जेडीए से जुड़े कार्यों के लिए हो सकेगा ऑनलाइन आवेदन, ई-मित्र केंद्र पर उपलब्ध होगी सुविधा

जेडीए से जुड़े कार्यों के लिए हो सकेगा ऑनलाइन आवेदन, ई-मित्र केंद्र पर उपलब्ध होगी सुविधा

जेडीए से जुड़े कार्यों के लिए हो सकेगा ऑनलाइन आवेदन, ई-मित्र केंद्र पर उपलब्ध होगी सुविधा

जयपुर: जयपुर विकास प्राधिकरण से जुड़ी विभिन्न सेवाओं के लिए अब आपके घर के नजदीक ही ई मित्र केंद्र पर सुविधा उपलब्ध होगी. तय शुल्क देकर आप इस सुविधा का लाभ उठा सकेंगे.

काफी समय पहले से जयपुर विकास प्राधिकरण की ओर से प्रमुख सेवाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है. इसके बावजूद कई लोग ऑनलाइन आवेदन के लिए जरूरी संसाधन नहीं होने के चलते इस सुविधा का लाभ नहीं उठा पा रहे थे. अब जयपुर विकास प्राधिकरण ने शहर भर में मौजूद ई मित्र केंद्रों को इसके लिए अधिकृत कर दिया है. अब कोई भी आवेदक अपने घर के नजदीक ई मित्र केंद्र के माध्यम से जेडीए से जुड़ी विभिन्न सेवाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकेगा. आपको सबसे पहले बताते हैं कि ई मित्र केंद्र पर किन सेवाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जा सकेगा-

- किसी भूखंड की लीज डीड या पट्टा लेने के लिए ई मित्र केंद्र पर आवेदन किया जा सकेगा. 
- भूखंड के नाम हस्तांतरण के लिए भी इस प्रकार आवेदन किया जा सकेगा. 
- भूखंड के पुनर्गठन अथवा उप विभाजन के लिए भी ऑनलाइन आवेदन की सुविधा उपलब्ध होगी.
- भूखंड की समस्त लीज राशि जमा होने पर लीज मुक्ति प्रमाण पत्र के लिए भी इस सुविधा का लाभ लिया जा सकेगा. 

ऑनलाइन आवेदन के लिए जरूरी दस्तावेजों को स्कैन कर अपलोड करने और सेवा से जुड़े शुल्क को जमा कराने की भी ई मित्र केंद्र पर सुविधा उपलब्ध होगी. इसके लिए ई मित्र केंद्र के संचालक को दिए जाने वाले शुल्क का निर्धारण कर दिया गया है. आपको बताते हैं कि इसके लिए ई मित्र केंद्र के संचालक को कितना शुल्क देना होगा.

- आवेदन भरने और उसके साथ दस्तावेजों को स्कैन कर अपलोड करने के लिए ₹50 प्रति आवेदन शुल्क देना होगा.
- आवेदन के साथ ₹2000 तक का शुल्क जमा कराने पर ई मित्र संचालक को ₹10 देने होंगे. 
- ₹2000 से अधिक शुल्क होने पर प्रति ₹1000 तक ₹2 अतिरिक्त ई मित्र संचालक को देने होंगे. 
- प्रिंटआउट लेने पर ₹10 प्रति पेज देने होंगे. 

घर के नजदीक ई मित्र केंद्र पर ही आवेदन जमा कराने की सुविधा से लोगों को राहत मिलेगी. साथ ही जेडीए के नागरिक सेवा केंद्र में आने और अपनी बारी की प्रतीक्षा करने में लगने वाले लोगों के समय में भी बचत होगी.


 

और पढ़ें