राजस्थान में ऑक्सीजन की कमी दूर करने को लेकर सरकार की बड़ी कवायत, 59 शहरों में लगाए जाएंगे ऑक्सीजन प्लांट 

राजस्थान में ऑक्सीजन की कमी दूर करने को लेकर सरकार की बड़ी कवायत, 59 शहरों में लगाए जाएंगे ऑक्सीजन प्लांट 

जयपुरः राजस्थान में बढ़ते कोरोना संक्रमण के प्रकोप और कोविड मरीजों के लिए ऑक्सीजन की कमी दूर करने के लिए राज्य सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए नगरीय निकायों के माध्यम से 59 शहरों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का ऐलान किया है. फैसले के तहत प्रदेश में नगरीय निकायों के माध्यम से 59 शहरों में मेडिकल ऑक्सीजन के उत्पादन के लिए 62 प्लांट लगाए जाएंगे.

यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल की अध्यक्षता में हुई बैठक में फैसलाः
जानकारी के अनुसार बुधवार को यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल की अध्यक्षता में उनके निवास पर एक बैठक आयोजित की गई. बैठक में विभाग के आला अधिकारी शामिल हुए. इस बैठक में ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट जारी करने का बड़ा फैसला किया गया और इसके बाद देर शाम एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट जारी कर दिया गया. बताया जा रहा है कि यह ऑक्सीजन प्लांट शहरों के सरकारी अस्पताल में लगाए जाएंगे. बताया जा रहा है कि इन ऑक्सीजन प्लांट्स से प्रतिदिन 120 मीट्रिक टन लिक्विड ऑक्सीजन मिलेगी. वहीं प्लांट लगाने वाली कंपनी को इसके लिए 2 साल की वारंटी देनी होगी और डिफेक्ट लायबिलिटी पीरियड की शर्त की पालना करनी होगी.

जयपुर विकास प्राधिकारण की ओर से मिलेंगे 2000 सिलेंडर प्रतिदिनः
जानकारी के अनुसार अजमेर विकास प्राधिकरण, बीकानेर में नगर सुधार न्यास एवं भरतपुर में नगर निगम एवं यूआईटी द्वारा 500 सिलेंडर प्रतिदिन क्षमता के ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाएंगे. वहीं जयपुर विकास प्राधिकारण द्वारा 2000 सिलेंडर, जोधपुर विकास प्राधिकरण द्वारा 1000 सिलेंडर, कोटा में नगर सुधार न्यास द्वारा 1000 सिलेंडर, उदयपुर में नगर सुधार न्यास द्वारा 1000 सिलेंडर, किशनगढ़ एवं ब्यावर में नगर परिषद द्वारा 75-75 सिलेंडर, अलवर में नगर सुधार न्यास द्वारा 150 सिलेंडर, भिवाड़ी में नगर सुधार न्यास द्वारा 75 सिलेंडर और  बाड़मेर में नगर सुधार न्यास द्वारा 150 सिलेण्डर प्रतिदिन क्षमता के ऑक्सीजन प्लांट्स लगाए जाएंगे. इसी तरह अन्य नगरीय निकायों में भी ऑक्सीजन प्लांट्स लगाए जाएंगे.
 

और पढ़ें