राजस्थान: जैविक मौसमी सब्जियां उगाने के लिए पोषण उद्यानों का बढ़ा चलन

राजस्थान: जैविक मौसमी सब्जियां उगाने के लिए पोषण उद्यानों का बढ़ा चलन

 राजस्थान: जैविक मौसमी सब्जियां उगाने के लिए पोषण उद्यानों का बढ़ा चलन

जयपुर: राजस्थान में महिला स्वयं सहायता समूहों के सहयोग से 1.45 लाख से अधिक ऐसे पोषण उद्यान विकसित किए हैं जहां जैविक मौसमी सब्जियां उगाई जा रही हैं. ये उद्यान छोटे परिवारों के लिए पौष्टिक आहार सुनिश्चित करने के लिए एक प्रमुख माध्यम के रूप में उभरे हैं और इनका जिम्मा ज्यादातर ग्रामीण महिलाएं उठा रही हैं.

राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद (राजीविका) द्वारा अपने स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) के माध्यम से जुड़ी महिलाओं के लिए पौष्टिक आहार सुनिश्चित करने के लिए इस अवधारणा को बढ़ावा दिया जा रहा है. इसके तहत महिला स्वयं सहायता समूहों के सहयोग से 1.45 लाख से अधिक ऐसे 'पोषण उद्यान' विकसित किए गए हैं.

राजीविका की निदेशक सुचि त्यागी ने बताया कि समूह ज्यादातर ग्रामीण महिलाओं के बीच आजीविका के साधनों में सुधार की दिशा में काम करते हैं, हालांकि, पोषण उद्यान कार्यक्रम का प्राथमिक उद्देश्य एसएचजी सदस्यों के लिए पोषण सुनिश्चित करना है. उन्होंने कहा कि समृद्ध परिवारों के शौकिया बागवानों के विपरीत, इनमें से अधिकांश महिलाएं ग्रामीण पृष्ठभूमि से आती हैं और उन्होंने रसोई के खर्चों को बचाने के लिए 'पोषण बागवानी' की अवधारणा को अपनाया है.

उन्होंने औपचारिक प्रशिक्षण प्राप्त किया है और अपनी जैविक खाद और कीटनाशकों का निर्माण किया है. वे अपने और अपने परिवार के लिए अपने घरों के पास जो भी कम जगह उपलब्ध है, उसमें जैविक मौसमी सब्जियां उगा रहे हैं. उनकी पसंद की सब्जियां स्थानीय हैं और वे विटामिन, खनिज और अन्य आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करती हैं. इस कार्यक्रम को विशेष रूप से डूंगरपुर, बांसवाड़ा और उदयपुर जिलों के आदिवासी क्षेत्रों में अपार सफलता मिली है. पारंपरिक कौशल और औपचारिक प्रशिक्षण का उपयोग करके ये महिलाएं अन्यथा खाली भूमि का उत्पादक उपयोग कर रही हैं.  (भाषा) 

और पढ़ें