Live News »

सरकारी स्कूलों में जितने नामांकन, उतनी ही संख्या में पौधारोपण भी होगा जरुरी 

सरकारी स्कूलों में जितने नामांकन, उतनी ही संख्या में पौधारोपण भी होगा जरुरी 

जयपुर: 'वृक्ष मित्र अभियान, हरा-भरा मेरा राजस्थान' अभियान का आज से पूरे राजस्थान में शुभारंभ हो गया. अब तमाम सरकारी स्कूलों में जितने नामांकन होंगे, उतनी ही संख्या में पौधारोपण भी करने होंगे. साथ ही उच्च शिक्षा महकमा भी इसी तरीके की कवायद करेगा और तमाम पौधों के संरक्षण का भी संकल्प लेना होगा. एक रिपोर्ट:

पर्यावरण संरक्षण के लिए अनूठी पहल: 
शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा है कि पर्यावरण संरक्षण के लिए शिक्षा विभाग के इस अभियान में पेड़ तो सभी लगाएंगे ही साथ ही उनके संरक्षण का भी संकल्प लेंगे. शिक्षा विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों से कहा है कि हर एक कार्मिक कम से कम एक पौधा गोद ले और उसके संरक्षण की जिम्मेदारी लेते हुए नियमित उसकी देखभाल करें. यदि किसी का तबादला भी होता है, तो उसके संरक्षण का चार्ज भी देकर जायें. उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी की भी इस कार्यक्रम में मौजूदगी रही. उन्होंने कहा कि यदि प्रदूषण रोकना है तो अधिकाधिक संख्या में पौधे लगाने होंगे. उन्होंने तमाम उच्च शैक्षणिक संस्थानों के मुखिया और प्रमुख लोगों को पेड़ लगाने के साथ उनकी सार संभाल करने का भी टास्क दिया है.

कागज का उपयोग कम से कम करने का संकल्प:
कार्यक्रम में मौजूद हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति ओम थानवी ने कहा कि कागज का उपयोग कम से कम करने से भी पेड़ बचाने का और पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया जा सकता है. उन्होंने नजीर दी कि जब तक बहुत ज्यादा आवश्यकता नहीं हो तब तक हमें कागज के प्रिंट भी नहीं निकालना चाहिए. ओम थानवी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की भी तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें भी स्वागत सम्मान में फूलों की मालाएं और फूल इसलिए पसंद नहीं कि वह भी हमेशा पर्यावरण संरक्षण पर जोर देते हैं. 

हालांकि राज्य सरकार के दोनों महकमों ने अधिकाधिक पेड़ लगाने का आह्वान भी किया है. अभियान भी शुरू कर दिया है और जागरूकता के लिए भी कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं, लेकिन जब तक हम स्वयं जागरूक नहीं होकर इस अभियान में साथ नहीं देंगे, तब तक सफलता मिलना बेहद मुश्किल होगा. 

... संवाददाता ऐश्वर्य प्रधान की रिपोर्ट
 

और पढ़ें

Most Related Stories

मुख्य सचिव प्रकरण में लेटेस्ट अपडेट! गहलोत सरकार ने केन्द्र को भेजा था प्रस्ताव

जयपुर: राजस्थान के मुख्य सचिव प्रकरण में लेटेस्ट अपडेट सामने आई है. गहलोत सरकार ने केंद्र को राजीव स्वरूप के 6 माह के एक्सटेंशन का प्रस्ताव भेजा था लेकिन संभवत: कल दिल्ली से 6 माह के बजाय 3 माह का एक्सटेंशन प्रस्ताव भेजने का फोन आया है. ऐसे में इस 'डवलपमेंट' से एक बार फिर आस जगी है. अपनी लड़ाई लगभग हार चुके राजीव के लिए यह एक नई आस है. 

अभी भी ऊषा शर्मा-वीनू गुप्ता-निरंजन आर्य के नामों की चर्चा:  
दूसरी ओर अभी भी ऊषा शर्मा, वीनू गुप्ता और निरंजन आर्य के नामों की चर्चा चल रही है. ऐसे में यदि ऊषा शर्मा को मौका मिलता है तो ये वरिष्ठता का सम्मान होगा और वरिष्ठता के साथ-साथ "सीपी फैक्टर" भी खुश होगा. यदि डीबी गुप्ता के बाद वीनू को ये पद मिला तो ये उनकी "लॉ प्रोफाइल एंड साइलेंट परफॉर्मेंस" की "विक्ट्री" होगी. वहीं यदि निरंजन आर्य सीएस बने तो वे राज्य के पहले "नरेगा" सीएस होंगे. इसके साथ ही पिछड़ी जाति का कोई अफसर पहली बार सीएस बनेगा. 

{related}

नीलकमल दरबारी की भी आई थी सिफारिश: 
ऐसे में अब हर किसी की निगाहें PMO और सीएम गहलोत के फैसले पर टिकी हुई है. इसी बीच नीलकमल दरबारी की भी गांधी परिवार से निकट रिश्तों के कारण सिफारिश आई थी. लेकिन अंतत: गहलोत सरकार में बात नहीं बनी. क्योंकि नीलकमल के पति एक मामले में सुरेश कलमाड़ी के साथ जेल जा चुके हैं. वैसे नीलकमल की शादी में खुद राजीव गांधी भी शामिल हुए थे.  

निरंजन बने सीएस तो इसका जाएगा जबरदस्त राजनीतिक मैसेज:
वहीं यदि सचमुच निरंजन सीएस बने तो इसका जबरदस्त राजनीतिक मैसेज जाएगा. इसके साथ ही SC-ST, पिछड़ा वर्ग को गहलोत द्वारा आगे लाने का मैसेज भी जाएगा. इसके साथ ही DGP के पद पर पहले ही एक जाट अफसर की नियुक्ति हो रही है. इस प्रकार जाट और पिछड़े वर्ग की सोशल इंजीनियरिंग बनेगी. 
 

Nagar Nigam Polls : सुबह 10 बजे तक जोधपुर में सर्वाधिक 20.43 फीसदी तो सबसे कम जयपुर में 16.91 प्रतिशत हुआ मतदान

Nagar Nigam Polls : सुबह 10 बजे तक जोधपुर में सर्वाधिक 20.43 फीसदी तो सबसे कम जयपुर में 16.91 प्रतिशत हुआ मतदान

जयपुर: राजस्थान में जयपुर हेरिटेज, जोधपुर उत्तर और कोटा उत्तर नगर निगमों में आज प्रथम चरण के चुनाव के लिए मतदान हो रहा है. इसके लिए सुबह 7:30 बजे मतदान प्रक्रिया शुरू हुई. वोट देने के लिए लोग सुबह से ही बूथ पर अपना आईडी कार्ड लेकर पहुंच रहे हैं. प्रदेश की 3 नगर निगमों में हो रहे चुनाव में सुबह 10 बजे तक 18.30% मतदान हुआ. इसमें जोधपुर में सर्वाधिक 20.43% और सबसे कम 16.91 प्रतिशत मतदान जयपुर में हुआ. 

16 लाख 54 हजार 547 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे:
बता दें कि पहले चरण में 250 वार्डों के 2761 मतदान केंद्रों पर 16 लाख 54 हजार 547 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे. इसमें जयपुर हैरिटेज के 100 वार्डों के 9 लाख 32 हजार 908 मतदाताओं में 4 लाख 91 हजार 633 पुरुष, 4 लाख 41 हजार 260 महिला व 15 अन्य, जोधपुर उत्तर के 80 वार्डों के 3 लाख 88 हजार 847 मतदाताओं में से 1 लाख 99 हजार 505 पुरुष, 1 लाख 89 हजार 339 महिला व 3 अन्य और कोटा उत्तर के 70 वार्डों के 3 लाख 32 हजार 792 मतदाताओं में से 1 लाख 70 हजार 959 पुरुष, 1 लाख 61 हजार 831 महिला व 2 अन्य मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे.

{related}

3393 ईवीएम से होगा मतदान:
पहले चरण में 3 हजार 393 ईवीएम मशीनों के द्वारा चुनाव करवाए जाएंगे. सभी निकायों में लगभग 30 प्रतिशत मशीनें रिजर्व में रखी गई हैं. चुनाव कार्य से जुड़ी सूचनाओं और लोगों की शिकायतों पर कार्यवाही के लिए आयोग ने मुख्यालय और जिलास्तर पर चुनाव नियंत्रण कक्ष स्थापित किये हैं.
 

Gujjar Reservation: गुर्जर आरक्षण के मसले को लेकर कैबिनेट सब कमेटी की बैठक आज, गुर्जर नेताओं ने कहा- वे नहीं होंगे शामिल

जयपुर: प्रदेश में एक बार फिर गुर्जर आरक्षण आंदोलन की चिंगारी भड़क सकती है. अपनी मांगों को न माने जाने पर गुर्जर समाज ने 2 दिन बाद सड़क पर उतरने का ऐलान किया है. गुर्जर समाज ने भरतपुर जिले के बयाना में स्थित पीलूपुरा से आंदोलन शुरू करने का निर्णय लिया है. इसके लिये 1 नवंबर को सुबह 10 बजे शहीद स्थल पर महापंचायत होगी. इसके बाद राजस्थान को जाम करने की चेतावनी दी है. 

आज शाम 4 बजे होगी कैबिनेट सब कमेटी की बैठक: 
वहीं इससे पहले आज शाम 4 बजे गुर्जर आरक्षण के मसले को लेकर कैबिनेट सब कमेटी की बैठक होगी. यह बैठक मंत्री बीडी कल्ला की अध्यक्षता में होगी. इसमें मंत्री रघु शर्मा और अशोक चांदना भी शामिल होंगे. इनके अलावा सीएस राजीव स्वरूप, DOP व अन्य विभागों के अधिकारी भी बैठक में शामिल होंगे. 

{related}

बैठक में शामिल नहीं होंगे गुर्जर नेता:
उधर गुर्जर नेताओं ने कहा कि वे बैठक में शामिल नहीं होंगे. पिछली 2 बैठकों में भी गुर्जर प्रतिनिधियों को नहीं बुलाया गया था. ऐसे में इस बार भी वे शामिल नहीं होंगे. अभी भर्तियों में बैकलॉग प्रक्रिया के मसले का हल निकालना मुद्दा है. इससे पहले सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार संघर्ष समिति को वार्ता के लिए आमंत्रित किया गया है. 

1 नवंबर को पूरे राजस्थान को जाम करने की चेतावनी:
इससे पहले आंदोलन को लेकर बुधवार को बयाना के मारौली गांव में 36 गांवों के गुर्जर समाज की बैठक आयोजित की गई. बैठक में गुर्जर नेता विजय बैंसला सहित समाज के पंच पटेल भी मौजूद रहे. इस महापंचायत में समाज की मांगें आगामी 2 दिन में पूरी नहीं होने पर 1 नवंबर को पूरे राजस्थान को जाम करने की चेतावनी दी गई. वहीं राज्य सरकार ने कहा है कि सभी मांगों का निस्तारण बातचीत से ही संभव होगा. सरकार ने गुर्जर नेताओं को वार्ता के लिये जयपुर आने का न्यौता दिया है, लेकिन वे इससे सहमत नहीं हैं.

Nagar Nigam Polls : मतदान के बाद बोले परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, कहा- जयपुर शहर में जितने भी विकास कार्य हुए हैं, सब कांग्रेस की देन

जयपुर: राजस्थान में जयपुर हेरिटेज, जोधपुर उत्तर और कोटा उत्तर नगर निगमों में आज प्रथम चरण के चुनाव के लिए मतदान हो रहा है. इसके लिए सुबह 7:30 बजे मतदान प्रक्रिया शुरू हुई. वोट देने के लिए लोग सुबह से ही बूथ पर अपना आईडी कार्ड लेकर पहुंच रहे हैं. परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास भी सपरिवार सिविल लाइंस में टाइनी ब्लॉसम्स स्कूल में मतदान किया.  

जयपुर शहर में विकास कार्य कांग्रेस की ही देन: 
खाचरियावास ने मतदान के बाद कहा कि कांग्रेस पार्टी विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ती है. जयपुर शहर में जितने भी विकास कार्य हुए हैं वे सब कांग्रेस की ही देन हैं. चाहे हम जयपुर मेट्रो हो, घाट की गूणी टनल हो, जेएलएन मार्ग हो, ओवरब्रिज हो या चाहे शहर के बरामदे हो ये सभी कार्य कांग्रेस ने किए हैं. परिवहन मंत्री ने कहा कि कांग्रेस जीतने के बाद हर वार्ड में जनता अदालत लगाएगी. इस दौरान मैं खुद जनता की समस्याओं के समाधान के लिए मौजूद रहूंगा. 

{related}

बिजली के बिल माफ करने की पावर शहरी सरकार में नहीं:
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा ने विजन डॉक्यूमेंट में उन मुद्दों को लेकर भी वादे किए जो कि राज्य सरकार के अधीन हैं. बिजली के बिल माफ करने की पावर शहरी सरकार में नहीं है ऐसे में इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए. शहर में निश्चित रूप से कांग्रेस की सरकार बनेगी. हेरिटेज और ग्रेटर दोनों नगर निगम में कांग्रेस का बोर्ड बनेगा. इस दौरान खाचरियावास ने हाइब्रिड मेयर लाने के मुद्दे को भी साफ तौर पर नकार दिया. वहीं इस दौरान खाचरियावास की पत्नी ने भी कांग्रेस के लिए मतदान करने की अपील की. 

जयपुर हेरिटेज नगर निगम में 9.32 लाख मतदाता करेंगे मतदान:
बता दें कि प्रथम चरण में 100 वार्डों के 1581 मतदान केंद्रों पर 9 लाख 32 हजार 908 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे. इसमें 4 लाख 91 हजार 633 पुरुष, 4 लाख 41 हजार 260 महिला व 15 अन्य मतदाता है. जयपुर हैरिटेज में 430 प्रत्याशी अपने किस्मत आजमा रहे हैं. इनमें 200 प्रत्याशी कांग्रेस व भाजपा के है. इसके अलावा 230 प्रत्याशी निर्दलीय व बसपा, आरएलपी समेत अन्य पार्टियों के उम्मीदवार है. 


 

मकराना नगर परिषद आयुक्त को ACB ने 40 हजार की रिश्वत लेते दबोचा

 मकराना नगर परिषद आयुक्त को ACB ने  40 हजार की रिश्वत लेते दबोचा

जयपुर: राजस्थान का भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) अपनी पूरी फॉर्म में नजर आ रहा है, आए दिन किसी ना किसी बड़े अधिकारी या सरकारी कर्मचारी को रिश्वत लेते हुए दबोचा जाता है. हाल ही में एसीबी ने मकराना नगर परिषद के आयुक्त संतलाल मक्कड़ को 40 हजार रुपए की कथित रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है. खबर है कि आरोपी आवारा पशुओं को पकड़ने और बाहर छोड़ने के नाम पर बिल को रोक कर बैठा हुआ था और लगातार रिश्वत की मांग कर रहा था.  

ब्यूरो के महानिदेशक बीएल सोनी ने बताया कि परिवादी ने एसीबी में यह शिकायत दी थी कि उसे नगर परिषद मकराना क्षेत्र में आवारा पशुओं को पकड़ने का वर्क आर्डर मिला हुआ था, जिसके तहत आवारा पशुओं को बाहर छोड़ने के पांच लाख रुपए के बिल भुगतान बकाया थे. शिकायत के अनुसार बिल पास करने की एवज में आयुक्त संतलाल मक्कड़ 50 फीसदी राशि कमीशन के रूप में रिश्वत की मांग कर परिवादी को परेशान कर रहा था.

जिसके बाद एसीबी की टीम ने नगर परिषद मकराना आयुक्त संतलाल मक्कड़ को 40 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा था और आगामी कार्यवाही करते हुए उन्हें तुरंत हिरासत में लिया जा चुका है. आपको बता दे कि कुछ दिन पहले ही एक पुलिस कॉस्टेबल को 10 लाख की रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया था. फिलहाल एसीबी के सर्च ऑपरेशन लगातार जारी है, जिससे भ्रष्ट सरकारी कर्मचारियों की नींदे उड़ी हुई है. (सोर्स-भाषा)

{related}

Nagar Nigam Polls : जयपुर हैरिटेज, जोधपुर उत्तर, कोटा उत्तर में पहले चरण के लिए मतदान शुरू, 951 उम्मीदवारों के भाग्य का होगा फैसला

Nagar Nigam Polls : जयपुर हैरिटेज, जोधपुर उत्तर, कोटा उत्तर में पहले चरण के लिए मतदान शुरू, 951 उम्मीदवारों के भाग्य का होगा फैसला

जयपुर: प्रदेश में आज जयपुर, जोधपुर और कोटा नगर निगम (Municipal Corporation elections) के पहले चरण के लिये मतदान शुरू हो गया है. मतदान सुबह 7.30 बजे से  शाम 5.30 तक चलेगा. पहले चरण में आज जयपुर हैरिटेज, जोधपुर उत्तर और कोटा उत्तर के नगर निगमों के लिये वोट (Voting) डाले जायेंगे. तीन नगर निगमों में पहले चरण के लिए 16 लाख से ज्यादा मतदाता 951 उम्मीदवारों के लिए मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे.

इन वार्डों में हो रहा मतदान: 

- जयपुर हैरिटेज के 100, जोधपुर उत्तर के 80 और कोटा उत्तर के 70 कुल 250 वार्डों के लिए मतदान शुरू हो गया है. 

- जयपुर में 430, जोधपुर में 296 और कोटा में 225 और कुल 951 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला मतदाता करेंगे. पहले चरण में 2761 मतदान केंद्रों पर मतदान करवाया जा रहा है.

- कोरोना के मद्देनजर मतदान केंद्रों की संख्या में भी इजाफा किया गया है और मतदान समय को भी एक घंटा अधिक बढ़ाया है ताकि मतदाता भीड़ का हिस्सा बने बिना अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकें.

- उम्मीदवारों को मतदान केंद्र के बाहर बनाए जाने वाले बूथ पर अपने स्तर पर सेनेटाइजर की व्यवस्था रखने के निर्देश दिए हैं और मतदाताओं की सहायता के लिए लगाए समर्थकों को पूरे समय मास्क लगाने के लिए कहा गया है.

- इन बूथों पर अनावश्यक भीड़ ना हो और केवल एक व्यक्ति या मतदाता ही वहां खड़ा रहे. इन बूथों पर किसी भी तरह की प्रचार सामग्री भी नहीं रखी जानी चाहिए. साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कोरोना प्रोटोकॉल की कड़ाई से पालना की जाए.

पहले चरण में 16 लाख से ज्यादा मतदाता कर सकेंगे मतदान:

 - पहले चरण में 250 वार्डों के 2761 मतदान केंद्रों पर 16 लाख 54 हजार 547 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे.

- इसमें जयपुर हैरिटेज के 100 वार्डों के 9 लाख 32 हजार 908 मतदाताओं में 4 लाख 91 हजार 633 पुरुष, 4 लाख 41 हजार 260 महिला व 15 अन्य, जोधपुर उत्तर के 80 वार्डों के 3 लाख 88 हजार 847 मतदाताओं में से 1 लाख 99 हजार 505 पुरुष, 1 लाख 89 हजार 339 महिला व 3 अन्य और कोटा उत्तर के 70 वार्डों के 3 लाख 32 हजार 792 मतदाताओं में से 1 लाख 70 हजार 959 पुरुष, 1 लाख 61 हजार 831 महिला व 2 अन्य मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे.

{related}

3393 ईवीएम से होगा मतदान:

- पहले चरण में 3 हजार 393 ईवीएम मशीनों के द्वारा चुनाव करवाए जाएंगे. सभी निकायों में लगभग 30 प्रतिशत मशीनें रिजर्व में रखी गई हैं.

- चुनाव कार्य से जुड़ी सूचनाओं और लोगों की शिकायतों पर कार्यवाही के लिए आयोग ने मुख्यालय और जिलास्तर पर चुनाव नियंत्रण कक्ष स्थापित किये हैं.

दिव्यांगों की मदद के लिए:

- स्काउट गाइड, एनएसएस और एनसीसी के वॉलंटियर लगाए गए हैं. कई निकायों पर दिव्यांगों को और उनके सहायकों को घर से लाने ले जाने के लिए भी परिवहन की व्यवस्था की गई है. 

- भारत निर्वाचन आयोग की ओर से जारी इपिक या 11 अन्य वैकल्पिक दस्तावेजों में से किसी एक को दिखाकर भी मतदाता अपना वोट डाल सकते हैं.

राज्य निर्वाचन आयुक्त की अपील और निर्देश:
सभी मतदाता अपने घर से मास्क लगाकर मतदान के लिए जाएं. केंद्र में बिना मास्क के प्रवेश नहीं दिया जाएगा. मतदान केंद्र में जाने से पहले हाथों को सेनेटाइज करें और मतदान के समय पंक्ति में खड़े रहने के दौरान चिन्हित गोलों पर खड़े रहकर या सामाजिक दूरी बनाते हुए अपनी बारी का इंतजार करें. मतदान के दौरान सीनियर सिटीजन और दिव्यांगजनों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए. उन्होंने मतदाता, उम्मीदवार या उनके समर्थकों से मतदान केंद्र या आसपास भीड़ या समूह में खड़े नहीं रहने की भी अपील की.

- मतदाता मतदान से पहले मतदान केंद्र से जुड़ी सभी जानकारी आयोग की वेबसाइट http://sec.rajasthan.gov.in/
पंचायतीराज संस्थाओं के जिला परिषद सदस्य एवं पंचायत समिति सदस्य के निर्वाचन हेतु मान्यता प्राप्त राजनैतिक दल व आरक्षित प्रतीक की संशोधित अधिसूचना http://sec.rajasthan.gov.in/  या मतदाता सहायता सेवा के जरिए भी जान सकते हैं. मतदाता वेबसाइट पर नाम द्वारा या इपिक कार्ड के नंबर द्वारा भी मतदाता सूची में स्वयं का नाम और संबंधित मतदान केंद्र की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

जयपुर हैरिटेज,जोधपुर उत्तर,कोटा उत्तर में पहले चरण के लिए मतदान, कुल 951 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे मतदाता

जयपुर हैरिटेज,जोधपुर उत्तर,कोटा उत्तर में पहले चरण के लिए मतदान, कुल 951 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे मतदाता

जयपुर: जयपुर हैरिटेज, जोधपुर उत्तर और कोटा उत्तर नगर निगमों में गुरुवार को सुबह 7:30 से प्रथम चरण के लिए चुनाव होंगे. राज्य निर्वाचन आयोग ने कोरोना गाइड लाइन की पालना के साथ चुनाव  कराने की सभी तैयारी पूरी कर ली है. तीन नगर निगमों में पहले चरण के लिए 16 लाख से ज्यादा मतदाता 951 उम्मीदवारों के लिए मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे.

- नगर निगम के  पहले चरण के लिए मतदान 29 अक्टूबर को सुबह 7.30 बजे से सायं 5.30 बजे तक करवाया जाएगा, जबकि मतगणना 3 नवंबर को सुबह 9 बजे से होगी.

इन वार्डों में होगा मतदान: 
-जयपुर हैरिटेज के 100, जोधपुर उत्तर के 80 और कोटा उत्तर के 70 कुल 250 वार्डों के लिए मतदान होगा.

-जयपुर में 430, जोधपुर में 296 और कोटा में 225 और कुल 951 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला मतदाता करेंगे। पहले चरण में 2761 मतदान केंद्रों पर मतदान करवाया जाएगा.

-कोरोना के मद्देनजर मतदान केंद्रों की संख्या में भी इजाफा किया गया है और मतदान समय को भी  घंटा अधिक बढ़ाया है ताकि मतदाता भीड़ का हिस्सा बने बिना अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकें.

-उम्मीदवारों को मतदान केंद्र के बाहर बनाए जाने वाले बूथ पर अपने स्तर पर सेनेटाइजर की व्यवस्था रखने के निर्देश दिए हैं और मतदाताओं की सहायता के लिए लगाए समर्थकों को पूरे समय मास्क लगाने के लिए कहा गया है.

-इन बूथों पर अनावश्यक भीड़ ना हो और केवल एक व्यक्ति या मतदाता ही वहां खड़ा रहे. इन बूथों पर किसी भी तरह की प्रचार सामग्री भी नहीं रखी जानी चाहिए. साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कोरोना प्रोटोकॉल की कड़ाई से पालना की जाए.

पहले चरण में 16 लाख से ज्यादा मतदाता कर सकेंगे मतदान:
 -पहले चरण में 250 वार्डों के 2761 मतदान केंद्रों पर 16 लाख 54 हजार 547 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे.
- इसमें जयपुर हैरिटेज के 100 वार्डों के 9 लाख 32 हजार 908 मतदाताओं में 4 लाख 91 हजार 633 पुरुष, 4 लाख 41 हजार 260 महिला व 15 अन्य, जोधपुर उत्तर के 80 वार्डों के 3 लाख 88 हजार 847 मतदाताओं में से 1 लाख 99 हजार 505 पुरुष, 1 लाख 89 हजार 339 महिला व 3 अन्य और कोटा उत्तर के 70 वार्डों के 3 लाख 32 हजार 792 मतदाताओं में से 1 लाख 70 हजार 959 पुरुष, 1 लाख 61 हजार 831 महिला व 2 अन्य मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे.

{related}

3393 ईवीएम से होगा मतदान:
-चरण में 3 हजार 393 ईवीएम मशीनों के द्वारा चुनाव करवाए जाएंगे. सभी निकायों में लगभग 30 प्रतिशत मशीनें रिजर्व में रखी गई हैं.

-चुनाव कार्य से जुड़ी सूचनाओं और लोगों की शिकायतों पर कार्यवाही के लिए आयोग ने मुख्यालय और जिलास्तर पर चुनाव नियंत्रण कक्ष स्थापित किये हैं.

दिव्यांगों की मदद के लिए:
-स्काउट गाइड, एनएसएस और एनसीसी के वॉलंटियर लगाए गए हैं. कई निकायों पर दिव्यांगों को और उनके सहायकों को घर से लाने ले जाने के लिए भी परिवहन की व्यवस्था की गई है. 

-भारत निर्वाचन आयोग की ओर से जारी इपिक या 11 अन्य वैकल्पिक दस्तावेजों में से किसी एक को दिखाकर भी मतदाता अपना वोट डाल सकते हैं.

राज्य निर्वाचन आयुक्त की अपील और निर्देश:
सभी मतदाता अपने घर से मास्क लगाकर मतदान के लिए जाएं. केंद्र में बिना मास्क के प्रवेश नहीं दिया जाएगा. मतदान केंद्र में जाने से पहले हाथों को सेनेटाइज करें और मतदान के समय पंक्ति में खड़े रहने के दौरान चिन्हित गोलों पर खड़े रहकर या सामाजिक दूरी बनाते हुए अपनी बारी का इंतजार करें. मतदान के दौरान सीनियर सिटीजन और दिव्यांगजनों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए. उन्होंने मतदाता, उम्मीदवार या उनके समर्थकों से मतदान केंद्र या आसपास भीड़ या समूह में खड़े नहीं रहने की भी अपील की.

-मतदाता मतदान से पहले मतदान केंद्र से जुड़ी सभी जानकारी आयोग की वेबसाइट sec.rajasthan.gov.in
पंचायतीराज संस्थाओं के जिला परिषद सदस्य एवं पंचायत समिति सदस्य के निर्वाचन हेतु मान्यता प्राप्त राजनैतिक दल व आरक्षित प्रतीक की संशोधित अधिसूचना sec.rajasthan.gov.in  या मतदाता सहायता सेवा के जरिए भी जान सकते हैं. मतदाता वेबसाइट पर नाम द्वारा या इपिक कार्ड के नंबर द्वारा भी मतदाता सूची में स्वयं का नाम और संबंधित मतदान केंद्र की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

Local Body Election 2020: हैरिटेज में बागी बने टेंशन, कांग्रेस ने 28 और भाजपा ने 17 अल्पसंख्यक नेताओं को बनाया उम्मीदवार

Local Body Election 2020: हैरिटेज में बागी बने टेंशन, कांग्रेस ने 28 और भाजपा ने 17 अल्पसंख्यक नेताओं को बनाया उम्मीदवार

जयपुर: पहली बार बने जयपुर हैरिटेज नगर निगम चुनाव में कल लाखों मतदाता प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे. कांग्रेस पार्टी अल्पसंख्यक वार्डो के दम पर अपना मेयर बनाने की उम्मीद लगाए है, लेकिन बोर्ड पर कब्जा करने के लिए कांग्रेस को बागियों की चुनौती से होकर गुजरना होगा. उधर भाजपा चारदीवारी के अपने मजबूत किले को बचाने में जूझ रही है. इन चुनाव में परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास, मुख्य सचेतक महेश जोशी, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया व पूर्व भाजपा अध्यक्ष अशोक परनामी सहित कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी हुई है. लंबी कानूनी लड़ाई व पेचीदगियों से गुजरने के बाद आखिरकार कल राजधानी जयपुर में हैरिटेज नगर निगम के 100 वार्डों के लिए मतदान होगा. कांग्रेस जहाँ अल्पसंख्यक बाहुल्य 40 वार्ड के दम हैं.

इस निगम के लिए होगा कांटे का मुकाबला:
बड़ी जीत की उम्मीद लगाए बैठी है, वहाँ भाजपा चारदीवारी के परंपरागत वोट के भरोसे जीत की राह देख रही है. राह किसी के लिए भी आसन नहीं है, ऐसे में इस निगम के लिए कांटे का मुकाबला होगा. कांग्रेस ने 31 अल्पसंख्यक प्रत्याशी मैदान में उतारे है, लेकिन भाजपा की ओर से यहां मुस्लिम प्रत्याशी उतारने के कारण और कांग्रेस के बागियों के चलते समीकरणों में कुछ बदलाव आया है. इस नगर निगम क्षेत्र में हवामहल, आदर्श नगर, किशनपोल और सिविल लाइंस और आमेर विधानसभा क्षेत्र आते है. इनमें से चार जगह कांग्रेस के विधायक है, लेकिन दो दर्जन से ज्यादा वार्ड ऐसे हैं जहां बागियों ने कांग्रेस के दिग्गज  नेताओं की टेंशन बढ़ा रखी है. महेश जोशी और अमीन कागजी के क्षेत्र में तो बागी है ही आदर्श नगर में विधायक रफीक खान के लिए भी राह आसान नहीं है. रफीक के टिकट वितरण को लेकर बड़ा असन्तोष था. विधानसभा चुनाव में इन विधायकों को जंहा से ज्यादा लीड मिली थी अब इनका फोकस एक बार वहीं पर है.

{related}

कांग्रेस विधायक अपने प्रत्याशियों के लिए मांग रहे हैं वोट:
इन वार्डों में प्रचार की कमान अब खुद विधायकों ने अपने हाथों में ले ली है. गली-गली घूमकर कांग्रेस विधायक अपने प्रत्याशियों के लिए वोट मांग रहे हैं.भाजपा चारदीवारी क्षेत्र को अपना परम्परागत वोट बैंक मानती है, लेकिन इस बार भाजपा की गिनती जीरो से शुरू होगी, वहीं कांग्रेस की गिनती 20 से. दरअसल कांग्रेस के पास अल्पसंख्यक वार्ड है, जो भाजपा के लिए सबसे बड़ी चिंता है. ऐसे में अशोक परनामी व अरुण चतुर्वेदी इस चिंता को कितना दूर कर पाते है. यह देखना होगा. भाजपा में टिकट वितरण इस बार संगठन की ज्यादा चली है, ऐसे में अंतर्द्वंद्व यंहा भी कांग्रेस से कम नहीं है.

-हैरिटेज नगर निगम में इस बार कांग्रेस ने 31 और भाजपा ने 17 अल्पसंख्यक नेताओं को उम्मीदवारों बनाया है. कांग्रेस ने हवामहल से 12, किशनपोल से 8, आदर्श नगर से 7 और आमेर से एक अल्पसंख्यक नेता पर दांव खेला है.
-सिविल लाइन्स में 2 अल्पसंख्यक उम्मीदवार हाथ के निशान पर चुनाव लड़ रहे है 
-वार्ड नंबर 5,  6, 13, 15, 19, 23, 27 और 28 में कांग्रेस के बागी बने है सरदर्द
-सिविल लाइंस के अल्पसंख्यक बाहुल्य वार्ड 33 में भी कांग्रेस प्रत्याशी को बागी से चुनौती 
-किशनपोल के के वार्ड 55, 61 62 65 67 और वार्ड 75 में  बागी कांग्रेस  के लिए चुनौती
-आदर्श नगर इलाके में टिकट वितरण से कांग्रेस में असंतोष
-भाजपा के लिए भी बागी बने हुए है सिरदर्द
-किशनपोल व आदर्श नगर में भाजपा अपनों से ही परेशान

हैरिटेज नगर निगम में कांग्रेस के लिए आर पार की लड़ाई:
जयपुर हैरिटेज नगर निगम में कांग्रेस के लिए आर पार की लड़ाई है. दरअसल इस क्षेत्र में वार्डो का सीमांकन जस तरह किया गया था ताकि कांग्रेस अपना बोर्ड बना से. साथ ही इस निगम क्षेत्र में आने वाले 5 विधानसभा क्षेत्र में से 4 में कांग्रेस के विधायक है. इनमें प्रताप सिंह खाचरियावास व प्रताप सिंह भी शामिल है. किशनपोल से अमीन कागजी व आदर्श नगर से रफीक विधायक है. चारों ही नेताओ की साख दाव पर लगी है. दरअसल इनका जिम्मा सिर्फ पार्षद बनवाना ही नहीं बल्कि मेयर व डिप्टी मेयर भी कांग्रेस का बनवाना है. कांग्रेस को ना केवल हेरिटेज में अपने अधिकांश प्रत्याशियों को जिताना होगा बल्कि बोर्ड बनाने के लिए जीते हुए बागियों को भी साधने की कवायद अभी से करनी होगी. वही भाजपा नेता अशोक परनामी व अरुण चतुर्वेदी के सामने अपने खोए हुए जनाधार को फिर से हासिल करने का मौका रहेगा. मोहनलाल गुप्ता व सुरेंद्र पारीक भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराने की कोशिश में जुटे है. लेकिन आखिरकार फैसला जनता को करना है.