अब बिना इजाजत प्रदेश में नहीं होगी हिस्टोरिकल फिल्मों की शूटिंग, पर्यटन मंत्री ने जारी किया आदेश

अब बिना इजाजत प्रदेश में नहीं होगी हिस्टोरिकल फिल्मों की शूटिंग, पर्यटन मंत्री ने जारी किया आदेश

जयपुर: हाल ही में रिलीज हुई बॉलीवुड फिल्म पानीपत विवादों के घेरे में आ गई है. राजस्थान के पर्यटन मंत्री एवं पूर्व महाराजा सूरजमल के वंशज विश्वेन्द्र सिंह ने फिल्म को विवादित बताते हुए इस पर रोक लगाने की मांग की है. इसी बीच पर्यटन मंत्री ने आदेश जारी किया है कि अब बिना इजाजत प्रदेश में हिस्टोरिकल फिल्मों की शूटिंग नहीं होगी. 

मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र:
आदेश के अनुसार बिना पर्यटन विभाग को स्क्रिप्ट दिखाए फिल्मों की शूटिंग नहीं होगी. ऐतिहासिक पृष्ठभूमि की फिल्मों के लिए पहले अनुमति लेनी होगी. वहीं मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री को भी पत्र लिखा है. जिसमें उन्होंने मांग रखी है कि विवादित फिल्मों की जांच के लिए प्रदेश में कमेटी बनाई जाए. बता दें कि महाराजा सूरजमल पर गलत चित्रण को लेकर फिल्म में विवाद उपजा है. विश्वेंद्र सिंह भरतपुर के पूर्व राजघराने से ताल्लुक रखते हैं.  

मंत्री ने बताए तथ्य:
विश्वेंद्र सिंह के अनुसार वे महाराजा सूरजमल जाट की 14वीं पीढी़ से हैं. उन्होंने बताया कि वास्तव पेशवा और मराठा जब पानीपत युद्ध हार कर और घायल होकर लौट रहे थे तो महाराजा सूरजमल और महारानी किशोरी ने 6 माह तक सम्पूर्ण मराठा सेना और पेशवाओं को अपने यहां पनाह दी थी. यहां तक कि खांडेराव होलकर की मृत्यु भी भरतपुर की तत्कालीन राजधानी कुम्हेर में ही हुई और आज भी वहां के गागरसोली गांव में उनकी छतरी बनी हुई है.

विवादों में 'पानीपत', मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने की फिल्म पर रोक लगाने की मांग
और पढ़ें