VIDEO: जन समस्याओं के निदान में जुटा PCC का कोविड कंट्रोल रूम, अब तक 4 हजार के लगभग समस्या आई

VIDEO: जन समस्याओं के निदान में जुटा PCC का कोविड कंट्रोल रूम, अब तक 4 हजार के लगभग समस्या आई

जयपुर: प्रदेश कांग्रेस (Congress) का कोविड कंट्रोल रूम (Covid Control Room) लगातार मदद में जुटा हुआ है. सभी जिला और ब्लॉक संगठनों के जरिए सरकार से जरूरी सहायता उपलब्ध कराई जा रही है. करीब 4 हजार समस्याएं प्रदेशभर से पीसीसी को प्राप्त हुए, इनमें से 90 फ़ीसदी का समाधान किया गया. सेवा कार्य में रुकावट भी कई आई, पीसीसी कंट्रोल रूम को सेवाएं दे रहे कांग्रेस नेता विजय सारस्वत का कोरोना पॉजिटिव होने के बाद निधन हो गया. टेलीफोनिक आधार पर समस्याएं सुनी और उनका निदान किया जा रहा. सर्वाधिक समस्याएं आ रही ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी को लेकर और अब वैक्सीनेशन की समस्या भी बड़ी भारी है इन्हें दूर करने में पीसीसी कोविड कंट्रोल रूम को भी पसीने आ रहे.

महामारी कोरोना की दूसरी लहर सामने आने के बाद ही प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में कोविड कंट्रोल रूम का निर्माण कर दिया गया था. करीब एक माह होने को है कंट्रोल रूम का बने. इस दौरान कंट्रोल रूम के सदस्य टेलीफोन के जरिए प्रदेशभर से आ रही समस्याओं को लगातार सुलझाने में जुटा है. प्रदेश के सभी जिलों से आ रहे फोन के जरिए रेमडेसिवीर इंजेक्शन, ऑक्सीजन की कमी, ventilator को लेकर सबसे ज्यादा मांग आ रही है. हॉस्पिटल में बेड की व्यवस्था, राशन की समस्या को लेकर भी फोन आ रहे. लेकिन इन दिनों कंट्रोल रूम की घंटियां घनघना रही है vaccination को लेकर, कांग्रेस के युवा कार्यकर्ता लगातार वैक्सीनेशन की मांग कर रहे, अलबत्ता इसका अभी तक निदान पीसीसी कंट्रोल रूम के पास नहीं है.

राज्य भर में कांग्रेस के कार्यकर्ता सामाजिक सरोकार निभा रहे: 
राज्य भर में कांग्रेस के कार्यकर्ता सामाजिक सरोकार निभा रहे है. संगठन के हरावल दस्ते युवा कांग्रेस, एनएसयूआई और सेवादल विशेष तौर पर सक्रिय है. इनमें अधिकांश संगठन जन रसोई अभियान का संचालित कर रहे, जिससे मुख्यमंत्री की कोई भूखा नहीं सोए संकल्प का चरितार्थ किया जा सके. पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा लगातार कंट्रोल रूम से फीडबैक लेते रहते है, पॉजिटिव होने के बावजूद उन्होंने कंट्रोल रूम सदस्यों से बात की. बीते दिनों पीसीसी के कोविड कंट्रोल रूम को झटका लगा, जब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और कुशल संगठनकर्ता विजय सारस्वत का निधन हो गया. विजय सारस्वत एक सक्रिय नेता की तरह कंट्रोल रूम के संपर्क में रहते थे और अपनी ओर से सेवाएं देने का कार्य करते थे, इसी सक्रियता के कारण वे कोरोना पॉजिटिव हो गए, RUHS में भर्ती रहे और फिर दुनिया के बीच से चले गए. 

---पीसीसी कंट्रोल रूम के सामने आने वाले सर्वाधिक मसले---
- ऑक्सीजन उपलब्धता की मांग सर्वाधिक सुलझाने के प्रयास लेकिन मांग बढ़ती जा रही
- 18 प्लस युवा कार्यकर्ता vaccination की मांग कर रहे
- ग्रामीण क्षेत्रों से व्यापक समस्या सामने आ रही इनमे, रेमडेसिवीर इंजेक्शन की मांग सर्वाधिक 
- अस्पताल में वेंटीलेटर नहीं मिलना भी पीसीसी के सामने भारी मसला

कंट्रोल रूम अपनी समस्याओं को सीएम सेल को अवगत कराता है, सीधे स्वास्थ्य विभाग और अस्पतालों को भी बोला जाता है. पीसीसी कंट्रोल मे डॉक्टर्स भी तैनात है जो टेलीफोनिक परामर्श देने का काम करते है. इस माह के आखिर तक कंट्रोल रूम को सेवाएं देनी है, हालात सुधरे नहीं तो कंट्रोल रूम की सेवाएं जारी रह सकती है. बहरहाल पीसीसी के सामने समस्याओं का अंबार है, लेकिन इन्हें सुलझाने के लिया संसाधनों की दरकार है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें