Cyclone Nisarga: कोरोना संकट के साथ लगातार प्रकृति का प्रकोप भी जारी, विकराल रूप ले सकता है निसर्ग चक्रवात

Cyclone Nisarga: कोरोना संकट के साथ लगातार प्रकृति का प्रकोप भी जारी, विकराल रूप ले सकता है निसर्ग चक्रवात

Cyclone Nisarga: कोरोना संकट के साथ लगातार प्रकृति का प्रकोप भी जारी,  विकराल रूप ले सकता है निसर्ग चक्रवात

नई दिल्ली: कोरोना संकट के साथ लगातार प्रकृति का प्रकोप भी जारी है. बंगाल और उड़ीसा में अम्फान के कहर के बाद अब पश्चिमी तटीय इलाकों में चक्रवात निसर्ग दस्तक दे सकता है. चक्रवाती तूफान 'निसर्ग' गुजरात के तट पर 3 जून को दस्तक दे सकता है. इसके मद्देनजर महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा, दमन-दीव और दादरा नगर हवेली में अलर्ट जारी किया गया है. साथ ही आधा दर्जन से अधिक जिलों में नेशनल डिजास्टर रेस्पॉन्स फोर्स (NDRF) की 10 टीमें तैनात की गई हैं. निसर्ग के खतरे से निपटने के लिए कुल NDRF 23 टीमों को तैनात किया गया है.

VIDEO: लॉक डाउन के बाद और अनलॉक 1.0 की संभावनाओं को लेकर First India पर बोले सीएस डीबी गुप्ता  

बुधवार तक तटीय इलाकों में दस्तक देने का अनुमान: 
अभी चक्रवाती हवाएं मुंबई के तटीय इलाकों से 550 किमी और गुजरात के सूरत के दक्षिण-पश्चिमी दक्षिण इलाकों से 800 किमी दूर है. इन हवाओं के बुधवार तक तटीय इलाकों में दस्तक देने का अनुमान है. तीन जून तक महाराष्ट्र के उत्तरी इलाके और गुजरात के दक्षिण इलाकों में दस्तक देने का अनुमान है. 

हवा की गति 105 से 115 किमी प्रति घंटा होने का अनुमान:
चक्रवात निसर्ग के गंभीर चक्रवाती तूफान का रूप लेने के बाद हवा की गति 105 से 115 किमी प्रति घंटा हो सकती है. वहीं, कल यानी 3 जून को हवा की रफ्तार 125 किलोमीटर प्रति घंटा तक पहुंच सकती है. मौसम विभाग के मुताबिक, 'इससे दक्षिणी गुजरात क्षेत्र में 3 और 4 जून को भारी बारिश होगी.

पुलिसवाले ने ही की पुलिसवाले से ठगी, खुद का वीडियो बनाकर किया सोशल मीडिया पर वायरल 

अम्फान के मुकाबले थोड़ा कमजोर: 
हालांकि चक्रवात निसर्ग, चक्रवात अम्फान के मुकाबले थोड़ा कमजोर हो सकता है. अरब सागर में चल रही तेज हवाएं चार किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उत्तर की ओर चल रही हैं और मुंबई से 550 किमी दूर है. चक्रवात निसर्ग से महाराष्ट्र के रायगढ़ में हरिहरेश्वर और दमन में तीन जून को भूस्खलन हो सकता है. 


 

और पढ़ें