मुंबई डॉक्यूमेंट्री फिल्म Kaali के विवादित पोस्टर पर Nusrat Jahan ने दिया रिएक्शन, बोली- धार्मिक भावनाएं आहत करना गलत

डॉक्यूमेंट्री फिल्म Kaali के विवादित पोस्टर पर Nusrat Jahan ने दिया रिएक्शन, बोली- धार्मिक भावनाएं आहत करना गलत

डॉक्यूमेंट्री फिल्म Kaali के विवादित पोस्टर पर Nusrat Jahan ने दिया रिएक्शन, बोली- धार्मिक भावनाएं आहत करना गलत

मुंबई: लीना मणिकमेकलई (Leena Manimekalai) की डॉक्यूमेंट्री फिल्म काली (Kaali) के पोस्टर को लेकर जमकर कॉन्ट्रोवर्सी देखी जा रही है. इसका जो पोस्टर सामने आया है उसमें मां काली को हाथों में LGBTQ+कम्युनिटी का झंडा और सिगरेट पीते हुए दिखाया जा रहा है. जबसे पोस्टर सामने आया है इस पर जमकर विवाद हो रहा है. यूजर्स धार्मिक भावनाएं आहत करने का इल्जाम डायरेक्टर लीना पर लगा रहे हैं. #ArrestLeenaManimekalai भी तेजी से ट्रेंड कर रहा है.

 

इस विवाद को लेकर एक्ट्रेस नुसरत जहां (Nusrat Jahan) ने अपनी बात रखी. बता दें कि नुसरत इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2022 का हिस्सा बनी थी. यहां पर जब उनसे इस पोस्टर पर सवाल किया गया तो नुसरत ने कहा कि मैं यही कहूंगी कि धर्म को बीच में मत लाओ. इन चीजों को बेचने के लिए मत बनाओ. ड्राइंग रूम में बैठकर एक मसालेदार स्टोरी को देखना बहुत आसान होता है. मैंने हमेशा क्रिएटिविटी को सपोर्ट किया है व्यक्तित्व को अलग सपोर्ट किया है और मैं हमेशा यही मानती हूं की धार्मिक भावनाओं को आहत नहीं करना चाहिए.

 

आगे नुसरत (Nusrat) ने कहा कि मैं किसी की धार्मिक भावना आहत नहीं कर सकती क्योंकि मैं अपने धर्म के हिसाब से सब कुछ फॉलो करती हूं और आप अपने तरीके से, आपको वह सब करने का हक है और मुझे भी. क्रिएटिवली आप अगर कुछ पेश कर रहे हैं तो उसकी जिम्मेदारी आपकी है. मैं यहां पर गलत या सही नहीं कहूंगी क्योंकि यह वही जानता है जो कर रहा है. मेरी राय तो यही है कि मैं क्रिएटिविटी और धर्म को अलग-अलग रखती हूं.

 

काली (Kaali) के इस पोस्टर की बात करें तो इसमें एक महिला मां काली के भेस में दिखाई दे रही है. चार हाथ दिख रहे हैं इनमें से एक में सिगरेट और दूसरे में LGBTQ+कम्युनिटी का झंडा दिख रहा है. लीना की इस डॉक्यूमेंट्री फिल्म काली के पोस्टर को कनाडा के Aga Khan Museum में होने वाले Rhyts Of Canada फेस्टिवल में लांच किया गया था.  

 

पोस्टर सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर काफी हंगामा देखा जा रहा है. यूजर्स का कहना है कि यह हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का तरीका है. कई लोगों ने लीना (Leena) की गिरफ्तारी की मांग की है, वहीं कुछ लोगों ने इसे म्यूजियम से हटाने को कहा है.

और पढ़ें