नई दिल्ली निर्मला सीतारमण बोलीं, जन सुरक्षा योजनाओं ने बीमा, पेंशन को आम आदमी तक पहुंचाया 

निर्मला सीतारमण बोलीं, जन सुरक्षा योजनाओं ने बीमा, पेंशन को आम आदमी तक पहुंचाया 

निर्मला सीतारमण बोलीं, जन सुरक्षा योजनाओं ने बीमा, पेंशन को आम आदमी तक पहुंचाया 

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को कहा कि तीन जन सुरक्षा योजनाओं- प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना और अटल पेंशन योजना ने बीमा और पेंशन सुविधा को आम आदमी की पहुंच में लाने का काम किया है. सीतारमण ने इन तीनों सामाजिक सुरक्षा योजनाओं की सातवीं वर्षगांठ के मौके पर कहा कि बीते सात वर्षों में इन योजनाओं के तहत नामांकित एवं लाभान्वित होने वाले लोगों की संख्या इनकी सफलता का प्रमाण है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नौ मई, 2015 को इन तीनों योजनाओं की शुरुआत की थी. वित्त मंत्री ने कहा कि जीवन ज्योति बीमा योजना शुरू होने के बाद से अब तक 12.76 करोड़ लोगों ने बीमा कवर के लिए नामांकन कराया है. इस दौरान 5,76,121 लोगों के परिवारों को दावे के रूप में 11,522 करोड़ रुपए मिले हैं. यह योजना कम आय वाले परिवारों के लिए महामारी के दौरान बेहद उपयोगी साबित हुई. वित्त वर्ष 2020-21 में भुगतान किए गए लगभग 50 प्रतिशत दावे कोविड-19 महामारी में जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों ने किए थे.

उन्होंने कहा कि महामारी की शुरुआत के बाद एक अप्रैल, 2020 से लेकर 23 फरवरी, 2022 तक कुल 2.10 लाख दावों का भुगतान 4,194.28 करोड़ रुपये के 99.72 प्रतिशत की निपटान दर के साथ किया गया. सीतारमण ने कहा कि प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (पीएमएसबीवाई) के तहत भी 28.37 करोड़ लोगों ने दुर्घटना कवर के लिए नामांकन किया है। इस दौरान 97,227 दावों के मद में 1,930 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया गया है.

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (पीएमजेजेबीवाई) दो लाख रुपए का जीवन बीमा कवर प्रदान करती है जबकि पीएमएसबीवाई के तहत मृत्यु या स्थायी विकलांगता की स्थिति में दो लाख रुपए और अस्थायी विकलांगता की स्थिति में एक लाख रुपये मिलते हैं. वित्त मंत्री ने अटल पेंशन योजना (एपीवाई) का जिक्र करते हुए कहा कि अब तक चार करोड़ से अधिक लोग इस पेंशन योजना के तहत पंजीकरण करा चुके हैं. इस अवसर पर वित्त राज्यमंत्री भागवत के कराड ने बैंकों और बीमा कंपनियों से अंतिम व्यक्ति को सामाजिक सुरक्षा कवर दिए जाने तक इसी उत्साह और समर्पण के साथ काम जारी रखने को कहा. (भाषा) 

और पढ़ें