बीजेपी के विकास कार्यों का श्रेय विपक्षी पार्टियां लेने की कोशिश कर रही है: सीएम योगी

बीजेपी के विकास कार्यों का श्रेय विपक्षी पार्टियां लेने की कोशिश कर रही है: सीएम योगी

बीजेपी के विकास कार्यों का श्रेय विपक्षी पार्टियां लेने की कोशिश कर रही है: सीएम योगी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्षी दलों पर अपनी सरकार के विकास कार्यों का श्रेय लेने की कोशिश करने का आरोप लगाते हुए सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) के कार्यकर्ताओं से इन प्रयासों को विफल करने का आह्वान किया. 

मुख्यमंत्री ने उत्तर प्रदेश भाजपा कार्यालय में आयोजित मीडिया कार्यशाला को संबोधित करते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं को आगाह किया कि विपक्षी दल भाजपा सरकार के विकास कार्यों का श्रेय लेने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि सच्चाई यह है कि कुछ कार्य बेहद स्थानीय स्तर पर होते हैं और वहां सूचना के अभाव में कुछ विपक्षी पार्टियां उस विकास कार्य का श्रेय लेने की कोशिश कर रही हैं. ऐसे समय में भाजपा के स्थानीय प्रवक्ता लोगों को बताएं कि वह विकास कार्य हमारी सरकार ने कराया है. 

जनता बीजेपी पार्टी को कर रही स्वीकार: 
मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री आवास योजना का जिक्र करते हुए कहा कि यह योजना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लागू की है, लेकिन अगर किसी ग्रामीण से पूछा जाए कि उसे यह आवास किसने दिया तो वह कहेगा कि ग्राम प्रधान ने दिया है. जिस योजना का श्रेय भाजपा को दिया जाना चाहिये वह ग्राम प्रधान को मिल रहा है. विधानसभा चुनाव की सरगर्मी बढ़ने के बीच मुख्यमंत्री ने भाजपा कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे सरकार की उपलब्धियों को अधिक प्रभावशाली ढंग से जनता के सामने पेश करें. उन्होंने कहा कि संतकबीरनगर और कुशीनगर जिलों में रविवार को प्रचंड गर्मी होने के बावजूद 50,000 से ज्यादा लोगों की भीड़ जुटी. कार्यक्रम देर से शुरू होने के बावजूद लोगों में उत्साह की कोई कमी नहीं दिखी. लोग हमें स्वीकार कर रहे हैं लेकिन हम अपना दृष्टिकोण प्रस्तुत करने में संकोच कर रहे हैं. 

यूपी में अपराधियों पर सख्त सरकार:
योगी ने सांसदों, विधायकों तथा भाजपा जिला अध्यक्षों समेत पार्टी पदाधिकारियों के साथ हुई पिछली बैठकों का जिक्र करते हुए कहा कि वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले हुई इन बैठकों में जब हमने पूछा कि क्या चल रहा है तो इन पदाधिकारियों ने कहा कि कुछ भी नहीं हो रहा है. मैंने उनसे विकास योजनाओं के बारे में पूछा, मैंने पूछा कि 2017 से पहले आपको 24 घंटों में कितने घंटे बिजली मिलती थी उन्होंने कहा कि चार से पांच घंटे बिजली मिला करती थी. जब मैंने पूछा कि अब उन्हें कितने घंटे बिजली मिलती है तो उन्होंने कहा कि 20 से 24 घंटे. तो मैंने पूछा कि क्या यह कोई बड़ी बात नहीं है? क्या पांच घंटे और 24 घंटे में कोई अंतर नहीं है. योगी ने कहा कि वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान महिलाएं पूछती थीं कि क्या उत्तर प्रदेश में कभी सुरक्षा का माहौल उत्पन्न होगा? क्या हमारी बेटियां बहनें सुरक्षित होंगी? लेकिन आज अपराधी गले में तख्ती डालकर रहम की भीख मांग रहे हैं. सोर्स-भाषा

और पढ़ें