लखनऊ Election Result 2022: PM नरेंद्र मोदी के वाराणसी और योगी के गोरखपुर में भाजपा को एकतरफा जीत, आजमगढ़ में सपा को मिली ऐतिहासिक सफलता

Election Result 2022: PM नरेंद्र मोदी के वाराणसी और योगी के गोरखपुर में भाजपा को एकतरफा जीत, आजमगढ़ में सपा को मिली ऐतिहासिक सफलता

Election Result 2022: PM नरेंद्र मोदी के वाराणसी और योगी के गोरखपुर में भाजपा को एकतरफा जीत, आजमगढ़ में सपा को मिली ऐतिहासिक सफलता

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को पूर्ण बहुमत दिलाने वाले डबल इंजन सरकार के मुखिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाले जिले वाराणसी और मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के गृह और निर्वाचन क्षेत्र वाले गोरखपुर में भाजपा को एक तरफा सफलता मिली है. राज्य में मुख्य विपक्षी के रूप में पहले से भी ताकतवर होकर उभरे समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रमुख अखिलेश यादव के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र आजमगढ़ में उनकी पार्टी ने सभी सीटें हासिल कर ऐतिहासिक जीत दर्ज की है. मोदी वाराणसी और सपा अध्यक्ष आजमगढ़ से सांसद हैं जबकि गोरखपुर से पांच बार सांसद रहे योगी आदित्यनाथ 2017 में मुख्यमंत्री बनने के बाद गोरखपुर से ही पहली बार विधानसभा चुनाव लड़े. वाराणसी जिले में कुल आठ विधानसभा क्षेत्र हैं इनमें पांच सीटें प्रधानमंत्री के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र में हैं और तीन दूसरे क्षेत्र में आती हैं. भाजपा और उसके गठबंधन में शामिल अपना दल (एस) ने सभी आठों सीटें जीत ली हैं. वाराणसी के सेवापुरी विधानसभा क्षेत्र से नील रतन सिंह पटेल ने सपा के सुरेंद्र पटेल को 22,531 मतों से पराजित किया. वाराणसी के कैंट क्षेत्र से भाजपा के सौरभ श्रीवास्तव ने सपा की पूजा यादव को 86,844 मतों के अंतर से हराया. वाराणसी उत्तर में राज्य मंत्री और भाजपा उम्मीदवार रवींद्र जायसवाल ने सपा के अशफाक को 40,776 मतों के अंतर से और वाराणसी दक्षिण सीट से भाजपा के डॉ नीलकंठ तिवारी ने सपा के कामेश्वर दीक्षित को 10,722 मतों के अंतर से पराजित किया. पिंडरा सीट पर भाजपा के डॉक्टर अवधेश सिंह ने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के बाबूलाल को 35,559 मतों के अंतर से परास्त किया. 

इसी जिले की अजगरा निर्वाचन क्षेत्र में भाजपा के त्रिभुवन राम ने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे सुनील सोनकर को 9,160 मतों के अंतर से हराया जबकि रोहनिया सीट पर अपना दल (सोनेलाल) के डॉ सुनील पटेल ने भाजपा के गठबंधन सहयोगी अपना दल (कमेरावादी) के अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी अभय पटेल को 46,472 मतों के अंतर से पराजित किया. शिवपुर में पिछड़ा वर्ग कल्‍याण मंत्री अनिल राजभर ने सुभासपा उम्मीदवार और ओमप्रकाश राजभर के बेटे अरविंद राजभर को 27831 मतों के अंतर से हराया. 2017 के चुनाव में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी और अपना दल (सोनेलाल) के उम्मीदवारों ने क्रमशः अजगरा और सेवापुरी सीटों से जीत हासिल की थी. सेवापुरी से अपना दल (एस) से जीते नीलरतन पटेल इस बार भाजपा उम्मीदवार के रूप में चुनाव मैदान में थे. वाराणसी में अंतिम चरण में सात मार्च को मतदान हुआ था. मोदी ने बड़े पैमाने पर वहां रोड शो किया और चुनाव से पहले वाराणसी में कुछ रैलियों को भी संबोधित किया. सुप्रसिद्ध गोरक्षपीठ के महंत योगी आदित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर में नौ विधानसभा सीटें हैं. भाजपा ने यहां सभी सीटें जीत ली हैं. गोरखपुर शहर विधानसभा क्षेत्र में एक लाख से अधिक मतों के अंतर से योगी ने अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी सपा की सुभावती शुक्‍ला को पराजित किया. कैम्पियरगंज विधानसभा क्षेत्र में लगातार छह बार से चुनाव जीत रहे पूर्व मंत्री फतेहबहादुर सिंह ने अपनी सीट बरकरार रखते हुए सपा की काजल निषाद को 42,656 वोटों के अंतर से हराया. पिपराइच सीट से भाजपा के महेंद्र पाल सिंह ने सपा के अमरेंद्र निषाद को 65,375 मतों के अंतर से परास्त कर दिया. गोरखपुर ग्रामीण सीट पर भारतीय जनता पार्टी के विपिन सिंह ने सपा के विजय बहादुर यादव को 24,070 मतों के अंतर से हराकर अपनी सीट बरकरार रखी. सहजनवा विधानसभा सीट पर भाजपा के प्रदीप शुक्ला ने सपा के यशपाल सिंह रावत को 43,632 मतों के अंतर से हराया. खजनी विधानसभा सीट पर राज्‍य सरकार के मंत्री और भाजपा के श्रीराम चौहान ने सपा की रूपावती बेलदार को 37,271 मतों के अंतर से हराया. 

चौरी चौरा से भाजपा के श्रवण कुमार निषाद ने सपा के बृजेश चंद्र लाल को 41,358 मतों के अंतर से हराया. जिले की बांसगांव विधानसभा सीट से भाजपा के डॉ विमलेश पासवान ने सपा के डॉ संजय कुमार को 32,402 मतों के अंतर से हराया. चिल्लूपार विधानसभा सीट पर भाजपा के राजेश त्रिपाठी ने सपा के विनय शंकर को 21,842 मतों के अंतर से हराया. 2017 में भाजपा ने गोरखपुर की नौ में से आठ सीटों पर जीत हासिल की थी लेकिन चिल्लूपार में बसपा के विनय शंकर तिवारी 2017 में जीत गये थे . यादव के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ में समाजवादी पार्टी ने पूरे जिले की सभी 10 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल कर इतिहास रच दिया है. आजमगढ़ सदर सीट से सपा के दुर्गा प्रसाद यादव ने भाजपा के अखिलेश कुमार मिश्रा को 15,119 वोटों के अंतर से , अतरौलिया में सपा के डॉ संग्राम यादव ने 17,247 मतों के अंतर से चुनाव जीत लिया. निजामाबाद में सपा के आलम बदी ने भाजपा के मनोज यादव को 33,578 मतों के अंतर से हराया. सगड़ी विधानसभा क्षेत्र में सपा के डॉक्टर एचएन पटेल ने भाजपा की वंदना सिंह को 21,778 मतों के अंतर से हराया. दीदारगंज सीट से सपा के कमलाकांत राजभर ने भाजपा के कृष्ण मुरारी विश्वकर्मा को 13,214 मतों के अंतर से हराया. फूलपुर पवई निर्वाचन क्षेत्र में सपा के रमाकांत यादव ने भाजपा के राम सूरत को 24,747 मतों के अंतर से पराजित किया. मुबारकपुर विधानसभा सीट पर सपा के अखिलेश ने भाजपा के अरविंद जायसवाल को 28,465 मतों के अंतर से हराया. उधर, लालगंज में सपा के बेचई सरोज ने भाजपा की नीलम सोनकर को 14733 मतों के अंतर से हराया. सपा के नफीस अहमद ने गोपालपुर में भाजपा के सत्येंद्र राय को 24,307 मतों के अंतर से हराकर अपनी सीट बरकरार रखी. मेहनगर की सुरक्षित सीट पर सपा की पूजा ने भाजपा के मंजू सरोज को 13,776 मतों के अंतर से हराया. इससे पहले आजमगढ़ में सपा का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2012 में दर्ज किया गया था जब पार्टी ने 10 में से नौ सीटें जीतकर राज्य में सरकार भी बनाई थी. 2012 में पार्टी मुबारकपुर सीट बसपा से हार गई थी. 2017 में, सपा ने केवल पांच सीटें जीती थीं. सोर्स- भाषा
 

और पढ़ें