'विजय संकल्प सभा' में पीएम मोदी कल चूरू में करेंगे जनसभा को संबोधित 

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/25 11:13

जयपुर (योगेश शर्मा)। शेखावाटी की सियासत का बड़ा केन्द्र है चूरु, यहां की सियासत उतार चढ़ाव भरी रही है। जाट, राजपूत, ब्राह्मण, दलित और मुस्लिम सियासत से अटे पड़े चूरु लोकसभा क्षेत्र में कल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आ रहे हैं। उनके दौरे का असर सीधे तौर पर 5 लोकसभा क्षेत्रों पर पड़ सकता है। यह इलाका जवान और किसान दोनों के लिये चर्चित है। इसलिये पीएम मोदी ने राजस्थान में दूसरी सभा के लिये चूरु को चुना। बीते विधानसभा चुनाव बीजेपी के लिये बीकाणा और शेखावाटी में काफी निराशाजनक रहे। 5 लोकसभा क्षेत्रों को मिलाकर 40 लोकसभा सीटों में से बीजेपी केवल 12 सीट ही जीत पाई। 

चूरु लोकसभा क्षेत्र का सियासी गणित :
- यहां से सांसद है राहुल कस्वां
- चूरु और रतनगढ़ में ही कमल खिला
- बीजेपी के राजेन्द्र राठौड़ - अभिनेष महर्षि ही चुनाव जीते
- रामसिंह कस्वां, अभिषेक मटोरिया, खेमाराम मेघवाल जैसे दिग्गज चुनाव हार गये
- कांग्रेस के दिग्गज मास्टर भंवर लाल मेघवाल, भंवर लाल शर्मा, नरेन्द्र बुढानिया जैसे दिग्गज जीत गये
- चूरु में बीजेपी पॉलिटिक्स कस्वां परिवार और राजेन्द्र राठौड़ के इर्द-गिर्द ही रही है
- बीजेपी के दिग्गज सतीश पूनिया भी यहीं के मूल निवासी 
- कॉमरेड बलवान पूनिया भादरा में जीत गये

बीकानेर लोकसभा क्षेत्र :
- बीजेपी सांसद अर्जुन राम मेघवाल 
- बीकानेर में 8 सीटों में से 4 पर कमल खिला
- बीजेपी के नये चेहरों ने जीत दर्ज की पुराने हार गये
- सुमित गोदारा, बिहारी विश्नोई, संतोष बावरी के तौर पर नये चेहरे जीते
- पुराने चेहरों में सिद्धी कुमारी ने जीत दर्ज की
- देवीसिंह भाटी, गोपाल जोशी, किसनाराम जैसे बीजेपी दिग्गज चुनाव हार गये
- कांग्रेस की सरकार बनी, लेकिन नोखा से दिग्गज रामेश्वर डूडी नहीं जीत पाये
- श्रीडूंगरगढ में लाल सलाम भारी पड़ा

झुंझुनूं लोकसभा क्षेत्र :
- मौजूदा बीजेपी सांसद संतोष अहलावत 
- यहां के परिणाम बीजेपी के लिये निराशाजनक रहे
- केवल 2 सीट बीजेपी ने जीती
- सूरजगढ़ और मंडावा में ही कमल खिल पाया
- नये चेहरे सुभाष पूनिया ने जीत दर्ज की, बीजेपी के टिकट पर चुनाव जीते नरेन्द्र 
- शुभकरण चौधरी और काका सुंदरलाल के पुत्र नहीं हो पाये कामयाब 
- कांग्रेस के दिग्गज डॉ राजकुमार शर्मा, बृजेन्द्र ओला चुनाव जीत गये

सीकर लोकसभा क्षेत्र :
- बीजेपी सांसद संतोष अहलावत 
- सीकर में बीजेपी की करारी पराजय हुई
- केवल चौमूं सीट पर रामलाल शर्मा ही जीत दिला पाये
- वहीं कांग्रेस के गोविन्द डोटासरा, राजेन्द्र पारीक, परसराम मोरदिया सरीखे मजबूत चेहरे चुनाव जीत गये

श्रीगंगानगर-हनुमानगढ सीट : 
- बीजेपी सांसद निहालचंद मेघवाल 
- रायसिंहनगर, सूरतगढ, पीलीबंगा 
- संगरिया से बीजेपी जीती
- डॉ. रामप्रताप चुनाव नहीं जीत पाये 

चूरु लोकसभा क्षेत्र की जातीय गणित :
- जाट-राजपूत पॉलिटिक्स का केन्द्र
- दलित और ब्राह्मण वर्ग भी प्रभाव

पांच लोकसभा के गणित को साधने ही नरेन्द्र मोदी चूरु आ रहे हैं। चूरु के जरिये वे सटे हुए लोकसभा क्षेत्रों तक संदेश पहुंचाएंगे। खाटू श्याम बाबा और सालासर बाबा की धरती पर उनका संदेश बेहद अहम होगा। चूरु की सियासत में किसान राजनीति का सदैव बोलबाला रहा है, वहीं हर गांव में सेना के जवान बसते हैं। पीएम के चुनावी संदेश में यह दोनों वर्ग नजर आएंगे। पाकिस्तान को कड़ा संदेश होगा तो किसान के लिये सौगात।

चूरु लोकसभा की सियासत जातीय तौर पर भी बेहद अहम है। रतनगढ़ के पूर्व विधायक राजकुमार रिणवां को भी फिर बीजेपी में शामिल करने की चर्चा है। हालांकि अभी बागियों की री—एंट्री पर निर्णय होना बाकी है। चूरु की बीजेपी की खास बात राजेन्द्र राठौड़ का प्रभाव, यहां बीजेपी की सियासत उनके इर्द—गिर्द ही घूमती रही है। जाहिर है चूरु में मोदी की विजय संकल्प सभा की सफलता का दारोमदार भी उनके कंधों पर ही रहेगा।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in