षों तक दिखाई दे सकते हैं. प्रदेश में 18 मार्च से ही सभी किले, महल, स्मारक, नेशनल पार्क, सफारी, मेले और उत्सव बंद हैं. अब 14 अप्रैल तक कम से कम इनमें कोई भी पर्यटक गतिविधि नहीं होगी. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी 

- ट्रैवल ट्रेड को लॉक डाउन से अभी तक 500 करोड़ का नुकसान
- रोजाना करीब 50 करोड रुपए का हो रहा नुकसान
- पर्यटन स्थल बंद होने से चरमराया ट्रैवल ट्रेड का ढांचा
- प्रदेश के 700 से अधिक सितारा, बजट व छोटे होटल बंद
- प्रदेश के 2000 से अधिक अधीकृतरेस्टोरेंट व क्लब भी बंद
- होटल, फॉरेन एक्सचेंज, गाइड, टैक्सी ऑपरेटर 
- जिप्सी ऑपरेटर, हैंडीक्राफ्ट, वेंडर, हॉकर सभी को भारी नुकसान
- प्रदेश में 18 मार्च से बंद हैं पर्यटन स्थल व नेशनल पार्क
- पुरातत्व विभाग को अभी तक 2 करोड़ से अधिक का नुकसान

कोरोना के कहर से प्रदेश का पर्यटन व्यवसाय वेंटिलेटर पर चला गया है. टूरिज्म इंडस्ट्री से जुड़े तमाम लोगों की रोजी-रोटी पर खतरा मंडरा रहा है. अकेले राजस्थान की बात करें तो करीब 10 लाख से ज्यादा लोग अचानक बेरोजगार हो गए हैं. रोजाना 50 करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है और अभी तक की बात करें तो पर्यटन उद्योग को 500 से 700 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है. कोरोना की बढ़ती दहशत के बीच राज्य सरकार ने 18 मार्च को लॉक डाउन अवधि तक के लिए प्रदेश के सभी किले, महल, स्मारक, नेशनल पार्क, सफारी, मेले, उत्सव और तमाम इवेंट बंद कर दिए थे. इस फैसले के बाद प्रदेश में पर्यटकों की गतिविधि पूरी तरह से ठप हो गई है और जो देशी और विदेशी सैलानी राजस्थान में थे उनमें से 90 फ़ीसदी से अधिक  अपने वतन लौट चुके हैं. जो आमेर, जंतर मंतर और हवा महल पर्यटकों की चहल-पहल से रोशन रहते थे  आज उनमें सन्नाटे का चीत्कार उठ रहा है. 

प्रदेश में छोटे-बड़े 700 से अधिक होटल वीरान:
पुरातत्व विभाग को भी अभी तक राजधानी जयपुर सहित प्रदेश के तमाम स्मारक और संग्रहालय बंद होने से 10 करोड़ से अधिक का नुकसान हो चुका है. टूर ऑपरेटर, ट्रैवल एजेंट्स ने इस वर्ष 31 दिसंबर तक जो इवेंट तैयार किए थे उन सब को रद्द करना पड़ा है.  मैरिज टूरिज्म, रिलिजियस टूरिज्म, रूरल टूरिज्म, मेडिकल टूरिज्म सहित करीब डेढ़ हजार से दो हजार इवेंट रद्द करने पड़े हैं. प्रदेश में छोटे-बड़े 700 से अधिक होटल और दो हजार से अधिक अधिकृत क्लब व रेस्टोरेंट वीरान पड़े हैं. रणथंभौर, सरिस्का, मुकंदरा, भरतपुर में घना, कुंभलगढ़, चित्तौड़, झालाना लेपर्ड सफारी को भी बंद है. 

VIDEO: कोरोना को लेकर SMS मेडिकल कॉलेज में बड़ी खलबली! कैंटीन में कार्यरत मिला कोरोना पॉजिटिव 

लाखों लोग बेरोजगार:
प्रदेश में पर्यटक गतिविधि बंद किए जाने से ट्रैवल ट्रेड को भारी नुकसान हुआ है पर्यटकों के परिवहन से जुड़े टैक्सी ड्राइवर, जिप्सी संचालक और हाथी गांव में पल रहे हाथी और महावतों के सामने भी रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है. जो वेंडर और होकर छोटे-छोटे सामान बेचकर अपने घर पर 2 जून की रोटी का इंतजाम करते थे उनके चेहरे पर निराशा के भाव साफ देखे जा सकते हैं. दरअसल पर्यटन पर कोरोना का कहर इस कदर टूटा है कि लाखों लोग बेरोजगार हुए हैं, अरबों रुपए का व्यवसाय चौपट हुआ है और ऐसी कोई उम्मीद नहीं कि अगले 1 साल में भी पर्यटन उद्योग वापस अपने पैरों पर खड़ा हो पाएगा. 

UP Corona Update: कोरोना वायरस से वाराणसी में पहली मौत, गौतमबुद्धनगर में 30 अप्रैल तक धारा 144 लागू

UP Corona Update: कोरोना वायरस से वाराणसी में पहली मौत, गौतमबुद्धनगर में 30 अप्रैल तक धारा 144 लागू

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है. तब्लीगी जमात में शामिल हुए लोगों के कारण प्रदेश में तजी से संक्रमण का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है. आज सुबह से अब तक  33 नए मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई है. इसी के साथ कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 286 हो गई है. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी 

कोरोना से संक्रमित मरीज की मौत के बाद पॉजिटिव आई रिपोर्ट:
वहीं वाराणसी में कोरोना के चलते पहली मौत की खबर सामने आई है. तीन अप्रैल को कोरोना के जिस संक्रमित मरीज की मौत हो गई थी उनकी रिपोर्ट आज पॉजिटिव आई है. इसी के साथ एक महिला पॉजिटिव पाई गई है जिसे देखते हुए 4 इलाकों मदनपुरा, बजरडीहा, लोहता और गंगापुर में कर्फ्यू लगा दिया गया है. 

गौतमबुद्धनगर जिले में धारा 144 की अवधि को 30 अप्रैल तक:
इसके साथ ही कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए गौतमबुद्धनगर जिले में धारा 144 की अवधि को 30 अप्रैल तक के लिए बढ़ा दिया गया है. पहले इसे 5 अप्रैल के तक के लिए लागू किया गया था. लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए धारा 144 को 30 अप्रैल तक के लिए बढ़ाया गया है. 

मथुरा में 23 जमातियों की रिपोर्ट निगेटिव:
इन सबके अलावा सुखद खबर यह है कि दिल्ली के तब्लीगी जमात से मथुरा लौटे कुल 30 जमातियों में से 23 की रिपोर्ट निगेटिव आई है. स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि 7 जमातियों की रिपोर्ट आनी बाकी है.

VIDEO: कोरोना को लेकर SMS मेडिकल कॉलेज में बड़ी खलबली! कैंटीन में कार्यरत मिला कोरोना पॉजिटिव 

प्रदेश में दीये जलाने की तैयारियां:
पीएम नरेंद्र मोदी के आह्वान के बाद रात नौ बजे दीये-मोमबत्ती जलाने के लिए प्रदेश के लोगों ने भी तैयारियां शुरू कर दी हैं. कोरोना के खिलाफ जंग में ताजनगरी के मुस्लिम समाज के लोगों ने भी घरों में दीये, मोमबत्ती और टॉर्च जालने की तैयारी कर ली है. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी

जयपुर: यदि लॉकडाउन के दौरान कोरोना वायरस पर स्थिति नियंत्रण में रही तो 15 अप्रैल से ट्रेनों का संचालन सुचारू किया जा सकता है. रेलवे बोर्ड ने ट्रेनों का संचालन शुरू करने के लिए सभी 16 जोन और मंडल प्रबंधकों को निर्देश दिए हैं. 

VIDEO: कोरोना को लेकर SMS मेडिकल कॉलेज में बड़ी खलबली! कैंटीन में कार्यरत मिला कोरोना पॉजिटिव 

वीसी में अधिकारियों को  इंजनों का परीक्षण करने के निर्देश: 
कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण देशभर में ट्रेनों का संचालन बंद है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाए जाने के दिन से ही ट्रेनों का संचालन नहीं हो रहा है. 14 अप्रैल तक लॉकडाउन होने के कारण ट्रेनें बंद हैं, केवल मालगाड़ियां ही संचालित हो रही हैं. 14 अप्रैल को लॉकडाउन समाप्त होने के बाद ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया जाएगा. इसके लिए रेलवे प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी हैं. रेलवे बोर्ड चेयरमैन ने हाल ही इसे लेकर सभी 16 जोनल रेलवे के महाप्रबंधकों और मंडलों के डीआरएम के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की थी. वीसी में अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि सभी जोनल रेलवे और मंडल अपने-अपने कोच और इंजनों का परीक्षण कर लें, जिससे कि 15 अप्रैल से ट्रेनों का संचालन शुरू किया जा सके.

ट्रेनों के संचालन को लेकर बनाई जा रही योजना:
उत्तर-पश्चिम रेलवे के ऑपरेशन सेक्शन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 15 से एक साथ सभी ट्रेनें नहीं चलेंगी. पहले ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित किया जाएगा, जहां पर कोरोना का प्रकोप ज्यादा है. यानी कोरोना के हॉट स्पॉट वाले क्षेत्रों के लिए ट्रेनों का संचालन शुरुआती दिनों में नहीं होगा या ऐसे क्षेत्रों से होकर गुजरने वाली ट्रेनों का स्टॉपेज इन शहरों में नहीं दिया जाएगा. सूची तैयार कर यह योजना बनाई जा रही है कि किन ट्रेनों का संचालन शुरू करना है और किन ट्रेनों का संचालन थोड़े दिनों बाद किया जाएगा. लंबे रूट की ऐसे ट्रेनें, जिनमें यात्रीभार ज्यादा रहता है, उन्हें शुरुआती दिनों में शुरू कर दिया जाएगा, जिससे यात्रियों को सुविधा मिल सके. जिन रूटों पर नियमित ट्रेनों का संचालन नहीं किया जाएगा, उनके लिए साप्ताहिक स्पेशल ट्रेनें चलाई जाएंगी.

Rajasthan Corona Update: प्रदेश में कोरोना की चपेट में आने से 5वीं मौत, पॉजिटिव केस का आंकड़ा हुआ 210 

सभी जोनल रेलवे से उनके कोचों की जानकारी मांगी:
इस बीच रेलवे बोर्ड के कोचिंग सेक्शन के कार्यकारी निदेशक ने अब सभी जोनल रेलवे से उनके कोचों की जानकारी मांगी है. संचालन से पहले सभी कोचों को बेहतर तरीके से डिसइन्फैक्टेंट से सैनिटाइज करने के निर्देश दिए हैं. यह भी कहा गया है कि 15 अप्रैल से ट्रेन चलाने के लिए अपनी तरफ से तैयारी पूरी कर लें. जिन कोच की मेंटिनेंस का कार्य नहीं हो सका है, उन्हें शेड या साइडिंग से मेंटिनेंस डिपो और पिट लाइन पर भेजा जाए, ताकि 15 अप्रैल से पहले सभी कोच तैयार किए जा सकें. कुलमिलाकर रेलवे प्रशासन की इन तैयारियों को देखकर लगता है कि 15 अप्रैल से जीवन एक बार फिर पटरी पर लौट सकेगा.

....काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर

Open Covid-19