आंध्र प्रदेश में भीषण हादसा, चूना पत्थर की खदान में विस्फोट में नौ लोगों की मौत

आंध्र प्रदेश में भीषण हादसा, चूना पत्थर की खदान में विस्फोट में नौ लोगों की मौत

आंध्र प्रदेश में भीषण हादसा, चूना पत्थर की खदान में विस्फोट में नौ लोगों की मौत

अमरावती (आंध्र प्रदेश): आंध्र प्रदेश के कडापा जिले में चूना पत्थर की एक खदान में शनिवार को हुए विस्फोट में कम से कम नौ मजदूरों की मौत हो गई. लेकिन पुलिस के मुताबिक केवल पांच शवों की पहचान हो पाई है. विस्फोट स्थल पर शवों के क्षत-विक्षत बिखरे होने के कारण मृतकों की पहचान बहुत मुश्किल हो रही है. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि मृतकों में से कुछ पुलिवेंदुला निर्वाचन क्षेत्र से थे. पुलिवेंदुला मुख्यमंत्री वाई एस जगनमोहन रेड्डी का निर्वाचन क्षेत्र है.

हादसे के समय जिलेटिन की छड़ों की एक खेप उतारी जा रही थीः
कडापा जिले के पुलिस अधीक्षक के अंबुराजन ने फोन पर ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि यह हादसा तब हुआ जब मामिल्लापल्ली गांव के बाहर स्थित चूना पत्थर की खदान में जिलेटिन की छड़ों की एक खेप उतारी जा रही थी. धमाका इतना तेज था कि खेप लेकर आया वाहन पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया. जिलेटिन की यह छड़ें बुडवेल से लाई गई थीं.

हादसे की वजह का अब तक नहीं चल पाया पताः
दुर्घटनास्थल से एसपी ने बताया कि यह लाइसेंस प्राप्त खदान है और प्रमाणित संचालक द्वारा यह खेप लाई गई थी. धमाका तब हुआ जब छड़ों को वाहन से उतारा जा रहा था. हादसे की वजह का अब तक पता नहीं चला है.

सीएम रेड्डी ने हादसे में जान गंवाने वालों के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त कीः
मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी एक बयान के मुताबिक, मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने कडापा जिले के अधिकारियों से बात कर घटना की जानकारी ली. इसमें कहा गया कि उन्होंने हादसे में जान गंवाने वालों के परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की हैं.

एन चंद्रबाबू नायडू ने की मांग, मृतकों के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपए का मुआवजा दिया जाएः
विपक्ष के नेता एन चंद्रबाबू नायडू ने भी हादसे पर शोक प्रकट किया है और मांग की है कि मृतकों के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपए का मुआवजा दिया जाए जिस प्रकार पिछले साल विशाखापट्टनम में एलजी पॉलिमर में हुए स्टाइरिन गैस रिसाव के मृतकों को दिया गया था.
सोर्स भाषा

और पढ़ें