गुवाहाटी CM हिमंत बिस्व सरमा बोले- लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री ने मुझसे असम की राजनीति में बने रहने को कहा

CM हिमंत बिस्व सरमा बोले- लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री ने मुझसे असम की राजनीति में बने रहने को कहा

CM हिमंत बिस्व सरमा बोले- लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री ने मुझसे असम की राजनीति में बने रहने को कहा

गुवाहाटी: असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने शनिवार को दावा किया कि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें पूरे पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास के लिए राज्य की राजनीति पर ध्यान केंद्रित करने को कहा था. सरमा ने कहा कि जब वह राज्य के कैबिनेट मंत्री थे तब प्रदेश भाजपा ने सुझाव दिया था कि वह 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ें, लेकिन मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने उन्हें मना कर दिया.

उस समय मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल थे. पिछले साल विधानसभा चुनाव के बाद सरमा मुख्यमंत्री बने और सोनोवाल राज्यसभा के लिए चुने गए और बाद में वह केंद्रीय मंत्री बने. मोदी पर एक किताब का विमोचन करते हुए सरमा ने कहा, ‘‘यह लोकसभा चुनाव (2019) के लिए टिकट वितरण का समय था. हमारी (पार्टी की) प्रदेश समिति ने सुझाव दिया कि मैं चुनाव लड़ूं.’’ सरमा ने कहा कि उस रात उन्होंने मोदी और शाह से मुलाकात की. इस दौरान, प्रधानमंत्री ने उन्हें असम की राजनीति में बने रहने के लिए कहा. उस समय, प्रधानमंत्री मोदी का दूसरा कार्यकाल तय माना जा रहा था. मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी जी ने कहा कि लोकसभा सीट के हिसाब से पूर्वोत्तर इतना महत्वपूर्ण नहीं है. चुनावी राजनीति के लिए यह जरूरी नहीं है, बल्कि देश के विकास के लिए पूर्वोत्तर की प्रगति जरूरी है. पूर्वोत्तर को विकास के शीर्ष स्तर पर ले जाने के लिए वह चाहते थे कि हम इस क्षेत्र को नहीं छोड़ें और यहां काम करना जारी रखें. वर्ष 2019 में तेजपुर लोकसभा क्षेत्र के लिए भाजपा की प्रदेश चुनाव समिति द्वारा सरमा के नाम का सुझाव दिया गया था.

गुजरात के मुख्यमंत्री से लेकर देश के प्रधानमंत्री तक के मोदी के सफर को बयां करने वाली किताब ‘मोदी एट 20: ड्रीम्स मीट डिलीवरी’ का विमोचन करते हुए सरमा ने कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र प्रधानमंत्री के लिए एक विशेष स्थान रखता है. उन्होंने कहा कि कल की ही बात है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री (बसवराज) बोम्मई ने मुझे बताया कि मोदी जी कुछ दिन पहले बेंगलुरु के एक विश्वविद्यालय में एक कार्यक्रम के दौरान उनसे पूर्वोत्तर के छात्रों के बारे में पूछ रहे थे.’’ सरमा ने कहा कि मोदी जी ने उत्तर प्रदेश या गुजरात के छात्रों के बारे में नहीं पूछा. लेकिन उनकी चिंता यहां के छात्रों को लेकर थी, जो इस क्षेत्र के लिए उनके लगाव को दिखाता है. बाद में सिलसिलेवार ट्वीट में सरमा ने कहा कि मोदी जी ने भाजपा के उभार में महत्वपूर्ण योगदान दिया है. वर्ष 2013 में भाजपा के चार मुख्यमंत्री थे और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के एक मुख्यमंत्री थे. उन्होंने कहा कि आज भाजपा के 12 मुख्यमंत्री और सहयोगी दलों के छह मुख्यमंत्री हैं. यह इस बात का प्रदर्शित करता है कि कैसे मोदी जी के नेतृत्व ने भाजपा के सामाजिक और भौगोलिक परिदृश्य का विस्तार किया है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें