राजकोट गांधी, पटेल के सपनों का भारत बनाने के लिए आठ साल में किए ईमानदार प्रयास : प्रधानमंत्री मोदी

गांधी, पटेल के सपनों का भारत बनाने के लिए आठ साल में किए ईमानदार प्रयास : प्रधानमंत्री मोदी

गांधी, पटेल के सपनों का भारत बनाने के लिए आठ साल में किए ईमानदार प्रयास : प्रधानमंत्री मोदी

राजकोट (गुजरात): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि पिछले आठ वर्षों में उनकी सरकार ने महात्मा गांधी और सरदार पटेल के सपनों का भारत बनाने के लिए ईमानदार प्रयास किया. उन्होंने कहा कि इस अवधि के दौरान सरकार ने हमेशा गरीबों की गरिमा की रक्षा के लिए काम किया. प्रधानमंत्री के रूप में 26 मई को आठ साल पूरा करने वाले मोदी ने कहा कि उन्होंने इन वर्षों में देश की सेवा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी और ऐसा कोई काम नहीं किया, जिससे लोगों का सिर शर्म से झुक जाए. 

मोदी गुजरात के राजकोट जिले के अटकोट में 200 बिस्तरों वाले मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल का उद्घाटन करने के बाद एक सभा को संबोधित कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने आठ साल में अपनी सरकार द्वारा किए गए कार्यों का उल्लेख किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि मैंने पिछले आठ वर्षों में राष्ट्र की सेवा में कोई कसर नहीं छोड़ी है. मैंने न तो इसकी अनुमति दी है और न ही व्यक्तिगत रूप से ऐसा कोई काम किया है, जिससे आपका या भारत के किसी भी व्यक्ति का सिर शर्म से झुक जाए. पिछले आठ वर्षों में हमने महात्मा गांधी और सरदार पटेल के सपनों का भारत बनाने के लिये ईमानदार प्रयास किया है.

मोदी ने कहा कि महात्मा गांधी ऐसा भारत चाहते थे जिसमें गरीब, दलित, आदिवासी और महिलाएं सशक्त हों, जहां स्वच्छता और स्वास्थ्य जीवन का हिस्सा हो, जहां अर्थव्यवस्था स्वदेशी समाधान पर आधारित हो. प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले आठ वर्षों में, तीन करोड़ से अधिक परिवारों को पक्का मकान प्रदान किए गए. दस करोड़ परिवारों को खुले में शौच (शौचालय निर्माण के माध्यम से) की समस्या से, नौ करोड़ महिलाओं को (एलपीजी कनेक्शन प्रदान करके) धुएं के प्रतिकूल प्रभाव से बचाया गया.

मोदी ने कहा कि 2.5 करोड़ परिवारों को बिजली के कनेक्शन दिए गए, छह करोड़ परिवारों को नल के पानी के कनेक्शन, 50 करोड़ से अधिक लोग (प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (पीएम-जेएवाई) बीमा योजना के तहत) मुफ्त इलाज पाने के लिए कवर किए गए हैं. उन्होंने कहा कि ये सिर्फ आंकड़े नहीं हैं, बल्कि यह देश के गरीबों को सम्मान देने की हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है. पिछले आठ साल में मेरी सरकार ने गरीबों के उत्थान के लिए काम किया है.

मोदी ने कहा कि सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सब का प्रयास’ के मंत्र से हमने देश के विकास को नयी दिशा दी है.उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान सरकार ने गरीबों के लिए अन्न का भंडार खोल दिया. प्रधानमंत्री ने कहा कि जैसे ही महामारी शुरू हुई, लोगों को खाद्य आपूर्ति प्राप्त करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. इसलिए हमने देश के खाद्यान्न भंडार को गरीब लोगों के लिए खोल दिया. हमने महामारी के दौरान महिलाओं के जन धन बैंक खातों में वित्तीय सहायता प्रदान की.

मोदी ने कहा कि जब टीका आया तो हमने सुनिश्चित किया कि हर भारतीय का टीकाकरण हो और वह भी मुफ्त. प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने किताबों या टेलीविजन के माध्यम से गरीबी का अध्ययन नहीं किया क्योंकि वह खुद इस दौर से गुजरे थे. विधानसभा चुनाव से लगभग छह महीने पहले अपने गृह राज्य का दौरा कर रहे मोदी ने कहा कि ‘‘डबल इंजन सरकार’’ (केंद्र और राज्य में) ने गुजरात के तेजी से विकास को सुनिश्चित किया है, जबकि 2014 से पहले ऐसा नहीं था.

मोदी ने कहा कि डबल इंजन सरकार’ के कारण गुजरात विकास की नयी ऊंचाइयों को छू रहा है. वर्ष 2014 से पहले, चीजें अलग थीं. हम केंद्र (संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार) को किसी विकास परियोजना की फाइल भेजते थे तो वे खारिज कर देते थे. उन्हें कोई विकास परियोजना नहीं दिखती थी. गुजरात में दिसंबर में विधानसभा चुनाव होने हैं. मोदी ने राजकोट के ग्रामीण इलाके में 200 बिस्तरों वाले अस्पताल की स्थापना करने वाले पाटीदार समुदाय ट्रस्ट की सराहना की और कहा कि वह चाहते हैं कि अस्पताल खाली रहे. प्रधानमंत्री ने कहा कि कोई भी बीमार नहीं पड़ना चाहिए. हमें ऐसी जीवनशैली अपनानी होगी, जो हमें बीमार न होने में मदद करे.(भाषा) 

और पढ़ें