Live News »

VIDEO: जयपुर नगर निगम क्षेत्र में वार्डों की संख्या 91 से बढक़र 150, लॉटरी के दौरान जमकर हुई सियासत

VIDEO: जयपुर नगर निगम क्षेत्र में वार्डों की संख्या 91 से बढक़र 150, लॉटरी के दौरान जमकर हुई सियासत

जयपुर: प्रदेश में इस साल नवंबर में होने वाले चुनावों को देखते हुए 52 नगरीय निकायों के वार्डों के आरक्षण की लॉटरी निकलने के बाद तस्वीर साफ हो गई है. राजधानी जयपुर में पुनर्गठन के बाद जयपुर नगर निगम क्षेत्र में वार्डों की संख्या 91 से बढक़र 150 हो गई. कलेक्ट्रेट में जिला निर्वाचन अधिकारी जगरूप सिंह यादव की मौजूदगी में लॉटरी निकाली गई.

लाहोटी की कलेक्टर यादव से जबरदस्त बहस:
लॉटरी से पहले भाजपा विधायकों का हाईवोल्टेज ड्रामा देखने को मिला. विधायकों ने वार्डों के पुनर्गठन के बाद एससी-एसटी के लिए निर्धारित किए वार्डों की प्रक्रिया पर सवाल खड़े करते हुए जोरदार हंगामा किया. लाहोटी की कलेक्टर यादव से जबरदस्त बहस भी हुई. लाहोटी ने एससी-एसटी महिलाओं के आरक्षण की लॉटरी को रूकवाने का प्रयास भी किया.

चुनाव को लेकर सियायत तेज:
पिंकसिटी में नगर निगम के वार्डों के आरक्षण की लॉटरी का पिटारा खुलने के बाद चुनाव को लेकर सियायत तेज हो गई है. जयपुर नगर निगम के 150 वार्डों के आरक्षण की लॉटरी निकलने के बाद तय हो गया है, कौनसा वार्ड किस वर्ग के लिए आरक्षित है. जयपुर नगर निगम की जयपुर जिला कलेक्ट्रेट में 150 वार्डों की आरक्षण लॉटरी निकाली गई. लॉटरी में सबसे पहले अनुसूचित जाति (एससी) व अनुसूचित जनजाति (एसटी) और फिर अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के आरक्षण के लिए निकाली गई. एससी के पहले से निर्धारित 19 वार्डो में से 6 महिला वर्ग के लिए लॉटरी निकाली गई. इसके बाद एसटी के निर्धारित 6 में से 2 महिला वर्ग के लिए लॉटरी निकाली गई. इसके बाद ओबीसी के 32 वार्डों के लिए लॉटरी निकाली और इन 32 में से 11 महिला आरक्षण के लिए पर्ची के जरिए लॉटरी निकाली गई. सबसे आखिरी में सामान्य वर्ग की 93 में से 31 महिला वर्ग की लॉटरी निकली.

भाजपा विधायकों का हाईवोल्टेज ड्रामा:
नगर निगम की लॉटरी से पहले भाजपा विधायकों का हाईवोल्टेज ड्रामा देखने को मिला. विधायकों ने वार्डों के पुनर्गठन के बाद एससी-एसटी के लिए निर्धारित किए वार्डों की प्रक्रिया पर सवाल खड़े करते हुए जोरदार हंगामा किया. लाहोटी की कलेक्टर यादव से जबरदस्त बहस भी हुई. लाहोटी ने एससी-एसटी महिलाओं के आरक्षण की लॉटरी को रूकवाने का प्रयास भी किया. लाहोटी ने इतना तक कह दिया की सब फर्जीवाडा है. हम भी पढे लिखे हैं, हमें मत सिखाइए. लॉटरी की बैठक में कांग्रेसी पार्षद उमरदराज भी पहुंच गए. जिस पर लाहोटी ने विरोध करते हुए उन्हे बाहर निकालने की बात कही, क्योंकि लॉटरी में विधायक प्रतिनिधि ही शामिल होने थे. ऐसे में पार्षद के आने पर लाहोटी नाराज हो गए. इसके बाद कलेक्टर ने पार्षद को बाहर निकलवा दिया. बैठक में भाजपा विधायक नरपत सिंह राजवी, अशोक लाहोटी, कालीचरण सराफ, अमीन कागजी, पूर्व विधायक मोहनलाल गुप्ता सहित जनप्रतिनिधि मौजूद रहे.

वार्डों की तस्वीर हुई साफ:
कुल वार्ड-150, अनुसूचित जाति-19, अनुसूचित जनजाति-6, अन्य पिछडा वर्ग-32, सामान्य-93 वार्ड
महिला वार्डों की संख्या-50, अनुसूचित जाति-6, अनुसूचित जनजाति-2, अन्य पिछडा वर्ग-11, सामान्य-31
एससी और एसटी के लिए 25 वार्ड आरक्षित

लॉटरी के बाद ये रही स्थिति:
अनुसूचित जाति (एससी): कुल वार्ड 19

सामान्य: 106, 78, 88, 61, 96, 82, 95, 62, 85, 30, 81, 75, 89
महिला: 1, 18, 84, 113, 117, 137

अनुसूचित जनजाति (एसटी): कुल वार्ड 6
सामान्य: 79, 80, 83, 108
महिला: 74, 76

अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी): कुल वार्ड 32
सामान्य: 03, 10, 25, 26, 37, 40, 43, 44, 58, 68, 71, 100, 112, 115, 124, 128, 129, 136, 138, 144, 147
महिला:  07, 17, 34, 35, 42, 60, 87, 91, 114, 122, 132

सामान्य वर्ग: कुल वार्ड 93
सामान्य : 04, 06, 08, 12, 13, 14, 15, 16, 19, 21, 28, 31, 32, 36, 39, 45, 46, 47, 48, 49, 50, 51, 53, 54, 55, 56, 57, 63, 64, 65, 66, 67, 70, 72, 73, 86, 92, 93, 94, 98, 101, 102, 103, 105, 107, 109, 118, 119, 125, 126, 127, 131, 134, 135, 139, 140, 142, 145, 146, 148, 149, 150

महिला: 02, 05, 09, 11, 20, 22, 23, 24, 27, 29, 33, 38, 41,  52, 59, 69, 77, 90, 97, 99, 104, 110, 111, 116, 120, 121, 123, 130, 133, 141, 143

बहरहाल, आरक्षण लॉटरी के बाद जयपुर नगर निगम के 62 वार्ड ऐसे हैं जिन पर किसी भी वर्ग के महिला और पुरूष चुनाव लड सकते हैं. नगर निगम के वार्डों की लॉटरी निकलने के बाद तस्वीर साफ होने के साथ ही चुनाव लडने वाले नेताओं ने भी जोड-भाग लगाना शुरू कर दिया है. जिन वार्डों में पुरूष दावेदारी जता रहे थे, वो अब महिला वर्ग या आरक्षित होने पर उनका पार्षद बनने का सपना टूट गया है.

... संवाददाता शिवेंद्र परमार की रिपोर्ट 
 

और पढ़ें

Most Related Stories

सीएम गहलोत ने कहा - हाथरस में हुए गैंगरेप की जितनी निंदा की जाए उतनी कम, बारां में हुई घटना से कम्पेयर उचिन नहीं

सीएम गहलोत ने कहा - हाथरस में हुए गैंगरेप की जितनी निंदा की जाए उतनी कम, बारां में हुई घटना से कम्पेयर उचिन नहीं

जयपुर: उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुई गैंगरेप की घटना का देशभर में गुस्सा है. पीड़िता की मौत के बाद उसका जबरन अंतिम संस्कार पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं.  इस घमासान के बीच आज कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और उनके भाई कांग्रेस नेता राहुल गांधी हाथरस जाएंगे. वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी यूपी की योगी सरकार पर जमकर हमला बोला है. 

बारां में हुई घटना को हाथरस की घटना से कम्पेयर किया जा रहा:
सीएम गहलोत ने ट्वीट करते हुए हाथरस में हुई घटना को बेहद निंदनीय बताया है. इसके साथ ही उन्होंने लिखा है कि इस घटना की जितनी निंदा की जाए उतनी कम है. लेकिन दुर्भाग्य से राजस्थान के बारां में हुई घटना को हाथरस की घटना से कम्पेयर किया जा रहा है.

उन्होंने अगले ट्वीट में कहा कि बारां में बालिकाओं ने स्वयं मजिस्ट्रेट के समक्ष दिए 164 के बयानों में अपने साथ ज्यादती नहीं होने एवं स्वयं की मर्जी से लड़कों के साथ घूमने जाने की बात कही. बालिकाओं का मेडिकल भी करवाया गया एवं अनुसन्धान में सामने आया कि लड़के भी नाबालिग हैं, जांच आगे भी जारी रहेगी. 

घटना होना एक बात है और कार्यवाही होना दूसरी:
उन्होंने अपने ट्वीट में आगे लिखा कि घटना होना एक बात है और कार्यवाही होना दूसरी, घटना हुई तो कार्यवाही भी तत्काल हुई. इस केस को मीडिया का एक वर्ग और विपक्ष हाथरस जैसी वीभत्स घटना से कम्पेयर करके प्रदेश और देश की जनता को गुमराह करने का काम कर रहे हैं. 

दोनों बालिकाओं ने स्पष्ट किया कि उनसे कोई दुष्कर्म नहीं हुआ: 
आपको बता दें कि राजस्थान के बारां जिले में दो नाबालिग लड़कियों ने उनके साथ  कोटा, जयपुर, अजमेर तक ले जाकर तीन दिन तक रेप करने का आरोप लगाया था. लेकिन बाद में उन्होंने अपना बयान पलट लिया था. इस पर पुलिस अधीक्षक डा. रवि सबरवाल का कहना है कि दोनों बालिकाओं ने अपने 164 के बयानों में स्पष्ट किया कि उनसे कोई दुष्कर्म नहीं हुआ है. दोनो बालिकाओं की मेडिकल जांच करवाई गई है. मेडिकल जांच में भी दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है.


 

Horoscope Today, 01 October 2020: अधिक मास पूर्णिमा पर राशि अनुसार करें दान, आर्थिक समृद्धि की होगी प्राप्ति

Horoscope Today, 01 October 2020: अधिक मास पूर्णिमा पर राशि अनुसार करें दान, आर्थिक समृद्धि की होगी प्राप्ति

जयपुर: दैनिक राशिफल चंद्र ग्रह की गणना पर आधारित होता है. राशिफल की जानकारी करते समय पंचांग की गणना और सटीक खगोलीय विश्लेषण किया जाता है. दैनिक राशिफल में सभी 12 राशियों के भविष्य के बारे में बताया जाता है. ऐसे में आप इस राशिफल को पढ़कर अपनी दैनिक योजनाओं को सफल बना सकते हैं. 

{related} 

मेष राशि- मेष राशि के जातकों को अधिक मास पूर्णिमा पर गुड़ का दान अवश्य करें. ऐसा करने से आपकों आर्थिक समृद्धि की प्राप्ति होगी. 
वृषभ राशि- वृषभ राशि के जातको को अधिक मास की पूर्णिमा पर मिश्री का दान अवश्य करना चाहिए. ऐसा करने से उनके जीवन में सुख और समृद्धि बनी रहेगी. 

मिथुन राशि- अधिक मास पूर्णिमा पर मिथुन राशि के जातको हरे रंग की मूंग की दाल अवश्य दान करनी चाहिए. ऐसा करने से इनके वैवाहिक जीवन में चली आ रही परेशानी समाप्त होगी. 

कर्क राशि - कर्क राशि के जातको अधिक मास की पूर्णिमा तिथि पर चावलों का दान अवश्य करना चाहिए. ऐसा करने से इन्हें मानसिक शांति की प्राप्ति होगी. 

सिंह राशि- अधिक मास की पूर्णिमा तिथि पर सिंह राशि के जातको को गेहूं का दान अवश्य करना चाहिए. ऐसा करने से आपके मान-सम्मान में वृद्धि होगी. 

कन्या राशि - कन्या राशि के जातको को अधिक मास की पूर्णिमा पर जानवरों को हरे रंग का चारा अवश्य खिलाना चाहिए. ऐसा करने से आपके जीवन की सभी समस्याएं दूर हो जाएंगी.  

तुला राशि - यदि आपको जीवन में ऐश्वर्य चाहिए तो आप अधिक मास की पूर्णिमा तिथि पर नौ वर्ष से छोटी कन्याओं को खीर का दान अवश्य करें. 

वृश्चिक राशि - अधिक मास की पूर्णिमा तिथि पर वृश्चिक राशि के जातको को गुड़ और चना बंदरों को खिलाने चाहिए. ऐसा करने से आपके शत्रुओं का नाश होगा. 

धनु राशि - धनु राशि के जातको को अधिक मास पूर्णिमा पर किसी मंदिर में चने की दान अवश्य दान करें. ऐसा करने से आपको जीवन के सभी सुखों की प्राप्ति होगी. 

मकर राशि - अधिक मास की पूर्णिमा पर मकर राशि के जातक कंबल का दान अवश्य करें. ऐसा करने से आपकी नौकरी में आ रही सभी तरह की परेशानी दूर होंगी. 

कुंभ राशि- कुंभ राशि के जातकों को अधिक मास की पूर्णिमा पर काली उड़द की दाल अवश्य दान करनी चाहिए. ऐसा करने से आपके बिजनेस में आ रही सभी तरह की परेशानी दूर हो जाएगी.

मीन राशि -  मीन राशि के जातक आज अधिक मास की पूर्णिमा तिथि पर हल्दी और बेसन की मिठाई का दान अवश्य करें. ऐसा करने से आपके जीवन में कभी भी धन की कोई कमीं नहीं होगी. 

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

1 अक्टूबर 2020: जानिए आज का पंचांग, ये रहेगा शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

1 अक्टूबर 2020: जानिए आज का पंचांग, ये रहेगा शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

जयपुर: पंचांग का हिंदू धर्म में शुभ व अशुभ देखने के लिए विशेष महत्व होता है. पंचाम के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है. यहां हम दैनिक पंचांग में आपको शुभ मुहूर्त, शुभ तिथि, नक्षत्र, व्रतोत्सव, राहुकाल, दिशाशूल और आज शुभ चौघड़िये आदि की जानकारी देते हैं. तो ऐसे में आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल... 

{related}

शुभ मास- प्रथम आश्विनी (अधिक) शुक्ल पक्ष  

शुभ तिथि पूर्णिमा तिथि रात्रि 2 बजकर 34 मिनट तक तत्पश्चात  द्वितीय आश्विन (अधिक) मास के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि आरम्भ. पूर्णिमा तिथि मे मांगलिक कार्य शुभ माने माने गये है. पूर्णिमा तिथि मे जन्मे जातक धनवान, बुद्धिवान, साहसी, धर्मपरायण और ऐश्वर्यवान होते हैं. 

उत्तरा भाद्रपद "ध्रुव -उर्ध्वमुख मुख"  संज्ञक नक्षत्र रात्रि 5 बजकर 57 मिनट तक रहेगा.  उत्तराभाद्रपद नक्षत्र मे स्थिर कार्य, वास्तु, शांति कर्म, विवाह इत्यादि मांगलिक कार्य विशेष रूप से सिद्ध होते हैं. उत्तराभाद्रपद नक्षत्र मे जन्म लेने वाला जातक धनी, साहसी, प्रसिद्ध, सुन्दर, धनवान, बुद्धिमान होता है.  

चन्द्रमा -  सम्पूर्ण दिन कुम्भ राशि में संचार करेगा 

व्रतोत्सव -  पूर्णिमा व्रत, पंचक, अधिक आसोज मास पूर्णिमा  

राहुकाल - दोपहर 1.30 बजे से 3 बजे तक                              

दिशाशूल - गुरुवार को दक्षिण दिशा मे दिशाशूल रहता है. यात्रा को सफल बनाने लिए घर से दही खा कर निकले. 

आज के शुभ चौघड़िये - सूर्योदय से प्रातः 7.50 मिनट तक शुभ का, प्रातः 10.49 से दोपहर 3.18 मिनट तक चर, लाभ, अमृत का और सायं 4.48 से सूर्यास्त तक शुभ का चौघड़िया

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री
 

सेवानिवृत्ति बाद भी 1 वर्ष तक सीएम सलाहकार बने रहेंगे डीबी गुप्ता

सेवानिवृत्ति बाद भी 1 वर्ष तक सीएम सलाहकार बने रहेंगे डीबी गुप्ता

जयपुर: डीबी गुप्ता 1 वर्ष तक सीएम सलाहकार पद पर बने रहेंगे. आईएएस से सेवानिवृत्ति बाद अब वे इस पद पर रिटायर्ड आईएएस के रूप में सेवाएं देंगे. योजना भवन में आज उनकी आईएएस से सेवानिवृत्ति होने पर कार्यक्रम रखा गया. इसमें उन्होंने अनौपचारिक बातचीत में सीएस पद से हटाने को लेकर टिप्पणी से इनकार करते हुए कहा कि कोई भी जिम्मेदारी देना सीएम का विवेकाधिकार है और वे पदों के पीछे नहीं भागे. उन्होंने कहा कि ब्यूरोक्रेसी में कर्तव्य और अधिकारों का सम्मिश्रण होना चाहिए. उन्होंने अपने शांत स्वभाव को लेकर कहा कि उनका स्वभाव ही रहा है कि  सभी से शांति और शालीनता से बात करता हूँ. हालांकि अपनी बात लॉजिकली रखने में भी वे यकीन रखते हैं.

मेरे पास रिश्तों का बैंक बैलेंस:  
उन्होंने कहा कि वे कलेक्टर भी रहे हैं और पहले यह भी समय रहा है कि फरियादियों को कक्ष तक नहीं आने देते थे लेकिन आज तो कलेक्टर से लोग लंबी चौड़ी बहस कर लेते हैं. उन्होंने अपने मित्रों, शुभचिंतकों की दुआओं को लेकर कहा कि मेरे पास रिश्तों का बैंक बैलेंस है जिसमें कभी विड्रॉल नहीं होता. उन्होंने 37 साल के अपने आईएएस के सेवाकाल को लेकर संतुष्टि का भाव जताया. 

{related}

अब जीरो बजट फार्मिंग की ओर विशेष ध्यान केंद्रित करेंगे:
गुप्ता ने कहा कि सीएम सलाहकार पद पर रहते हुए वे अब जीरो बजट फार्मिंग की ओर विशेष ध्यान केंद्रित करेंगे. आंध्र प्रदेश में लांच इस कार्यक्रम के तहत बहुत कम लागत में केमिकल्स के उपयोग बिना खेती होती है. उन्होंने कहा कि वे कृषि के साथ डेयरी पशुपालन, उद्यानिकी से जुड़े मुद्दों को लेकर सलाह देंगे और सीएम जो भी टास्क देंगे उसे पूरा करेंगे. भविष्य में मुख्य सूचना आयुक्त या अन्य पद के बारे में चर्चाओं को लेकर उन्होंने कहा कि जो भी जिम्मेदारी दी जाती है वे पूरी जिम्मेदारी से उसे निभाएंगे. 

6 चरणों में आयोजित होगी पटवारी भर्ती परीक्षा, RSSB ने जारी किया परीक्षाओं का संभावित कार्यक्रम

जयपुर: राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से करीब एक दर्जन भर्तियों की संभावित परीक्षा तिथि जारी की गई है. करीब एक दर्जन भर्ती परीक्षाओं को लेकर लम्बे समय से बेरोजगारों की ओर से मांग की जा रही थी, और उसी मांग को देखते हुए बोर्ड की ओर से इन परीक्षाओं की संभावित तिथि जारी की गई है. 

सबसे बड़ी भर्ती पटवारी भर्ती परीक्षा के लिए बोर्ड की ओर से 10 जनवरी 2021 से 24 जनवरी 2021 तक का समय निर्धारित किया गया है. बोर्ड की ओर से परीक्षा तीन चरणों में आयोजित करवाई जाएगी. 10 जनवरी, 17 जनवरी और 24 जनवरी को दो पारियों में इस परीक्षा का आयोजन किया जाएगा. साथ ही सार्वजनिक निर्णाण विभाग, राजस्थान राज्य कृषि वीपणन बोर्ड, जल संसाधन विभाग, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, कृषि विभाग, शासन सचिवालय, राजस्थान लोक सेवा आयोग, राज्य सरकार के अधीनस्थ विभागों और कार्यालयों में विभिन्न वर्गों में आयोजित होने वाली परीक्षा का कार्यक्रम जारी किया गया है.

{related}

इनमें से आधा दर्जन ऐसी भर्तियां हैं जिनकी परीक्षा कोरोना के चलते पहले स्थगित की गई थी. संभावित परीक्षा कार्यक्रम जारी करने के साथ ही बोर्ड की ओर से ये भी नोट जारी किया गया है की प्रशासनिक कारणों और कोरोना के चलते संभावित परीक्षा तिथियों में आगामी दिनों में बदलाव भी किया जा सकता है. 

एसएमएस अस्पताल में कोरोना मरीजों का इलाज क्यों नहीं - राजस्थान हाईकोर्ट

एसएमएस अस्पताल में कोरोना मरीजों का इलाज क्यों नहीं - राजस्थान हाईकोर्ट

जयपुर: राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एसएमएस में कोरोना मरीजों का इलाज नहीं करने और उन्हें एडमिट नहीं करने के मामले में राजस्थान हाईकोर्ट ने स्वप्रेणा प्रसंज्ञान लिया है. मुख्य न्यायाधीश इन्द्रजीत महांति और जस्टिस प्रकाश गुप्ता की खण्डपीठ ने स्वप्रेणा प्रसंज्ञान से जनहित याचिका दायर करते हुए याचिका की प्रति राज्य के महाधिवक्ता को देने के निर्देश दिये है. 

नोटिस जारी करते हुए 12 अक्टूबर तक जवाब मांगा:  
साथ ही राज्य के मुख्य सचिव, एसीएस चिकित्सा और एसएमएस अधीक्ष को नोटिस जारी करते हुए 12 अक्टूबर तक जवाब मांगा है. मुख्य न्यायाधीश इन्द्रजीत महांति की खण्डपीठ ने राज्य के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल में कोरोना मरीजों का ईलाज नही होने को गंभीर मानते हुए ये आदेश दिया है. खण्डपीठ ने मामले की सुनवाई मोहनसिंह की ओर से दायर जनहित याचिका के साथ सूचीबद्ध करने के आदेश दिये है.

{related}

सरकार के नियत्रंण में लेने की गुहार लगायी गयी: 
गौरतलब है कि मोहनसिंह की ओर से राजस्थान हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर एसएमएस सहित विभिन्न जिलों के सरकारी अस्पतालों में कोरोना मरीजों का इलाज करने...कोरोना से जुड़े सभी टेस्ट और इलाज निशुल्क करने, राज्य के निजी अस्पतालों और होटलों को सरकार के नियत्रंण में लेने की गुहार लगायी गयी है. याचिका में बीपीएल, गरीब और जरूरमंदों कोरोना मरीजों का निशुल्क इलाज करने की गुहार की गयी है. 

जयपुर एयरपोर्ट से आज 6 फ्लाइट रद्द, पिछले 2 सप्ताह से चल रहा फ्लाइट्स का डाउन ट्रेंड

जयपुर एयरपोर्ट से आज 6 फ्लाइट रद्द, पिछले 2 सप्ताह से चल रहा फ्लाइट्स का डाउन ट्रेंड

जयपुर: जयपुर एयरपोर्ट पर एयरलाइंस नई फ्लाइट तो शुरू कर रही हैं, लेकिन एयरलाइंस को अपेक्षित रूप से यात्रीभार नहीं मिल रहा है. पिछले 2 सप्ताह से एविएशन सेक्टर का डाउनट्रेंड देखने को मिल रहा है. दरअसल, पहले श्राद्ध पक्ष और इसके बाद कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों के चलते हवाई यात्रा करने वाले लोगों की संख्या में कमी आई है. जयपुर एयरपोर्ट से यात्रियों की संख्या में उछाल देखने को नहीं मिल रहा है.

{related}

रोजाना औसतन आधा दर्जन फ्लाइट रद्द हो रही: 
विशेषज्ञों के मुताबिक सितंबर माह में श्राद्ध पक्ष के दौरान यात्रियों की संख्या काफी कम रहती है. नवरात्रि शुरू होने के बाद ही हवाई यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी देखने को मिलती है. हालांकि इस बार कोरोना के चलते हवाई सेवाओं पर ज्यादा असर दिख रहा है. पिछले 2 सप्ताह से जयपुर एयरपोर्ट से रोजाना औसतन आधा दर्जन फ्लाइट रद्द हो रही हैं. फ्लाइट रद्द होने के पीछे यात्रियों की कम संख्या को कारण बताया जा रहा है. जानकारों का कहना है कि 10 अक्टूबर तक यही ट्रेंड रहेगा. इस बीच कोरोना का संक्रमण भी कम हो रहा है. इसके बाद त्योहारी सीजन शुरू होने पर यात्रियों की संख्या में उछाल देखने को मिलेगा. 

आज ये 6 फ्लाइट रद्द:
- इंडिगो की शाम 4:45 बजे कोलकाता की फ्लाइट 6E-6156 रद्द
- इंडिगो की शाम 6:20 बजे हैदराबाद की फ्लाइट 6E-6819 रद्द
- इंडिगो की रात 10:15 बजे बेंगलुरु की फ्लाइट 6E-482 रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 10:10 बजे बेंगलुरु की फ्लाइट SG-774 रद्द
- एयर एशिया की सुबह 9:50 बजे बेंगलुरु की फ्लाइट I5-1721 रद्द
- एयर इंडिया की शाम 5 बजे दिल्ली की फ्लाइट AI-492 रद्द

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट

एक मरीज, एक दिन और कोरोना रिपोर्ट अलग-अलग !

एक मरीज, एक दिन और कोरोना रिपोर्ट अलग-अलग !

जयपुर: प्रदेश में कोरोना की पहचान के लिए जारी RTPCE टेस्ट की विश्वसनीयता सवालों के घेरे में हैं. पैटर्न ऑफ कोविड में आ रहे बदलाव के बीच कई केस ऐसे सामने आ रहे हैं, जिनकी रिपोर्ट 24 घंटे में ही अलग-अलग आ रही है. कई मामलों तो ऐसे सामने आ रहे हैं, जिसमें एकसाथ दो जगहों पर कराई गई कोरोना की जांच रिपोर्ट बिल्कुल विरोधाभासी है. खुद मरीज इसे देखकर दंग हो रहे हैं. हालांकि, अनुभवी चिकित्सकों का कहना है कि RTPCE टेस्ट में 70 फीसदी रिजल्ट की रिलायबिलिटी है. कई बार सैम्पल लेने के तरीके की खामी के चलते भी रिपोर्ट में भिन्नता आ जाती है. नाक और गले से एक साथ लिए गए सैम्पल की रिपोर्ट काफी हद तक विश्वसनीय है.

{related}

कई मरीजों में क्लासिकल कोविड निमोनिया की दिक्कत सामने आ रही:
चिकित्सकों का यह भी कहना है कि कई मरीजों में क्लासिकल कोविड निमोनिया की दिक्कत सामने आ रही है. ऐसे केस में एक्सरे-सीटी में तो पेंच दिखते है, लेकिन कोविड रिपोर्ट नेगेटिव आती है. इसका मतलब ये नहीं कि मरीज में कोरोना संक्रमण नहीं है. ऐसे मरीजों का समय पर ट्रीटमेंट शुरू नहीं हो तो दो तीन दिन में हालत बिगड़ने का खतरा बना रहा है. खुद चिकित्सक एडवाइज करते है कि किसी मरीज को लक्षण दिखे तो वे कोविड टेस्ट से पहले HRCT करवा सकते हैं. इससे काफी हद तक स्थिति क्लियर हो जाती है.