कोविड-19: राजस्थान में खाली पड़े मेडिकल स्टाफ के पदों को तुरंत भरने के आदेश

कोविड-19: राजस्थान में खाली पड़े मेडिकल स्टाफ के पदों को तुरंत भरने के आदेश

जयपुरः राजस्थान में कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप और मेडिकल इमरजेंसी जैसे हालातों को सुधारने के लिए प्रदेश भर में खाली पड़े मेडिकल स्टाफ के पदों को भरने के लिए जिला कलेक्टरों को निर्देश दिए गए हैं. इन खाली पदों को भरने के लिए चिकित्सा विभाग ने एक पत्र लिखकर जिला कलेक्टरों को अर्जेंट टेंपरेरी बेसिस पर इन्हे भरने के निर्देश दिए हैं. वहीं वित्त विभाग ने भी इन पदों को भरने के लिए स्वीकृति जारी कर दी है. 

जिला कलेक्टरों को अर्जेंट टेंपरेरी बेसिस पर पदों को भरने के आदेशः
जानकारी के अनुसार प्रदेश में भंयकर रूप धारण कर रहे कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर सरकार सहित प्रशासन का पूरा महकमा इसे नियंत्रित करने और प्रदेश में मेडिकल सेवाओं जैसी कमियों को दूर करने में लगा है. ऐसे में चिकित्सा विभाग ने आदेश जारी करते हुए प्रदेश में मेडिकल सेवाओं से लेकर रिक्त पड़े पदों को तुरंत प्रभाव से भरने के लिए जिला कलेक्टरों को निर्देश जारी किए हैं. इससे पहले चिकित्सा विभाग ने प्रशासन को प्रदेश में रिक्त पड़े डॉक्टर, नर्सेज और पैरामेडिकल स्टाफ के खाली पदों को भरने के लिए पत्र लिखा था. जिसके बाद वित्त विभाग ने भी इन पदों को भरने की स्वीकृति मिलने के बाद विभाग ने सभी जिला कलेक्टरों को इन रिक्त पदों को भरने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने निर्देश में सभी जिला कलेक्टरों से कहा है कि वह अर्जेंट टेंपरेरी बेसिस (UTB) पर खाली पदों को तुरंत प्रभाव से भरे.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगातार प्रदेश के हालातों पर बनाए रखे हुए हैं नजरः
आपको बता दें कि राजस्थान प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण से हालता बेकाबू होते जा रहे हैं. बताया जा रहा है कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए अस्पतालों में जीवन रक्षक दवाओं और ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ती को लेकर प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है. खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगातार प्रदेश में कोरोना के हालतों से निपटने के लिए अपनी नजरे गड़ाए बैठे हैं. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की और उनसे रोगियों के हिसाब से राजस्थान को दवाइयां व ऑक्सीजन उपलब्ध कराने की अपील की. इसके साथ ही गहलोत ने मोदी को सुझाव दिया कि केंद्र सरकार ऑक्सीजन का परिवहन करने वाले टैंकरों का भी अधिग्रहण करे ताकि राज्यों को ऑक्सीजन के साथ टैंकर भी मिलें और राज्यों की शिकायत दूर हो. मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री गहलोत ने प्रधानमंत्री मोदी से टेलीफोन पर बात की है.

केन्द्रीय मंत्रियों से मिला था प्रदेश सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों का दलः
उधर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते ममलों के बीच प्रदेश सरकार के तीन वरिष्ठ मंत्रियों ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला, नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल और चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने मंगलवार को दिल्ली पहुंचकर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, केंद्रीय रसायन व उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया से मिलकर प्रदेश में संक्रमितों के उपचार के लिए तत्काल रेमडेसिविर व टोसिलिजुमेब और आॉक्सीजन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराने का आग्रह किया.
 

और पढ़ें