जयपुर VIDEO: पंचायत चुनाव...सियासत और मौज मस्ती! बाड़ाबंदी के नाम पर सैर-सपाटा, रोजाना हो रहे लाखों खर्च

VIDEO: पंचायत चुनाव...सियासत और मौज मस्ती! बाड़ाबंदी के नाम पर सैर-सपाटा, रोजाना हो रहे लाखों खर्च

जयपुर: राजस्थान के 6 जिलों में 3 चरणों में हुए पंचायत और जिला परिषद सदस्यों चुनाव में मतदान के बाद अब सभी की निगाहें 4 सितंबर को होने वाले मतगणना पर है. इसी बीच जिला प्रमुख, प्रधानों के चुनाव और कांग्रेस का बोर्ड बनवाने के लिए पिछले तीन दिन से बाड़ाबंदी में रह रहे कांग्रेस प्रत्याशियों पर रोजाना लाखों रुपए खर्च हो रहे हैं. इस खर्च में लग्जरी होटलों, रिसोर्ट्स का किराया, खाने और मौज मस्ती पर होने वाला खर्च भी शामिल है. कांग्रेस विधायकों की ओर से 6 जिलों में की गई बाड़ाबंदी में 200 जिला परिषद सदस्य, 1564 पंचायत समिति सदस्य के उम्मीदवारों के साथ ही अन्य लोग भी शामिल हैं, जिन का आंकड़ा तकरीबन 1800 के लगभग बताया जा रहा है. 

राजस्थान के 6 जिलों जयपुर, जोधपुर, भरतपुर, दौसा, सवाईमाधोपुर और सिरोही जिले में कांग्रेस विधायकों की ओर से अलग-अलग रिसोर्ट्स और होटलों में की गई बाड़ाबंदी का जिम्मा भले ही विधायकों के कंधों पर हो लेकिन कहा जा रहा है कि होटलों और लग्जरी रिसोर्ट में ठहरने और सैर सपाटे का खर्च कांग्रेस के संभावित जिला प्रमुख के उम्मीदवारों और प्रधान पद के उम्मीदवारों के जिम्मे है.

सूत्रों के अनुसार 6 जिलों में कांग्रेस की तरफ से जिला प्रमुख के संभावित उम्मीदवार कौन-कौन से होंगे इस पर अंदर खाने सहमति बन चुकी है और संभावित दावेदारों को बता भी दिया गया है, जिसके बाद ही जिला प्रमुख के संभावित दावेदारों और प्रधान पद के दावेदार अप्रत्यक्ष रूप से बाड़ाबंदी का खर्च उठा रहे हैं.

एक मोटे अनुमान के अनुसार प्रदेश के 6 जिलों में लगभग 1800 लोग बाड़ाबंदी में है जिन पर प्रतिदिन लाखों रुपए खर्च हो रहे हैं. ऐसे में सभी 1800 लोग 6 सितंबर तक बाड़ाबंदी में रहेंगे. 6 सितंबर तक बाड़ाबंदी में रहने के दौरान खर्च का आंकड़ा करोड़ों में जाने की बात कही जा रही है. पंचायत और जिला परिषद चुनाव में ही कांग्रेस विधायकों की ओर से बाड़ाबंदी की गई हो, इससे पहले बीते साल नवंबर माह में जयपुर सहित 6 नगर निगमों में हुए चुनाव के दौरान भी कांग्रेस और भाजपा विधायकों की ओर से अपने अपने पार्षद प्रत्याशियों की बाड़ाबंदी की गई थी, जिन्हें बेहद लग्जरी होटलों और रिसोर्ट्स में ठहराया गया था. उस दौरान भी पार्षद तकरीबन 1 सप्ताह तक बाड़ाबंदी में रहे थे जिन पर रोजाना लाखों रुपए खर्च होने की बात कही जा रही थी.

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें