गुजरात में आग का तांडव: कोविड-19 अस्पताल में आगजनी से 18 लोगों की मौत, मरने वालों में दो नर्स भी शामिल, पीएम मोदी ने जताया दुख 

गुजरात में आग का तांडव: कोविड-19 अस्पताल में आगजनी से 18 लोगों की मौत, मरने वालों में दो नर्स भी शामिल, पीएम मोदी ने जताया दुख 

गुजरात में आग का तांडव: कोविड-19 अस्पताल में आगजनी से 18 लोगों की मौत, मरने वालों में दो नर्स भी शामिल, पीएम मोदी ने जताया दुख 

गांधीनगर: गुजरात में भरूच (Bharunch) के पटेल वेलफेयर कोविड अस्पताल (Patel Welfare Covid Hospital) में शुक्रवार रात भीषण आग लग गई. हादसे में अब तक 18 लोगों की मौत हो चुकी है. अस्पताल के ट्रस्टी जुबेर पटेल ने 16 मरीज और 2 स्टाफ नर्स की मौत की पुष्टी की है. इस चार मंजिला अस्पताल में 50 मरीज और भर्ती थे. सभी को सिविल अस्पताल, सेवाश्रम अस्पताल और जंबुसर अल महमूद अस्पतालों में शिफ्ट कर दिया गया है. यह अस्पताल भरूच-जंबुसर हाईवे पर बताया जा रहा है.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जताया शोक:
गुजरात में हुए इस भयंकर अग्निकांड पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शोक व्यक्त किया है. अपने ट्विटर हैंडल (Twitter Handle) के जरीए उन्होने लिखा है कि भरूच के एक अस्पताल में आग लगने से जानमाल के नुकसान से आहत हूं. शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना है. भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे.

Pained by the loss of lives due to a fire at a hospital in Bharuch. Condolences to the bereaved families.

— Narendra Modi (@narendramodi) May 1, 2021


पीड़ित परिवार को 4 लाख रूपए की आर्थिक मदद का ऐलान:
हादसे पर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी (CM Vijay Rupani) ने दुख जताया है. उन्होंने कहा कि हादसे में जान गंवाने वाले मरीजों, डॉक्टरों और अस्पताल के कर्मचारियों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं. दुर्घटना में पीड़ित प्रत्येक परिवार को राज्य सरकार 4 लाख रूपए की सहायता प्रदान करेगी.

ભરૂચની હોસ્પિટલમાં લાગેલી આગની દુર્ઘટનામાં જીવ ગુમાવનારા દર્દીઓ, ડૉક્ટરો અને હોસ્પિટલના સ્ટાફ પ્રત્યે શોકની લાગણી વ્યક્ત કરું છું. રાજ્ય સરકાર દુર્ઘટનામાં મૃત્યુ પામેલા પ્રત્યેક મૃતકોના પરિવારજનોને રૂપિયા 4 લાખની સહાય આપશે.

— Vijay Rupani (@vijayrupanibjp) May 1, 2021


आग लगने के कारणों का नही लगा पता, शॉर्ट सर्किट से आग लगने का शक:
आग रात करीब 12:30 बजे लगी और तेजी से फैलकर ICU (Intensive Care Unit) तक पहुंच गई. हालांकि, कुछ घंटों की कोशिशों के बाद इस पर काबू पा लिया गया. बचाव का काम सुबह तक जारी रहा. शुरुआती जांच में आग का कारण शॉर्ट सर्किट बताया जा रहा है.

12 फायर ब्रिगेड और 40 एंबुलेंस मौके पर पहुंचीं:
आग लगने की खबर मिलते ही फायर ब्रिगेड 12 गाड़ियां और 40 एंबुलेंस को बुलाया गया. मरीजों के परिजन भी मौके पर पहुंच गए. उस समय अस्पताल के आसपास करीब 5 से 6 हजार लोगों की भीड़ थी. वे रो रहे थे और चीख-पुकार (Shout Scream) मची हुई थी. कुछ लोग रोते हुए सोशल मीडिया (Social Media) पर मदद की गुहार लगा रहे थे.

बेड और ऑक्सीजन के लिए मची रही अफरा-तफरी:
आग की वजह से अस्पताल और आसपास के इलाके की बिजली बंद कर दी गई थी. इससे बचाव के काम में भी काफी दिक्कतें आईं. काफी कोशिशों के बाद मरीजों को बाहर निकाला गया और उन्हें दूसरे हॉस्पिटल में शिफ्ट कर दिया गया. हालांकि, नए मरीज आने पर यहां बेड (Beds) और ऑक्सीजन (Oxygen) के लिए काफी देर तक अफरा-तफरी मची रही.

पहले भी हो चुके कोविड हॉस्पिटल में हादसे:
पिछले महीने मुंबई (Mumbai) के भांडुप इलाके में एक मॉल की तीसरी मंजिल पर बने कोविड हॉस्पिटल में आग लग गई थी. हादसे में 10 लोगों की मौत हुई थी. हॉस्पिटल में भर्ती 70 मरीजों को सुरक्षित निकालकर दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया गया था. आग पर काबू पाने के लिए फायर ब्रिगेड (Fire Brigade) की 22 गाड़ियों को काफी देर तक मशक्कत करनी पड़ी थी.

राजकोट जिले के एक कोविड अस्पताल में आग लगने से पांच लोगों की हुई थी मौत:
पिछले साल 27 नवंबर को गुजरात के राजकोट जिले के एक कोविड अस्पताल में आग लगी थी. हादसे में पांच कोरोना मरीजों की जलकर मौत हो गई थी. हॉस्पिटल में 33 कोरोना मरीजों का इलाज चल रहा था. मशीनरी में शॉर्ट सर्किट (Short Circuit) को आग लगने की वजह बताया गया था. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने हादसे की जांच के आदेश भी दिए थे.

ग्वालियर संभाग के सबसे बड़े अस्पताल जयारोग्य में भी हुई थी आगजनी:
पिछले साल 21 नवंबर को ग्वालियर संभाग (Gwalior Division) के सबसे बड़े अस्पताल जयारोग्य (Jayarogya) के कोविड केयर सेंटर के ICU में आग लग गई थी. वहां भर्ती 9 मरीजों में से 2 मामूली झुलस गए थे. आग से मची अफरा-तफरी में दो मरीजों की मौत हो गई. एक वेंटीलेटर (Ventilator) भी जल गया था.

2020 में भी अस्पतालों मे हुई थी आमजनी की घटनाएं:
पिछले साल ही 9 अगस्त को आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा में एक होटल में आग लगने से 10 लोगों की मौत हो गई थी. होटल को कोविड-19 फैसिलिटी सेंटर (Facility Center) के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा था. घटना के वक्त यहां 40 मरीज थे. मेडिकल स्टाफ (Medical Staff) के भी 10 लोग थे. इससे 3 दिन पहले 6 अगस्त 2020 को अहमदाबाद के श्रेय कोविड अस्पताल में भी आग लगी थी. इस हादसे में 8 मरीजों की मौत हुई थी. इनमें 5 पुरुष और 3 महिलाएं शामिल थे. आग अस्पताल की चौथी मंजिल पर लगी.

अस्पताल के चिकित्सकों ने जताया दुख:
अस्पताल के डॉक्टरों ने इस हादसे पर दुख जाहिर किया. कोविड केयर सेंटर के ट्रस्टी जुबेर पटेल (Trusty Juber Patel) ने कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण हादसा है, जो सिर्फ हमारे लिए नहीं, बल्कि पूरे भरूच के लिए है. पुलिस और प्रशासन की मदद से हमने मरीजों को दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट कर दिया. 16 मरीजों और दो नर्सों ने इस हादसे में अपनी जान गंवा दी. 

 

और पढ़ें