पैक्स, लेम्प्स की बजाय अब प्रतिदिन एक जिले में होगा एक ही शिविर आयोजित

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/06/18 02:56

जयपुर। कर्जमाफी को लेकर पर्याप्त राशि का इंतजाम न होने के बाद सहकारिता विभाग में शिविरों के आयोजन में बदलाव कर दिया है। अब शिविर प्रत्येक पैक्स, लेम्प्स पर ना होकर प्रतिदिन एक जिले में एक ही शिविर का आयोजन होगा। माना जा रहा है कि राशि का इंतजाम होने पर ही सही मायने में कर्जमाफी हो पाएगी। गौरतलब है कि कर्जमाफी को लेकर सहकारिता विभाग उलझता ही जा रहा है। तमाम प्रयासों के बाद भी कर्जमाफी के लिए पर्याप्त राशि का इंतजाम नहीं होने से विभाग ने शिविरों की संख्या घटा दी है।

ताजा आदेश के तहत अब प्रत्येक पैक्स और लैम्प्स पर शिविर का आयोजन बन्द कर दिया है। अब 1 जिले में एक ही स्थान पर शिविर का आयोजन होगा, जिससे सहकारिता विभाग को कर्जमाफी के लिए राशि इंतजाम करने का समय मिल जाएगा। दरअसल, सहकारिता विभाग के प्रमुख सचिव अभय कुमार और रजिस्ट्रार राजन विशाल दोनों ही नेशनल कोऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के संपर्क में हैं, ताकि वहां से आसान किस्तों पर ऋण लिया जा सके।

दूसरी ओर, अपेक्स बैंक के एमडी वीडी गोदारा ने भी व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर के सभी 29 केंद्रीय सहकारी बैंकों के प्रबंध निदेशकों से भी अपने अपने बैंक की वित्तीय स्थिति की जानकारी मांगी है। साथ ही कर्जमाफी के लिए संसाधनों को कैसे तैयार किया जाए, इस पर भी मशविरा मांगा है। गौरतलब है कि कर्जमाफी के लिए 8000 करोड रुपए की जरूरत थी, जिसके लिए सरकार ने अपने संसाधनों से 2000 करोड़ रुपए देना तय किया है। वहीं 6000 करोड़ रुपए के लिए सहकारिता विभाग को खुद के स्तर पर इंतजाम करने को कहा है।

इसके बाद से ही सहकारिता विभाग नेशनल डेयरी कोऑपरेटिव फेडरेशन के चक्कर लगा रहा है, ताकि वहां से ऋण मिल सके। लेकिन वहां से 9 महीने के लिए ही ऋण देने की बात की जा रही है, जिसको लेकर सहकारिता विभाग पशोपेश में है। फिलहाल प्रदेश के अंदर 100 करोड़ रुपए से अधिक के ऋण माफ किए जा चुके हैं और अगले पखवाड़े में करीब 400 करोड़ रुपए के और माफ़ किए जाएंगे।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

संसद हमले की 17वीं बरसी पर शहीदों को देश कर रहा है याद

गजेंद्र सिंह शेखावत पहुंचे जयपुर, मीडिया से की खास बातचीत
मध्यप्रदेश में ही रहेंगे \'मामा\'
मणिपुर के जज के हिन्दू राष्ट्र वाले बयान पर सियासी घमासान
मध्यप्रदेश में कांग्रेस जीत गई लेकिन दिग्गज हार गए
मुख्यमंत्री का नाम अभी घोषित नही हुआ, लेकिन कार्यकर्ताओं में मारपीट शुरू हो गई
देश में अब एक महिला मुख्यमत्री रह गई
4 मिनट 24 ख़बरें | National News
loading...
">
loading...