Rajasthan: बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर विधानसभा में विपक्ष ने सरकार पर बोले जमकर हमले, RPSC को लेकर भी खड़े किए सवाल

Rajasthan: बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर विधानसभा में विपक्ष ने सरकार पर बोले जमकर हमले, RPSC को लेकर भी खड़े किए सवाल

Rajasthan: बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर विधानसभा में विपक्ष ने सरकार पर बोले जमकर हमले,  RPSC को लेकर भी खड़े किए सवाल

जयपुर: प्रदेश में बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर मंगलवार को विधानसभा में विपक्ष ने सरकार पर जमकर हमले बोले. भाजपा विधायकों ने बेरोजगारी भत्ता नहीं देने का मामला उठाने के साथ ही RPSC को लेकर भी सवाल खड़े कर दिए. भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने श्वेत पत्र जारी करने की मांग की.

विधानसभा में आज स्थगन प्रस्ताव के जरिए भाजपा विधायकों ने मामला उठाते हुए कहा कि युवाओं को रोजगार देने और बेरोजगार को भत्ता देने का धोखा देकर वोट लेने वाली कांग्रेस सरकार अब उनकी कोई सुध नहीं ले रही है, आज प्रदेश का बेरोजगार युवा सड़कों पर उतरा हुआ है. सतीश पूनिया ने बेरोजगारी का मुद्दा उठाते हुए कहा कि 35 माह की सरकार ने बेरोजगार युवाओं के साथ धोखा किया है. रोजगार देना तो दूर की बात, बेरोजगारी भत्ता देने के नाम पर भी छलावा किया है. आज स्थिति यह हो चुकी है कि राजस्थान का बेरोजगारी में देश में दूसरा स्थान हो गया है. कांग्रेस सरकार ने अपने इस कालखंड के कार्यकाल में 70114 नियुक्तियां दी हैं,  जिसमें से अधिकतर नियुक्तियां पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के समय की हैं, जो प्रक्रिया शुरू करके गई थी. पुनिया ने कहा कि नकल के संगठित गिरोह यहां आ गए हैं, सरकार को इस संबंध में वाइट पेपर जारी करना चाहिए.

राजस्थान की आरपीएससी कांग्रेस का नाथी का बड़ा बन गया:
वही पूर्व शिक्षा मंत्री  वासुदेव देवनानी में कहा कि यूपीएससी में तो स्वच्छ कार्यप्रणाली से भर्ती प्रक्रिया को अंजाम दिया जाता है, लेकिन राजस्थान की आरपीएससी कांग्रेस का नाथी का बड़ा बन गया है. वर्तमान शिक्षा मंत्री डोटासरा पर नाम लिए बिना आरोप लगाते हुए कहा कि एक ही परिवार के तीन सदस्यों को मनमर्जी से नंबर दे दिए गए, ओबीसी का गलत प्रमाण पत्र देकर नौकरी पा ली, लेकिन इस मामले को सरकार ने दबा दिया. विधायक रामलाल शर्मा ने कहा कि बेरोजगारों की स्थिति किसी से छिपी नहीं है, सरकार ने चुनाव में ढाई लाख संविदा कर्मियों को नियमित करने का वादा किया था, लेकिन मंत्री बी डी कल्ला की अध्यक्षता वाली कमेटी अभी तक यह भी तय नहीं कर पाई, कि इन्हें किस तरह नियमित किया जाएगा या नहीं. विधायक अशोक लाहोटी ने कहा कि बेरोजगारी भत्ते की बात कर युवाओं से कांग्रेस ने चुनाव में वोट लेकर सरकार तो बना ली, लेकिन अब इन्हें भूल गई केवल एक लाख 60 हजार  बेरोजगार युवाओं को भत्ता दिया गया, जबकि 2 करोड़ 66 लाख  युवाओं से वोट लेकर कांग्रेस सत्ता में आई थी. सरकार के पास अगर बेरोजगारों के आंकड़े नहीं है तो हम युवा विधायक 15 दिन में सरकार को यह आंकड़े लाकर सदन के पटल पर रख देंगे. 

बेरोजगारी की राजस्थान में गंभीर स्थिति:
पहली बार सदन में बोल रही नई विधायक भाजपा की दीप्ति किरण माहेश्वरी ने कहा कि बेरोजगारी की राजस्थान में गंभीर स्थिति है, देश के 28% बेरोजगारी राजस्थान में है जो देश का दूसरा राज्य हो गया है. राज्य में उद्योग धंधे कोरोना के कारण बंद हो गए हैं,  निजी क्षेत्र में रोजगार नहीं है. ऐसे में युवा और सरकारी नौकरी की ओर ज्यादा बढ़ रहा है, लेकिन सरकार इस मामले को गंभीरता से नहीं ले रही है. निर्दलीय विधायक बलजीत यादव ने कहा कि बेरोजगारों के साथ राज्य में नहीं है दूसरे राज्यों में भी धोखा हो रहा है. विपक्ष ने कल सदन में सरकार को बिजली को लेकर गहरा था तो आज बेरोजगारी का मामला जमकर उठाया. दरअसल जनहित के दो अहम मुद्दे उठाकर सदन में सार्थक बहस की परंपरा फिर से शुरू हुई है.

...योगेश शर्मा के साथ नरेश शर्मा फर्स्ट इंडिया

और पढ़ें