जयपुर Digital Baal Mela 2021 के मंच पर विधायक मनोज मेघवाल ने सिखाएं बच्चों को तनाव से दूर रहने के गुर

Digital Baal Mela 2021 के मंच पर विधायक मनोज मेघवाल ने सिखाएं बच्चों को तनाव से दूर रहने के गुर

Digital Baal Mela 2021 के मंच पर विधायक मनोज मेघवाल ने सिखाएं बच्चों को तनाव से दूर रहने के गुर

जयपुर: फ्यूचर सोसाइटी और एलआईसी द्वारा प्रायोजित रचनात्मक मंच 'डिजिटल बाल मेला 2021' सीजन2 में अब 'बच्चों की सरकार कैसी हो'के लिए आयोजित किए जा रहे सेशन में बच्चे आज तीसरे दिन भी इस सफर को इंजोय करते नजर आये. आज बच्चों ने राजस्थान थार के मरूस्थल का प्रवेश द्वार चूरू जिले के सुजानगढ़ से विधायक मनोज मेघवाल से मुलाकात की. जो कई दिनों पहले से ही बच्चों से बात करने का इंतजार कर रहे थे अब इस संवाद से ना सिर्फ विधायक मनोज मेघवाल का इंतजार खत्म हुआ बल्कि बच्चों को भी एक नई मंजिल मिली. कांग्रेस के नये नवेले विधायक बने मनोज मेघवाल ने बच्चों से एक अहम विषय तनाव को लेकर बात की. 

गौरतलब है कि कोरोना काल में बच्चे घर बैठे है ऐसे में जहां स्कूल बंद है, दोस्तों के साथ खेलने पर पाबंदी लगी है, ऑनलाइन क्लासेज लेकर बच्चे उब रहे है तो बच्चों में काफी तनाव देखने को मिल रहा है. बच्चों ने अब मोबाइल, टीवी के साथ भी अपनी दोस्ती तोड़नी शुरू कर दी है अब घर में उनका मन नहीं लग पाता है लेकिन महामारी में उन्हें कही जाने की अनुमति नहीं है, जिसकी वजह से मासूम  बच्चे चिंता के शिकार हो रहे है. आज का ये सेशन बच्चों की इसी चिंता को दूर करने ​के लिए आयोजित किया गया है जिसमें बच्चों ने मनोज मेघवाल से अपने इस तनाव को दूर करने के बारे में बात की.

अपने तनाव को लेकर बच्चों ने एक के बाद एक दागे सवाल:
डिजिटल बाल मेला के मंच पर पहला सवाल माही जैन ने तनाव को दूर करने के लिए पूछा. माही ने पूछा कि परीक्षाओं में अपने स्ट्रेस को कैसे दूर कर सकते है जिसका विधायक मनोज मेघवाल ने काफी संजीदगी से जवाब दिया. उन्होने कहा कि परीक्षा आने पर बच्चे अपने आपको रिलेक्स रखे. पेपर कैसा आएगा, माक्र्स कैसे आएंगे इस और बिल्कुल नहीं सोचे. बेहद ही फ्री माइंड से अपना पेपर करें.

आपको बता दें कि विधायक मनोज मेघवाल समय से संवाद में नही पहुंच पाए थे जबकि 4 बजे ही सभी बच्चे विधायक से अपने मन की बात करने के लिए मंच पर उपस्थित हो गये. ऐसे में बाल मेला की टीम लीडर जाहनवी शर्मा ने विधायक मनोज मेघवाल से पूछा कि वे समय से क्यों नही आए? जिसके जवाब में मनोज मेघवाल ने जवाब दिया कि कुछ तकनीकी समस्यां की वजह से उन्हें देरी हुई. बता दें कि ऐसे में बच्चों ने सभी को समय से पहुंचने का सुझाव दिया और समय का खास तौर पर ध्यान रखने की सलाह दी.

डिजिटल बाल मेला के मंच पर विधायक मनोज मेघवाल से हुए संवाद में बीकानेर की दिव्या खत्री ने पूछा कि माता-पिता सरकारी स्कूलों की बजाय हमेशा प्राइवेट स्कूलों पर ही क्यों भरोसा करते है? जिसके जवाब में विधायक मनोज मेघवाल ने बच्चो से कहा कि वहां की सुविधाओं की वजह से माता-पिता अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल का रास्ता दिखाते है हालांकि दोनो ही तरह के विद्यालयों में शिक्षा के प्रति किसी तरह का समझौता नहीं होता है.

डिजिटल बाल मेला के मंच पर नन्हें बच्चों ने अपने ऑनलाइन क्लासेज से परेशान होने की बात भी विधायक के सामने रखी. ऐसे में बच्चों ने विधायक से अनुरोध किया कि वो ऑनलाइन क्लास का समय कम करवाये और हर किसी क्लास में गैप शामिल करे. ताकि उन्हे अपने लिए भी समय मिल सके. इसके अलावा विधायक मनोज मेघवाल ने बच्चों को अपना तनाव दूर करने के लिए टीवी, मोबाइल या अन्य किसी तरह के गैजेट्स से दूर रहने की सलाह दी तो वही उन्हें अपने घर में खेलने, योगा करने की सलाह दी. जिससे बच्चे खुश रह सकें और महामारी के इस दौर में हर चिंता का विनाश कर सकें.

15 और 16 जून को मंत्री टीकाराम जूली और विधायक रामलाल शर्मा ने दिये बच्चों के जवाब:
आपको बता दें कि इससे पहले बच्चों संग सीधा संवाद सेशन की शुरूआत में 15 जून को राजस्थान के श्रम राज्यमंत्री टीकाराम जूली आए थे. जहां उन्होनें बच्चों से बालश्रम मुद्दे पर बात की और बच्चों को इसे रोकने के सुझाव भी दिये. इसके बाद कल 16 जून को बीजेपी के युवा विधायक रामलाल शर्मा ने बच्चों संग सीधा संवाद में शिरकता की. जहां उन्होंने बच्चों के वोट देने के अधिकारों पर बात की. गौरतलब है कि बच्चे हमेशा से ही चुनाव प्रक्रियाओं के बारे में सुनते आये है. भारत देश में 18 की उम्र के बाद ही वोट देने की अनुमति है ऐसे में बच्चों का सवाल जायज है कि उन्हें वोट देने से वंचित क्यों रखा जाता है. नन्हें बच्चों के इन्हीं सवालों के जवाब देने के लिए जयपुर की चौमूं विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के विधायक रामलाल शर्मा ने बच्चों से सीधा संवाद किया था. ऐेसे में आज ही की तरह सेशन के दौरान बच्चों के बीच पहले से ही लोकप्रिय रहे रामलाल शर्मा ने उन्हीं के अंदाज में अपने जवाबों का समां बांधे रखा.

हर दिन शाम 4 बजे बच्चे करे राजनेताओं से सीधा संवाद:
बता दें डिजिटल बाल मेला2021 सीजन2 में हर दिन शाम 4 बजे डिजिटल बाल मेला द्वारा आयोजित गूगल मीट पर राजनेताओं संग बच्चों का सीधा संवाद सेशन आयोजित किए जाएगा. जहां बच्चे घर बैठे देश की सरकार के सामने अपने सवाल रख सकते है और अपने मन की बात कर सकते है.

Digital Baal Mela 2021 में बच्चों के लिए है दूसरा बड़ा मौका:

बच्चे बताएं - बच्चों की सरकार कैसी हो ?

हर दिन शाम 4 बजे Google Meet पर जुड़ना न भूले 

Link : https://meet.google.com/ysn-pfjh-shh

आज ही बनाये वीडियो और रजिस्टर करें - डिजिटल बाल मेला की वेबसाइट  http://digitalbaalmela.com/ पर प्रतियोगिता-रजिस्ट्रेशन या मेले से संबंधित किसी भी अन्य जानकारी के लिए व्हाट्सऐप-टेलीग्राम नंबर 8005915026 पर संपर्क कर सकते हैं.

और पढ़ें