जयपुर VIDEO: अग्निपथ योजना और मुख्यमंत्री गहलोत के बड़े भाई के आवास पर CBI छापों का विरोध, देखिए ये खास रिपोर्ट

VIDEO: अग्निपथ योजना और मुख्यमंत्री गहलोत के बड़े भाई के आवास पर CBI छापों का विरोध, देखिए ये खास रिपोर्ट

जयपुर: केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के खिलाफ कांग्रेस ने तीखे तेवर अपना लिए है. आज PCC में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने अग्निपथ को लेकर कहा कि ये आरएसएस के लोगों को सेना में दाखिले की साजिश है, उन्होंने  इस योजना को वापस लेने की मांग की. डोटासरा ने मुख्यमंत्री गहलोत के बड़े भाई के आवास पर पड़े सीबीआई के छापों का भी विरोध किया.

सेना से जुड़ी अग्निपथ योजना का विरोध शुरु हो गया है. पीसीसी में आज सत्ता और संगठन ने संयुक्त प्रेस वार्ता की. पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा,मंत्री परसादी लाल मीणा, डॉ महेश जोशी,प्रताप सिंह खाचरियावास,बृजेंद्र सिंह ओला की मौजूदगी रही. पीसीसी में आयोजित प्रेस वार्ता में गोविंद सिंह डोटासरा ने अग्निवीर योजना में 75 फीसदी आगे चलकर रिजेक्ट हो जाएंगे और कई तरह के कंपटीशन भर्ती और सिलेक्शन के लिए देने होंगे,अग्निपथ के जरिए युवाओं को गुलाम बनाने का षड्यंत्र है. 

डोटासरा ने कहा कि आरएसएस के लोगों को सेना में डालने का षड्यंत्र है अग्निपथ योजना, केंद्र सरकार में पहले बड़े बड़े पदों पर आरएसएस के लोग तैनात,केंद्रीय मंत्रियों के पीएस पीए तक संघ के ही लोग पदासीन है.जलदाय मंत्री महेश जोशी ने कहा कि अग्निपथ योजना से सवाल खड़े होते है. सेना के स्ट्रक्चर से छेड़छाड़ करना गलत है,हमारा देश पाकिस्तान नहीं है,खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि अडानी के लिए पचास साल सेना में युवाओं के लिए चार साल,मोदी सरकार को फिर झुकना पड़ेगा.

सीएम अशोक गहलोत के बड़े भाई के आवास पर पड़े सीबीआई रेड के खिलाफ भी कांग्रेस नेताओं ने जमकर बोला. पीसीसी चीफ डोटासरा ने कहा कि सीएम गहलोत के बड़े भाई के खिलाफ सीबीआई छापे बंद करे ये बदले की राजनीति बंद करे केंद्र सरकार. मंत्री महेश जोशी और प्रताप सिंह खाचरियावास ने निंदा की और कहा कि सीबीआई बिना पूछे किसी प्रदेश में रेड नहीं कर सकती,प्रदेश सरकार की इजाजत आवश्यक है. राहुल गांधी की सोमवार को ED में फिर पेशी है. राज्य की कांग्रेस बड़े आंदोलन की रूपरेखा बना रही.दूसरी ओर अग्निपथ योजना के खिलाफ भी कांग्रेस विराट आंदोलन की देशव्यापी रणनीति बना रही. 

और पढ़ें