वाशिंगटन काबुल में फंसे अमेरिकियों और अफगानों को खतरे से निकालने के लिए पर्याप्त बल एवं हथियार नहीं: रक्षा मंत्री ऑस्टिन

काबुल में फंसे अमेरिकियों और अफगानों को खतरे से निकालने के लिए पर्याप्त बल एवं हथियार नहीं: रक्षा मंत्री ऑस्टिन

काबुल में फंसे अमेरिकियों और अफगानों को खतरे से निकालने के लिए पर्याप्त बल एवं हथियार नहीं:  रक्षा मंत्री ऑस्टिन

वाशिंगटन: अमेरिकी सेना के पास अफगानिस्तान में काबुल हवाईअड्डे को सुरक्षित करने के अपने मौजूदा मिशन को विस्तार देकर राजधानी में मौजूद अमेरिकियों और खतरे का सामना कर रहे अफगानों को एकत्र करने और उन्हें देश से सुरक्षित बाहर निकालने के लिए पर्याप्त बल एवं हथियार नहीं है. अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने  यह बात कही. 

राष्ट्रपति जो बाइडन की 31 अगस्त की समय सीमा से पहले देश छोड़ना चाह रहे लोगों को निकालने और हवाई अड्डे पर लाने संबंधी सवाल उन खबरों के बीच खड़ा हुआ है जिनमें कहा गया कि तालिबान चौकियों ने कुछ निर्धारित निकासियों को रोक दिया है. 

ऑस्टिन का ध्यान हवाई अड्डे पर केंद्रित: 
ऑस्टिन ने कहा कि मेरे पास काबुल में मौजूदा अभियान को विस्तार देने की क्षमता नहीं है और आप इसे कहां ले जाएंगे? काबुल में आप किस हद तक विस्तार दे सकते हैं और उन बलों को यह करने में सक्षम बनाने के लिए कितना वक्त लगेगा. सेना से अवकाश प्राप्त चार सितारा जनरल ऑस्टिन का काबुल में रविवार को तालिबान के कब्जा जमा लेने के बाद से पेंटागन संवाददाता सम्मेलन में दिया गया यह पहला बयान है. उन्होंने अफगानिस्तान में बलों की कमान संभाली थी. उन्होंने कहा कि वह मुख्य रूप से हवाई अड्डे पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, जिसे कई खतरों का सामना करना पड़ रहा है, जिनकी निगरानी जरूरी है. 

हवाई अड्डे पर 4,500 अमेरिकी सैनिक तैनात:
उन्होंने कहा कि तालिबान के साथ बातचीत जारी है ताकि उन लोगों के लिए सुरक्षित मार्ग सुनिश्चित किया जा सके जिन्हें निकाला जा रहा है. ऑस्टिन ने कहा कि हवाई अड्डे पर लगभग 4,500 अमेरिकी सैनिक हैं, जो विदेश मंत्रालय द्वारा संचालित निकासी अभियान को सक्षम बनाने के लिए सुरक्षा दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि विदेश मंत्रालय निकासी की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए राजनयिक मामलों के और अधिकारियों को भेज रहा है. सोर्स-भाषा

और पढ़ें