कितना भी मतभेद हो, कानून और संविधान की मर्यादा में रहें- मोहन भागवत

कितना भी मतभेद हो, कानून और संविधान की मर्यादा में रहें- मोहन भागवत

कितना भी मतभेद हो, कानून और संविधान की मर्यादा में रहें- मोहन भागवत

नागपुर: आज देशभर में विजयादशमी का पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है. विजयदशमी के मौके पर नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की ओर से पथ संचलन का आयोजन किया गया. इस अवसर पर स्वयंसेवको को संबोधित करते हुए संघ प्रमुख मोहन भागवत ने मोदी सरकार की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा कि यह मजबूत सरकार है जिसने कई साहसिक फैसले लिए हैं. अनुच्छेद 370 को खत्म करने के सरकार के फैसले का उन्होंने स्वागत किया.

हिंसा की प्रवृत्ति समाज में परस्पर संबंधों को नष्ट करती है: 
वहीं मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर मोहन भागवत का कहना है कि कानून व्यवस्था की सीमा का उल्लंघन कर हिंसा की प्रवृत्ति समाज में परस्पर संबंधों को नष्ट कर अपना प्रताप दिखाती है. यह प्रवृत्ति हमारे देश की परंपरा नहीं है, न ही हमारे संविधान में यह है. कितना भी मतभेद हो, कानून और संविधान की मर्यादा में रहें. न्याय व्यवस्था में चलना पड़ेगा.

सरकार में जनता ने विश्वास दिखाया: 
मोहन भागवत ने कहा कि आरएसएस का पहला आंदोलन ही देश में एक विधान और एक परिधान के लिए हुआ था. उन्होंने कहा कि इस सरकार में जनता ने विश्वास दिखाया है. सरकार ने भी कई कड़े फैसले लेकर बताया कि उसे जनभावना की समझ है. नई सरकार को बढ़ी हुई संख्या में फिर से चुनकर लाकर समाज ने उनके पिछले कार्यों की सम्मति दी है. 

और पढ़ें