Live News »

पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संबो​धन, कहा-80 करोड़ लोगों को नवंबर तक मिलेगा मुफ्त अनाज

पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संबो​धन, कहा-80 करोड़ लोगों को नवंबर तक मिलेगा मुफ्त अनाज

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छठी बार देशवासियों को संबोधित किया. पीएम मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली और छठ पूजा तक, यानि नवंबर महीने के आखिर तक कर दिया जाए. पीएम मोदी ने कहा कि सरकार द्वारा इन पांच महीनों के लिए 80 करोड़ से ज्यादा भाई बहनों को 5 किलो गेहूं या 5 किलो चावल मुफ्त दिया जाएगा. साथ ही हर परिवार को हर महीने 1 किलो चना भी मुफ्त दिया जाएगा. 

SMS अस्पताल में बड़ी लापरवाही! अस्पताल की मोर्चरी में एक्सचेंज हो गया शव

90 हजार करोड़ रुपये से अधिक होंगे खर्च: 
इस योजना के विस्तार में 90 हजार करोड़ रुपये से अधिक खर्च होंगे. इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली और छठ पूजा तक, यानि नवंबर महीने के आखिर तक कर दिया जाए. हमारे यहां वर्षा ऋतु के दौरान और उसके बाद मुख्य तौर पर एग्रीकल्चर सेक्टर में ही ज्यादा काम होता है. अन्य दूसरे सेक्टरों में थोड़ी सुस्ती रहती है. पीएम मोदी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान देश की सर्वोच्च प्राथमिकता रही कि ऐसी स्थिति न आए कि किसी गरीब के घर में चूल्हा न जले. केंद्र सरकार हो, राज्य सरकारें हों, सिविल सोसायटी के लोग हों, सभी ने पूरा प्रयास किया कि इतने बड़े देश में हमारा कोई गरीब भाई-बहन भूखा न सोए.

गरीबों के लिए पौने दो लाख करोड़ रुपये का पैकेज:
जुलाई से धीरे-धीरे त्योहारों का भी माहौल बनने लगता है. त्योहारों का ये समय, जरूरतें भी बढ़ाता है, खर्चे भी बढ़ाता है. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत गरीबों के लिए पौने दो लाख करोड़ रुपये का पैकेज दिया गया. बीते 3 महीनों में 20 करोड़ गरीब परिवारों के जनधन खातों में सीधे 31 हजार करोड़ रुपए जमा करवाए गए. 9 करोड़ से अधिक किसानों के बैंक खातों में 18 हजार करोड़ रुपए जमा हुए हैं.

पीएम मोदी बोले, कोरोना को लेकर अनलॉक-1 के बाद से लापरवाही बढ़ी 

और पढ़ें

Most Related Stories

अविनाश पांडे ने दिया सचिन पायलट के ट्वीट का जवाब, कहा- आपने भाजपा के साथ मिलकर सत्य को काफी परेशान किया

अविनाश पांडे ने दिया सचिन पायलट के ट्वीट का जवाब, कहा- आपने भाजपा के साथ मिलकर सत्य को काफी परेशान किया

जयपुर: राजस्थान में जारी सियासी खींचतान के बीच सचिन पायलट के लिए कांग्रेस के दरवाजे बंद हो गए हैं. इस पर सचिन पायलट ने पहली प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया कि सत्य को परेशान किया जा सकता है पराजित नहीं. लेकिन अब सचिन पायलट के बयान पर अविनाश पांडे ने कहा कि सत्य वचन सचिन पायलट आपने भाजपा के साथ मिलकर सत्य को काफी परेशान किया, लेकिन पराजित नहीं कर पाए न आगे कर पाएंगे. सत्यमेव जयते. 

Rajasthan Political Crisis:  पुलिस मुख्यालय से बड़ी खबर, गुर्जर बाहुल्य इलाकों में हाई अलर्ट जारी  

आ बैल मुझे मार' के रवैये के साथ काम कर रहे थे:
वहीं राज्यपाल से मिलने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मीडिया से वार्ता करते हुए कहा कि मजबूरी में हाईकमान को फैसला करना पड़ा है. बीजेपी की ओर से लगातार सरकार को कमजोर करने की कोशिश हो रही थी. जिनपर एक्शन लिया गया है वो लगातार 'आ बैल मुझे मार' के रवैये के साथ काम कर रहे थे. क्योंकि काफी लंबे समय से बीजेपी हार्स ट्रेडिंग की कोशिश कर रही थी और हमारे कुछ साथी गुमराह होकर दिल्ली चले गए. लेकिन बीजेपी के मंसूबे पूरे नहीं हुए. अन्य राज्यों की तरह बीजेपी धनबल के आधार पर राजस्थान में भी वहीं करने वाली थी. उन्होंने कहा कि मैं दुखी होते हुए कहता हूं जिस रूप में देश में होर्स ट्रेडिंग हो रही है. इससे पहले भी देश में कई सरकारे आई लेकिन ऐसा पहले कभी नहीं हुआ.  

हमने नाराज विधायकों को पूरा मौका दिया:
सीएम गहलोत ने कहा कि हमने नाराज विधायकों को पूरा मौका दिया इसी के चलते आज एक मौका और दिया गया लेकिन वो फिर भी नहीं आए. उनमे से 8-10 तो आना चाहते थे. हमारे पूर्व अध्यक्ष पायलट के पास वहां पर कुछ नहीं है. वो वहां बीजेपी के हाथों में खेल रहे हैं. वहां पूरी व्यवस्था बीजेपी ने की है. मेरे पास कोई विधायक आया हो चाहे वो किसी भी ग्रुप का हो मैंने सबके काम किए. उनका दिल जानता है मैंने किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं किया. 

Rajasthan Political Crisis:  उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए गए सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा भी बर्खास्त 

भाजपा धनबल से राज्य की दूसरी सरकारों को तोड़-मरोड़ रही: 
पहली बार देश खतरे में आ रहा है. जो सरकार देश में आई है वह धनबल से राज्य की दूसरी सरकारों को तोड़-मरोड़ रही है. सरकारें बदली हैं, राजीव गांधी चुनाव हारे हैं. ये सब कुछ हुआ. पाकिस्तान में ऐसा नहीं होता. पायलट, भाजपा के हाथ में खेल रहे हैं. भाजपा का मैनेजमेंट है, जो मध्यप्रदेश में मैनेज कर रहे थे, वही यहां लगे हैं. आप सोच सकते हैं कि इनका इरादा क्या है?


 

VIDEO: जिनपर एक्शन लिया वो लगातार 'आ बैल मुझे मार' के रवैये के साथ कर रहे थे काम - मुख्यमंत्री गहलोत

जयपुर: राजस्थान में जारी सियासी खींचतान के बीच सचिन पायलट के लिए कांग्रेस के दरवाजे बंद हो गए हैं. कांग्रेस पार्टी ने पायलट पर एक्शन लेते हुए उन्हें डिप्टी सीएम के पद और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दिया है. साथ ही सचिन पायलट के समर्थन वाले मंत्रियों को भी हटा दिया गया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र से मिलने पहुंचे. यहां पर गहलोत मंत्रिमंडल में बदलाव की जानकारी दी. साथ ही विधायकों के समर्थन का पत्र भेजेंगे. खबर यह भी है कि बुधवार को मंत्रिमंडल फेरबदल किया जाएगा. सीएम गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्र को प्रस्ताव दिया.

Rajasthan Political Crisis:  पीसीस चीफ हटाए जाने के बाद सचिन पायलट की पहली प्रतिक्रिया, तोड़ी चुप्पी  

आ बैल मुझे मार' के रवैये के साथ काम कर रहे थे:
वहीं राज्यपाल से मिलने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मीडिया से वार्ता करते हुए कहा कि मजबूरी में हाईकमान को फैसला करना पड़ा है. बीजेपी की ओर से लगातार सरकार को कमजोर करने की कोशिश हो रही थी. जिनपर एक्शन लिया गया है वो लगातार 'आ बैल मुझे मार' के रवैये के साथ काम कर रहे थे. क्योंकि काफी लंबे समय से बीजेपी हार्स ट्रेडिंग की कोशिश कर रही थी और हमारे कुछ साथी गुमराह होकर दिल्ली चले गए. लेकिन बीजेपी के मंसूबे पूरे नहीं हुए. अन्य राज्यों की तरह बीजेपी धनबल के आधार पर राजस्थान में भी वहीं करने वाली थी. उन्होंने कहा कि मैं दुखी होते हुए कहता हूं जिस रूप में देश में होर्स ट्रेडिंग हो रही है. इससे पहले भी देश में कई सरकारे आई लेकिन ऐसा पहले कभी नहीं हुआ.  

हमने नाराज विधायकों को पूरा मौका दिया:
सीएम गहलोत ने कहा कि हमने नाराज विधायकों को पूरा मौका दिया इसी के चलते आज एक मौका और दिया गया लेकिन वो फिर भी नहीं आए. उनमे से 8-10 तो आना चाहते थे. हमारे पूर्व अध्यक्ष पायलट के पास वहां पर कुछ नहीं है. वो वहां बीजेपी के हाथों में खेल रहे हैं. वहां पूरी व्यवस्था बीजेपी ने की है. मेरे पास कोई विधायक आया हो चाहे वो किसी भी ग्रुप का हो मैंने सबके काम किए. उनका दिल जानता है मैंने किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं किया. 

Rajasthan Political Crisis:  पुलिस मुख्यालय से बड़ी खबर, गुर्जर बाहुल्य इलाकों में हाई अलर्ट जारी  

वह धनबल से राज्य की दूसरी सरकारों को तोड़-मरोड़ रही: 
पहली बार देश खतरे में आ रहा है. जो सरकार देश में आई है वह धनबल से राज्य की दूसरी सरकारों को तोड़-मरोड़ रही है. सरकारें बदली हैं, राजीव गांधी चुनाव हारे हैं. ये सब कुछ हुआ. पाकिस्तान में ऐसा नहीं होता. पायलट, भाजपा के हाथ में खेल रहे हैं. भाजपा का मैनेजमेंट है, जो मध्यप्रदेश में मैनेज कर रहे थे, वही यहां लगे हैं. आप सोच सकते हैं कि इनका इरादा क्या है?


 

Rajasthan Political Crisis: पीसीस चीफ हटाए जाने के बाद सचिन पायलट की पहली प्रतिक्रिया, तोड़ी चुप्पी

Rajasthan Political Crisis:  पीसीस चीफ हटाए जाने के बाद सचिन पायलट की पहली प्रतिक्रिया, तोड़ी चुप्पी

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम के आखिरकार सचिन पायलट ने चुप्पी तोड़ दी. पायलट ने ट्वीट करते हुए कहा कि सत्य को परेशान किया जा सकता है पराजित नहीं. पीसीसी चीफ से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट की यह पहली प्रतिक्रिया सामने आई है. वहीं दूसरी ओर सचिन पायलट के समर्थन के बाद प्रदेश के कई स्थानों पर समर्थन में इस्तीफों का दौर जारी है. 

Rajasthan Political Crisis:  पुलिस मुख्यालय से बड़ी खबर, गुर्जर बाहुल्य इलाकों में हाई अलर्ट जारी 

इससे पहले कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने तीन मंत्रियों को बर्खास्त किया है. इसमे सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा शामिल है. वहीं सचिन पायलट को पीसीस चीफ पदे से भी हटाया गया है. उनके स्थान पर  गोविंद सिंह डोटासरा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बने हैं. वहीं मुकेश भाकर को यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर उनके स्थान पर गणेश घूघरा को यूथ कांग्रेस अध्यक्ष बनाया गया है. वहीं हेमसिंह शेखावत सेवादल प्रदेशाध्यक्ष होंगे. 

Rajasthan Political Crisis:  उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए गए सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा भी बर्खास्त 

8 करोड़ जनता के सम्मान को चुनौती:  
कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने एक षडयंत्र के तहत राजस्थान की 8 करोड़ जनता के सम्मान को चुनौती दी है. बीजेपी ने साजिश के तहत कांग्रेस की सरकार को अस्थिर कर गिराने की साजिश की है. बीजेपी धनबल और सत्ताबल से कांग्रेस पार्टी और निर्दलीय विधायकों को खरीदने की कोशिश की है.

Rajasthan Political Crisis: मुख्यमंत्री गहलोत ने की राज्यपाल से मुलाकात, कल हो सकता है प्रदेश में मंत्रिमंडल फेरबदल 

Rajasthan Political Crisis:  मुख्यमंत्री गहलोत ने की राज्यपाल से मुलाकात, कल हो सकता है प्रदेश में मंत्रिमंडल फेरबदल 

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र से मिलने पहुंचे. यहां पर गहलोत मंत्रिमंडल में बदलाव की जानकारी दी. साथ ही विधायकों के समर्थन का पत्र भेजेंगे. खबर यह भी है कि बुधवार को मंत्रिमंडल फेरबदल किया जाएगा. सीएम गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्र को प्रस्ताव दिया. उन्होंने सचिन पायलट,विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को बर्खास्त किए जाने का प्रस्ताव दिया. राज्यपाल कलराज मिश्र ने सीएम के प्रस्ताव को तत्काल प्रभाव से स्वीकृति प्रदान की.

गोविंद सिंह डोटासरा बने कांग्रेस के नए पीसीसी चीफ, सचिन पायलट बर्खास्त 

कांग्रेस का बड़ा एक्शन:
इससे पहले राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम के चलते कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद केसी वेणुगोपाल, अविनाश पांडे, रणदीप सुरजेवाला और अजय माकन ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने तीन मंत्रियों को बर्खास्त किया है. इसमे सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा शामिल है. वहीं सचिन पायलट को पीसीस चीफ पदे से भी हटाया गया है. उनके स्थान पर  गोविंद सिंह डोटासरा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बने हैं. वहीं मुकेश भाकर को यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर उनके स्थान पर गणेश घूघरा को यूथ कांग्रेस अध्यक्ष बनाया गया है. वहीं हेमसिंह शेखावत सेवादल प्रदेशाध्यक्ष होंगे. 

Rajasthan Political Crisis: उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए गए सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा भी बर्खास्त

गोविंद सिंह डोटासरा की नेम प्लेट लगाई:
पीसीसी चीफ को लेकर लेटेस्ट अपडेट सामने आया है. मुख्यालय पर अध्यक्ष कक्ष के बाहर पायलट की नेम प्लेट हटाई गई है. नए अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा की नेम प्लेट लगाई गई है.विधायक चेतन डूडी ने कहा कि कांग्रेस एकजुट है. PCC चीफ के फैसले का स्वागत किया है. किसान कौम के बीच हर्ष की लहर है. गोविन्द सिंह डोटासरा को प्रदेश पीसीसी का अध्यक्ष बनाने पर स्वागत किया है. 

Rajasthan Political Crisis: पुलिस मुख्यालय से बड़ी खबर, गुर्जर बाहुल्य इलाकों में हाई अलर्ट जारी

Rajasthan Political Crisis:  पुलिस मुख्यालय से बड़ी खबर, गुर्जर बाहुल्य इलाकों में हाई अलर्ट जारी

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम के बीच पुलिस मुख्यालय से बड़ी खबर आई है. सचिन पायलट को पीसीसी चीफ और डिप्टी सीएम से हटाने के बाद गुर्जर बाहुल्य इलाकों में हाई अलर्ट जारी किया गया है. इसमें दौसा, अजमेर, भीलवाड़ा, धौलपुर, टोंक, सवाई माधोपुर और भरतपुर समेत कई जिले शामिल है. ऐसे में काननू व्यवस्था बनाए रखने के लिए सभी जिला SP को अलर्ट जारी किया गया है. सचिन पायलट की बर्खास्तगी के बाद इंटेलीजेंस ने ऐसा इनपुट दिया है. 

Rajasthan Political Crisis:  उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए गए सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा भी बर्खास्त 

कांग्रेस पार्टी ने तीन मंत्रियों को बर्खास्त किया:   
वहीं इससे पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने तीन मंत्रियों को बर्खास्त किया है. इसमे सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा शामिल है. वहीं सचिन पायलट को पीसीस चीफ पदे से भी हटाया गया है. उनके स्थान पर  गोविंद सिंह डोटासरा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बने हैं. वहीं मुकेश भाकर को यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर उनके स्थान पर गणेश घूघरा को यूथ कांग्रेस अध्यक्ष बनाया गया है. वहीं हेमसिंह शेखावत सेवादल प्रदेशाध्यक्ष होंगे. 

Rajasthan Political Crisis: भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर का बड़ा बयान, कहा- सचिन पायलट के लिए दरवाजे खुले  

8 करोड़ जनता के सम्मान को चुनौती:  
कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने एक षडयंत्र के तहत राजस्थान की 8 करोड़ जनता के सम्मान को चुनौती दी है. बीजेपी ने साजिश के तहत कांग्रेस की सरकार को अस्थिर कर गिराने की साजिश की है. बीजेपी धनबल और सत्ताबल से कांग्रेस पार्टी और निर्दलीय विधायकों को खरीदने की कोशिश की है.


 

Rajasthan Political Crisis: उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए गए सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा भी बर्खास्त

 Rajasthan Political Crisis:  उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए गए सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा भी बर्खास्त

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम के चलते कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद केसी वेणुगोपाल, अविनाश पांडे, रणदीप सुरजेवाला और अजय माकन ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने तीन मंत्रियों को बर्खास्त किया है. इसमे सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा शामिल है. वहीं सचिन पायलट को पीसीस चीफ पदे से भी हटाया गया है. उनके स्थान पर  गोविंद सिंह डोटासरा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बने हैं. वहीं मुकेश भाकर को यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर उनके स्थान पर गणेश घूघरा को यूथ कांग्रेस अध्यक्ष बनाया गया है. वहीं हेमसिंह शेखावत सेवादल प्रदेशाध्यक्ष होंगे. 

8 करोड़ जनता के सम्मान को चुनौती:  
कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने एक षडयंत्र के तहत राजस्थान की 8 करोड़ जनता के सम्मान को चुनौती दी है. बीजेपी ने साजिश के तहत कांग्रेस की सरकार को अस्थिर कर गिराने की साजिश की है. बीजेपी धनबल और सत्ताबल से कांग्रेस पार्टी और निर्दलीय विधायकों को खरीदने की कोशिश की है.

सचिन पायलट भ्रमित होकर बीजेपी के जाल में फंस गए: 
रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सचिन पायलट भ्रमित होकर बीजेपी के जाल में फंस गए और कांग्रेस सरकार गिराने में लग गए. पिछले 72 घंटे से कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट और अन्य नेताओं से संपर्क करने की कोशिश की. कांग्रेस की ओर से लगातार सचिन पायलट को मनाने की कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने लगातार हर बात को नकारा.


 

Rajasthan Political Crisis: भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर का बड़ा बयान, कहा- सचिन पायलट के लिए दरवाजे खुले

Rajasthan Political Crisis: भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर का बड़ा बयान, कहा- सचिन पायलट के लिए दरवाजे खुले

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम पर भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर का बड़ा बयान आया है. उन्होंने कहा कि सचिन पायलट के लिए दरवाजे खुले हैं. सचिन पायलट पार्टी में आते हैं तो उनका स्वागत होगा. साथ ही कहा कि कांग्रेस ने पायलट के साथ अच्छा बर्ताव नहीं किया. सियासी संकट कांग्रेस का अंदरूनी मामला है. पहले से प्रस्तावित दौरे पर ओम माथुर दिल्ली से जयपुर के लिए रवाना हो गए हैं. 

Rajasthan Political Crisis: बागियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई का प्रस्ताव पारित, कांग्रेस विधायक दल की बैठक जारी  

बीजेपी राज्य में संभावनाएं तलाश कर रही: 
वहीं राजस्थान बीजेपी की बैठक की भी खबरें आ रही हैं. गुलाबचंद कटारिया और राजस्थान बीजेपी के अध्यक्ष सतीश पूनिया इस बैठक में शामिल हैं. माना जा सकता है कि राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच बीजेपी राज्य में संभावनाएं तलाश कर रही है.

कांग्रेस ने बागियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई का प्रस्ताव पारित किया:
माथुर का बयान ऐसे समय में सामने आया जब कांग्रेस ने बागियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई का प्रस्ताव पारित किया. मंत्री शांति धारीवाल ने अनुशासनात्मक कार्रवाई का प्रस्ताव रखा जिसका सभी विधायकों ने दोनों हाथ खड़े करके समर्थन किया. वहीं बैठक में 109 विधायकों का दावा किया जा रहा है. 

विधायकों ने अशोक गहलोत को ही अपना नेता करार दिया: 
इससे पहले गहलोत समर्थक विधायकों ने बागियों पर कार्रवाई की मांग उठाई है. कांग्रेस पार्टी पायलट के आने की उम्मीद लगाई बैठी थी लेकिन सचिन पायलट की ओर से बिल्कुल मना कर दिया गया. बैठक में विधायकों ने अशोक गहलोत को ही अपना नेता करार दिया है. सभी विधायक अशोक गहलोत का समर्थन कर रहे हैं. ऐसे में सचिन पायलट गुट को ये बड़ा झटका माना जा रहा है. 

कांग्रेस ने पायलट पर कार्रवाई करने का मन बना लिया: 
वहीं कांग्रेस अब विधायक दल की बैठक में नहीं शामिल हुए विधायकों को नोटिस भेजने की तैयारी में है. पार्टी की ओर से बार-बार विधायकों को चेतावनी दी गई थी, लेकिन कोई भी शामिल नहीं हुआ. वहीं सूत्रों की माने तो अब कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट से और कोई बात नहीं करने का मन बना लिया है. उनका मानना है कि पायलट को मनाने की जितनी कोशिश हो सकती थी वो की जा चुकी हैं. ऐसे में अब माना जा सरहा है कि कांग्रेस ने पायलट पर कार्रवाई करने का मन बना लिया है और उनके समर्थक विधायकों पर भी सख्त फैसला लिया जा सकता है. 

VIDEO: सचिन पायलट समर्थक विधायक भंवरलाल शर्मा का बयान, कहा- फ्लोर टेस्ट में सब कुछ क्लीयर हो जाएगा 

रणदीप सुरजेवाला व अविनाश पांडे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे:
कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले सीएम अशोक गहलोत ने केसी वेणुगोपाल, रणदीप सुरजेवाला, अविनाश पांडे,अजय माकन और विवेक बंसल से अमह चर्चा की. चर्चा में आगे की रणनीति पर बात हुई. इसके साथ ही विधायक दल की बैठक के बाद रणदीप सुरजेवाला व अविनाश पांडे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में बागियों पर कार्रवाई की मांग उठी

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में बागियों पर कार्रवाई की मांग उठी

जयपुर: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गहलोत समर्थक विधायकों ने बागियों पर कार्रवाई की मांग उठाई है. इससे पहले कांग्रेस पार्टी पायलट के आने की उम्मीद लगाई बैठी थी लेकिन सचिन पायलट की ओर से बिल्कुल मना कर दिया गया. वहीं बैठक में विधायकों ने अशोक गहलोत को ही अपना नेता करार दिया है. सभी विधायक अशोक गहलोत का समर्थन कर रहे हैं. ऐसे में सचिन पायलट गुट को ये बड़ा झटका माना जा रहा है.

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू, अपनी बात मनवाने पर अड़ा पायलट गुट!  

कांग्रेस ने पायलट पर कार्रवाई करने का मन बना लिया: 
वहीं कांग्रेस अब विधायक दल की बैठक में नहीं शामिल हुए विधायकों को नोटिस भेजने की तैयारी में है. पार्टी की ओर से बार-बार विधायकों को चेतावनी दी गई थी, लेकिन कोई भी शामिल नहीं हुआ. वहीं सूत्रों की माने तो अब कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट से और कोई बात नहीं करने का मन बना लिया है. उनका मानना है कि पायलट को मनाने की जितनी कोशिश हो सकती थी वो की जा चुकी हैं. ऐसे में अब माना जा सरहा है कि कांग्रेस ने पायलट पर कार्रवाई करने का मन बना लिया है और उनके समर्थक विधायकों पर भी सख्त फैसला लिया जा सकता है. 

रणदीप सुरजेवाला व अविनाश पांडे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे:
कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले सीएम अशोक गहलोत ने केसी वेणुगोपाल, रणदीप सुरजेवाला, अविनाश पांडे,अजय माकन और विवेक बंसल से अमह चर्चा की. चर्चा में आगे की रणनीति पर बात हुई. इसके साथ ही विधायक दल की बैठक के बाद रणदीप सुरजेवाला व अविनाश पांडे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. 

VIDEO: सचिन पायलट समर्थक विधायक भंवरलाल शर्मा का बयान, कहा- फ्लोर टेस्ट में सब कुछ क्लीयर हो जाएगा 

कांग्रेस से जनता का मोहभंग हो चुका: 
दूसरी ओर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राजस्थान के सियासी संकट पर कहा है कि कांग्रेस से जनता का मोहभंग हो चुका है. वहीं गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने कहा है कि आज शाम तक राजस्थान संकट सुलझ जाएगा और अशोक गहलोत और सचिन पायलट अपने बीच के मतभेदों को सुलझा लेंगे. 

Open Covid-19