इंदौर, मध्य प्रदेश पश्चिम बंगाल में ‘‘तलवार के बल पर’’ तृणमूल कांग्रेस में शामिल किए जा रहे विपक्षी नेता - कैलाश विजयवर्गीय

पश्चिम बंगाल में ‘‘तलवार के बल पर’’ तृणमूल कांग्रेस में शामिल किए जा रहे विपक्षी नेता - कैलाश विजयवर्गीय

पश्चिम बंगाल में ‘‘तलवार के बल पर’’ तृणमूल कांग्रेस में शामिल किए जा रहे विपक्षी नेता - कैलाश विजयवर्गीय

इंदौर(मध्य प्रदेश): पश्चिम बंगाल सरकार पर विपक्ष की हत्या के प्रयासों में जुटने का आरोप लगाते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि इस सूबे में विपक्षी दलों के नेताओं पर संगीन जुर्मों के झूठे मामले लाद कर उन्हें ‘‘तलवार के बल पर’’ सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने पर मजबूर किया जा रहा है.

विजयवर्गीय ने कल मंगलवार को इंदौर में संवाददाताओं से कहा कि मुझे तो एक घटना याद आती है कि इस देश के अंदर इस्लाम भी तलवार के बल पर आया और बंगाल में तृणमूल कांग्रेस में जो लोग जा रहे हैं, वे तलवार के बल पर जा रहे हैं. मुझे लगता है कि दोनों घटनाएं एक जैसी हैं.
भाजपा महासचिव से पश्चिम बंगाल में उनकी पार्टी के नेताओं के सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस में लगातार शामिल होने पर प्रतिक्रिया मांगी गई थी. गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल के पिछले विधानसभा चुनावों में भाजपा की हार के बाद इस पार्टी के कई नेताओं ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया है.

पश्चिम बंगाल में कानून-व्यवस्था खत्म हो चुकी:
इन चुनावों में भाजपा के प्रमुख रणनीतिकार रहे विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में कानून-व्यवस्था खत्म हो चुकी है और भाजपा के नेताओं पर हत्या, डकैती तथा भ्रष्टाचार के संगीन आरोपों में बड़ी तादाद में झूठे मामले लादे जा रहे हैं. भाजपा महासचिव ने कहा कि (पश्चिम बंगाल में) अकेले मुझ पर 20 मुकदमे चल रहे हैं. सरकार जब विपक्ष की हत्या करने में लग जाती है, तो वहां (पश्चिम बंगाल) कोई आदमी कैसे जी पाएगा?

पश्चिम बंगाल में प्रजातंत्र नहीं:
विजयवर्गीय ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए कहा कि अगर देश के इतिहास में किसी ऐसे तानाशाह नेता का नाम लिखा जाएगा जिसका प्रजातंत्र पर बिल्कुल भी विश्वास नहीं रहा, तो इनमें बनर्जी भी शामिल होंगी. उन्होंने कहा कि दुनिया भर में भारत के प्रजातंत्र की प्रशंसा हो रही है. लेकिन यह बात मैं भाजपा महासचिव की हैसियत से पूरी जिम्मेदारी से कह रहा हूं कि पश्चिम बंगाल में प्रजातंत्र नहीं है. सोर्स- भाषा 

और पढ़ें