Uttarakhand: पीएम ने की उत्तराखंड में डबल इंजन सरकार के विकास कार्यों की तारीफ, कहा- राज्य को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी सरकार

Uttarakhand: पीएम ने की उत्तराखंड में डबल इंजन सरकार के विकास कार्यों की तारीफ, कहा- राज्य को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी सरकार

Uttarakhand: पीएम ने की उत्तराखंड में डबल इंजन सरकार के विकास कार्यों की तारीफ, कहा- राज्य को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी सरकार

ऋषिकेश: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को 35 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष (पीएम केयर्स फंड) से स्थापित 35 प्रेशर स्विंग एडजॉर्प्शन (PSA) ऑक्सीजन संयंत्रों को राष्ट्र को समर्पित किया. इस अवसर पर ऋषिकेष स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIMS) में आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार उत्तराखंड की प्रगति के लिए राज्य सरकार को हरसंभव मदद कर रही है, उन्होंने कहा कि ‘‘डबल इंजन’’ की यह सरकार राज्य को नयी ऊंचाइयों पर ले जाएगी. 

कम समय में किया ज्यादा विकास:
ज्ञात हो कि अगले साल की शुरुआत में उत्तराखंड विधानसभा के चुनाव होने हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड का गठन वर्ष 2000 में हुआ था और जल्द ही इसकी स्थापना के 25 साल पूरे होने वाले हैं. उन्होंने कहा कि उत्तराखंड को भविष्य में कहां ले जाना है, इसका निर्णय करने का राज्य की जनता के लिए सही समय है. प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकार के साझा प्रयास प्रदेश की जनता के सपनों को साकार करने का बड़ा आधार रहा है. इस सिलसिले में उन्होंने ‘‘वन रैंक, वन पेंशन’’, वार मेमोरियल की स्थापना और राज्य में ढांचागत विकास सहित केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए विभिन्न कदमों का उल्लेख किया. उन्होंने कोरोना महामारी के बावजूद देश के स्वास्थ्य ढ़ांचे को मजबूत करने के लिए किए गए प्रयासों को उल्लेख करते हुए कहा कि कम समय में हुए यह विकास कार्य देश की क्षमता को दर्शाते हैं. 

भारत ने किया सबसे तेज टीकाकरण:
उन्होंने कहा कि देश के दूर-दराज वाले इलाकों में भी नए वेंटिलेटर्स की सुविधाएं, मेड इन इंडिया कोरोना वैक्सीन का तेजी से और बड़ी मात्रा में निर्माण, दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे तेज़ टीकाकरण अभियान भारत ने जो कर दिखाया है, वो हमारी संकल्पशक्ति, हमारे सेवाभाव, हमारी एकजुटता का प्रतीक है. उन्होंने कहा कि सामान्य दिनों में भारत में एक दिन में 900 मीट्रिक टन, लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन का उत्पादन होता था लेकिन मांग बढ़ते ही भारत ने इसका उत्पादन 10 गुना से भी ज्यादा बढ़ाया. उन्होंने कहा कि यह दुनिया के किसी भी देश के लिए अकल्पनीय लक्ष्य था, लेकिन भारत ने इसे हासिल करके दिखाया. कोरोना से लड़ाई के लिए इतने कम समय में भारत ने जो सुविधाएं तैयार कीं, वो हमारे देश के सामर्थ्य को दिखाता है. उन्होंने कहा कि नये संयंत्रों के साथ ही पीएम केयर्स से कुल 1150 ऑक्सीजन संयंत्र देश के सभी जिलों में काम कर रहे हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि हर भारतवासी के लिए गर्व की बात है कि अब तक कोरोना टीकों की 93 करोड़ खुराक दी जा चुकी है और बहुत जल्द 100 करोड़ के आंकड़े को पार कर लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि आज सरकार इस बात का इंतजार नहीं करती कि नागरिक उसके पास अपनी समस्याएं लेकर आएंगे, तब कोई कदम उठाएंगे. 

जानिए कौन-कौन रहा समारोह में शामिल:
उन्होंने कहा कि सरकारी माइंडसेट और सिस्टम से इस भ्रांति को हम बाहर निकाल रहे हैं, अब सरकार नागरिक के पास जाती है. इस अवसर पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया भी मौजूद थे और उन्होंने देश भर में स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के प्रयासों की सराहना की. सोर्स-भाषा
 

और पढ़ें