Live News »

आतंक का पर्याय बन चुके पैंथर को वन विभाग की टीम ने पिंजरे में किया कैद

आतंक का पर्याय बन चुके पैंथर को वन विभाग की टीम ने पिंजरे में किया कैद

भीलवाड़ा: जिले के करेड़ा तहसील क्षैत्र लक्ष्‍मीपुरा ग्राम में पिछले तीन माह से आतंक का प्रयाय बन चूके पैंथर को आखिरकार आज वन विभाग की टीम ने पिंजरे में कैद कर ही लिया. पैंथर के पिंजरे में कैद होने की खबर गांव में आग की तरह फैल गयी और भारी संख्या में वहां पर ग्रामीण भी जमा हो गये. वन विभाग की टीम पैंथर को टाड़गढ रावली अभ्यारण में ले जाकर छोडने के प्रयास शुरू कर दिये है. 

ग्रामीणों में हो गया था भय व्याप्त: 
लक्ष्‍मीपुरा ग्राम निवासी ईश्‍वर गुर्जर ने कहा कि पिछले तीन माह से गांव और आसपास के क्षैत्र में पैंथर की आवाजाही और आए दिन मेवशियों को शिकार बनाने के कारण ग्रामीणों में भय व्‍याप्‍त हो गया था. गांव से पिछले तीन माह में 7 से 8 बकरियों के साथ ही अन्‍य कई जानवरों को अपना शिकार बना चूका था. इसकी शिकायत हमने वन विभाग में की. वन विभाग के रेंजर गोविन्‍द सिंह खिंची ने कहा कि ग्रामीणों की शिकायत पर हमने पैंथर की मूवमेंट पर नजर रखे हुए थे. इसके चलते हमने गांव के ही भंवर सिंह रावणा राजपूत के खेत पर एक कुत्‍ते को पिंजर में रखकर लगाया. आज सुबह जब यहां आकर देखा गया तो पैंथर इसमें कैद हो चूका था.

टाड़गढ रावली अभ्यारण में छोड़ा जाएगा पैंथर: 
यह क्षैत्र अरावली टाटगढ़ के जंगलों से लगा हुआ है तो कई बार यह पैंथर घुमते-घुमते इधर आ जाते है. पिंजरे में बन्द पैंथर को हम अजमेर जिले के टाड़गढ रावली अभ्यारण मे लेकर जायेगें और वहां उसके उपचार के बाद टाटगढ के जंगल में पेंथर को छोड़ा दिया जाएगा. 

और पढ़ें

Most Related Stories

भीलवाड़ा की बन रही देश और दुनिया में कोरोना फाइटर सिटी के रूप में पहचान, सिर्फ सात दिन में 22 लाख से अधिक लोगों का सर्वे

भीलवाड़ा की बन रही देश और दुनिया में कोरोना फाइटर सिटी के रूप में पहचान, सिर्फ सात दिन में 22 लाख से अधिक लोगों का सर्वे

भीलवाड़ा: 16 दिन से कोरोना कर्फ्यू झेल रही टेक्सटाइल सिटी आज देश और दुनिया में कोरोना फाइटर सिटी के रूप में पहचान बना रही है. कोरोना संक्रमण की दृष्टि से भीलवाड़ा को कभी वुहान तो कभी इटली की संज्ञा दी जाने लगी थी. लेकिन स्थानीय प्रशासन ने सरकार मशीनरी के बेहतरीन उपयोग की बदौलत प्रदेश के पहले कोरोना हॉट स्पॉट को पूरे देश के लिए रोल मॉडल में तब्दील कर दिया. इसके लिए कोरोना कप्तान के नाम से विख्यात हो रहे कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने नया मेकैनिज्म तैयार किया. 

Coronavirus Updates:  कोरोना वायरस के 24 घंटे में रिकॉर्ड 549 मामले सामने आए, अब तक 166 की मौत 

सिर्फ सात दिन में 22 लाख से अधिक लोगों का सर्वे किया:
कोरोना का केंद्र शहर का ब्रजेश बांगड़ अस्पताल था लेकिन जिले के ग्रामीण क्षेत्र और पड़ोसी जिलों पर इसका असर होना निश्चित था. अस्पताल में इलाज के लिए आए रोगियों के सम्पर्क में आने वालों की पहचान करना लगभग असंभव कार्य था. जिला कलक्टर राजेंद्र भट्ट ने ग्राम स्तर पर सर्वे के लिए अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन राकेश कुमार को कमान सौंपी. सिर्फ सात दिन में जिले में 22 लाख से अधिक लोगों का सर्वे कर लिया गया. सर्वे से प्रशासन के सामने जिले की एक स्पष्ट तस्वीर उभर कर आई. स्थानीय प्रशासन के लिए यह बहुत बड़ी चुनौती थी. सबसे बड़ी समस्या संक्रमितों के निकट सम्पर्कियों की पहचान और उनकी सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करना थी.

त्रिस्तरीय व्यवस्था में  "कोरोना फाइटर्स" फिल्ड में लड़ाई लड़ रहे: 
संक्रमण को कम्यूनिटी संक्रमण में बदलने से रोकने में जिला कलक्टर राजेंद्र भट्ट के त्वरित निर्णय मील का पत्थर साबित हुए. इसके तहत कोरोना के खिलाफ जंग में जीत के लिए ग्रामीण क्षेत्र के नए मैकेनिज्म के साथ कोरोन्ना फाइटर्स बनाए गए. त्रिस्तरीय व्यवस्था में  "कोरोना फाइटर्स" फिल्ड में लड़ाई लड़ रहे हैं. ग्राम स्तर, पंचायत व ब्लॉक स्तर पर काम किया जा रहा है. सूचनाएं गांव से ब्लॉक स्तर पर पहुंच रही है. नए मैकेनिज्म की मॉनिटरिंग अधिकारी सौंपी गई है, वह "कोरोना कैप्टन बनाए गए है. चिकित्सा विभाग के माध्यम से शहरी सीमा में सर्व कर लोगों के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी हासिल की जा रही थी तो वहीं ग्रामीण क्षेत्र में जमीनी स्तर की मशीनरी को इसके लिए उपयोग में लाया गया. 

लगभग छह हजार लोगों को एक साथ फील्ड में भेजा:
एक सुस्पष्ट दूरदृष्टि के साथ राजस्व, ग्रामीण विकास व पंचायती राज, शिक्षा,कृषि,चिकित्सा आदि विभाग के सबसे निचले स्तर के तीन-तीन कार्मिकों की 1948 टीम बनाई गई. लगभग छह हजार लोगों को एक साथ फील्ड में झौंक कर सात दिन के भीतर जिले के पूरे ग्रामीण क्षेत्र का सर्वे कर लिया गया. यह इतना आसान नहीं था. जमीनी स्तर पर हुए सर्वे की रिपोर्ट उपखंड स्तर से होकर उसी दिन जिला स्तर तक पहुंचाना होता था. अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन की कोर टीम रात को 3 बजे तक आंकड़े संग्रहण का कार्य करती थी.

16 हजार से अधिक लोग सर्दी-जुकाम से पीड़ित थे:
त्वरित डाटा संग्रहण के परिणामस्वरूप प्रशासन को अगले निर्णय लेने में काफी आसानी रही. पहले चरण के सर्वे में 16 हजार से अधिक ऐसे व्यक्तियों की पहचान की गई जो सामान्य सर्दी-जुकाम से पीड़ित थे. इन्हे घर में ही रहते हुए सोशल डिस्टेंस की पालना करने और स्वच्छता की आदतें अपनाने की सलाह दी गई. दूसरे चरण में इन्ही लोगों पर फोकस किया गया. जिन्हें अभी भी सर्दी-जुकाम की शिकायत थी, उनका मेडीकल स्क्रीनिंग करवाया जा रहा है. इनमें से संदिग्धों को भीलवाड़ा मुख्यालय पर कोरोना की जांच के लिए लाया जा रहा है. जिले में अभी तक लिए गए करीब ढाई हजार से ज्यादा नमूने में अधिकांश यह लोग शामिल है. 

Rajasthan Corona Update:  प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव सातवें मरीज की मौत, पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 430 पहुंचा 

18 मार्च से 19 दिनों तक के तीन चरणों के सर्वे किया:
टेक्‍सटाईल सिटी में 18 मार्च से 19 दिनों तक के तीन चरणों के सर्वे किया. ग्रामीणों अंचल में भी 22 मार्च से 11 दिनों तक दो चरणों के सर्वे में सामने आये तत्‍थों के आधार पर काम करते हुए जिले में कोरोना संक्रमण की चैन ब्रेक करने में काफी हद तक सफलता हासील कर ली. महाकर्फ्यू में जनता के मिल रहे सहयोग से जल्‍द ही कोरोना की चैन ब्रेक करने के शुभ समाचार मिलने की उम्‍मीद है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए भीलवाड़ा से नवीन जोशी की रिपोर्ट

भीलवाड़ा मॉडल पर जीत पाएंगे कोरोना की जंग, एसीएस मेडिकल रोहित कुमार सिंह बनाए हुए पैनी नजर

जयपुर: प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव के बढ़ते आंकडे ने एक तरफ जहां पूरी सरकार की चिंता बढ़ा दी है,वहीं दूसरी ओर इस महामारी की रोकथाम का मोर्चा संभालने वाले एसीएस मेडिकल रोहित कुमार सिंह ने दावा किया है कि भीलवाड़ा मॉडल की तर्ज पर पूरी स्थित को नियंत्रण में कर लिया जाएगा. हालांकि, राजस्थान में एकाएक बढ़ते मामलों को लेकर एसीएस सिंह ने चिंता भी जाहिर की. सिंह ने कहां कि फिलहाल रामगंज और तब्लीगी जमात के पॉजिटिव केस हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती है.

राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, राज्यपाल कलराज मिश्र ने प्रदेश में कोरोना हालात की जानकारी दी

सभी जिला कलक्टरों को किया पाबंध:
लेकिन इस हालात को सामान्य करने के लिए हमने जिस तरह से भीलवाड़ा में कंटेनमेंट जोन की सख्ती से पालना की, उसी तरह से रामगंज को भी संक्रमण मुक्त करने की दिशा में काम शुरू कर दिया है. तब्लीगी जमात के पॉजिटिव केस को लेकर सभी जिला कलक्टरों को पाबंध किया है. अब तक 700 से अधिक लोग को सरकार निगरानी में ले चुकी है. राजस्थान के कोरोना हालात को लेकर एसीएस मेडिकल रोहित कुमार सिंह ने खास बातचीत की हमारे संवाददाता विकास शर्मा ने...

CORONA: डिप्टी सीएम सचिन पायलट की VC, कांग्रेस के कंट्रोल प्रभारियों से लिया फीडबैक 

- रामगंज और तब्दीगी जमात के पॉजिटिव केस सबसे बड़ी चुनौती
- फर्स्ट इंडिया से खास बातचीत में बोले एसीएस रोहित कुमार सिंह
- जिस तरह से एकाएक केस बढ़े है, उसको देखते हुए फील्ड में सख्ती बढ़ाना जरूरी
- भीलवाड़ा मॉडल में जिस तरह हमने बनाए कंटेनमेंट जोन और फिर सख्ती से कराई उसकी पालना
- वैसे ही सभी जगहों पर सख्ती जरूरी, तभी कोरोना पर जीत संभव
- रामगंज के पूरे इलाके को भीलवाड़ा की तर्ज पर जोनवार बांटा जा चुकी है, टीमें युद्ध स्तर पर लगी हुई है
- उदयपुर के केस को लेकर एसीएस ने जताई चिंता, कहां, वहां स्वाइन फ्लू वार्ड में तैनात नर्स को हुआ कोरोना
- ऐतियातन नर्स के सम्पर्क में आने वाले लोगों की लाइन लिस्ट तैयार हो चुकी है, क्लोज कांटेक्ट के सैंम्पल लिए गए है
- एसीएस ने फर्स्ट इंडिया के माध्यम से लोगों से भी अपील की कि वे सरकार के आदेशों की पालना करें
- ऐसी नौबत नहीं आने दे कि प्रशासन को सख्ती करनी जरूरी हो जाए

राजस्थान में बढ़ा कोरोना मरीजों का आंकड़ा, झुंझुनूं में मिला एक ओर पॉजिटिव, तो मरीजों की संख्या हुई 56

राजस्थान में बढ़ा कोरोना मरीजों का आंकड़ा, झुंझुनूं में मिला एक ओर पॉजिटिव, तो मरीजों की संख्या हुई 56

जयपुर: प्रदेशभर में कोराना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. लगातार इसका आंकडा बढता जा रहा है. राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 56 पहुंच गया है. प्रदेश के झुंझुनूं जिले में एक ओर पॉजिटिव मरीज आया सामने है. झुंझुनूं में 21 साल एक युवक कोरोना पॉजिटिव मिला है. यह युवक 18 मार्च को फिलीपींस से राजस्थान लौटा था. 23 मार्च को क्वारेंटाइन में युवक को भेजा गया. कोरोना के लक्षण दिखने पर सैंपल SMS हॉस्पिटल भेजा गया, जिसके बाद मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव आई. 

Lockdown: जोधपुर में काम करने वाले प्रवासी श्रमिकों का पलायन जारी, रोडवेज बस स्टैंड पर लगी भीड़

भीलवाड़ा में 25 पॉजिटिव मरीज:
भीलवाड़ा में कोरोना वायरस के 25 सबसे पॉजिटिव मरीज है. 10 वें दिन भी कर्फ्यू जारी है. भीलवाड़ा से होकर जा रहे श्रमिकों का भी पलायन जारी है. रविवार को चित्‍तौडगढ से 629 किलोमीटर दुर गौरूखपुर जा रहे 40 श्रमिकों को समाजसेवी ने उन्‍हे बिस्किट के पैकेट वितरण किए. यह श्रमिक चित्‍तौडगढ जिले में इंटिरियर डेकोरेशन और पेन्टिंग का कार्य करते थे. पिछले नौ दिनों से काम नहीं होने और खाद्य सामग्री खत्‍म हो जाने के कारण यह अपने गांव लौटने को मजबूर हो गए. 

660 संदिग्‍ध मरीज भर्ती:
वहीं जिले में अब तक पॉजिटिव 25 मरीजों में से 2 की मौत हो चूकी है, 4 मरीज जयपुर में उपचाररत है और 5 मरीजों को अस्‍पताल के अधिक्षक डॉ.अरूण गौड की टीम के उपचार के बाद रिपोर्ट नेगेटिव आने पर उन्‍हे आईसोलेशन से दुसरे वार्ड में स्फीट किया गया है, जिले के 11 क्‍वॉरेन्‍टाईन में अब तक 660 संदिग्‍ध मरीजों को भर्ती किया गया है, वहीं जिले की सीमा पर तैनात 15 चैकपॉस्‍ट पर अब तक 7 हजार से अधिक लोगों की स्क्रिनिंग की गई है.

Rajasthan Lockdown: राहत के मसीहा बने भामाशाह और समाजसेवी, प्रवासी यात्रियों को मिली राहत

खाने-पीने की समस्‍या:
चित्‍तौडगढ से गोरूखपुर के 629 किलोमीटर के लम्‍बे सफर पर रवाना होने वाले राम सिंह ने कहा कि हम चित्‍तौडगढ जिले में पिछले कई वर्षों से घरों में इंटिरियर डेकोरेशन और पेन्टिंग का कार्य करते थे. पिछले 9 दिनों ने हम घर पर बैठे थे, जिसके कारण हमें खाने-पीने की समस्‍या होने लग गई. इसके कारण परेशान होकर हमें अपने घरों के लिए लौटने को मजबूर हो गए. वहीं सीएमएचओ डॉ.मुस्‍ताक खान ने कहा कि रविवार को कोटडी कस्‍बे की एक महिला की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है, जिसने बांगड अस्पताल में एन्जियोप्‍लास्‍टी करवाई थी और बाद में 19 मार्च को यहां दिखाने आई थी. उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसे भी जिला अस्‍पताल के आईसोलेशन वार्ड मे भर्ती किया गया है.

Rajasthan Corona Update: पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर हुई 52, भीलवाड़ा और अजमेर में आया 1-1 पॉजिटिव केस सामने

Rajasthan Corona Update: पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर हुई 52, भीलवाड़ा और अजमेर में आया 1-1 पॉजिटिव केस सामने

जयपुर: प्रदेशभर में कोरोना वायरस संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है. प्रदेश में पिछले 12 घंटे में 2 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. राजस्थान में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ 52 पहुंच गया है. भीलवाड़ा और अजमेर में 1-1 पॉजिटिव केस सामने आया है. प्रदेश के भीलवाड़ा में कोरोना वायरस की वजह से हालत खराब है. यहां पर पॉजिटिव मरीजों की संख्या ज्यादा है. भीलवाड़ा के बांगड़ हॉस्पिटल में कार्यरत टाइपिस्ट कोरोना कोरोना की चपेट में आ गया है, जबकि अजमेर में पंजाब से लौटा सेल्समैन पॉजिटिव पाया गया.

Coronavirus Updates: पूरी दुनिया में कोरोना का कहर, विश्वभर में संक्रमितों की संख्या पहुंची 6 लाख

रामगंज में दहशत का माहौल 
जयपुर के रामगंज में दूसरा पॉजिटिव मरीज सामने आने से क्षेत्र में दहशत का माहौल है. ओमान से लौटे पॉजिटिव मरीज का दोस्त मोहम्मद हनीफ भी कोरोना की चपेट में आ गया है. ये पॉजिटिव मरीज भी खुद को पूरी तरह स्वस्थ्य बताकर अपने दोस्तों से मिलता रहा है. देखते ही देखते हनीफ भी कोरोना की चपेट में आ गया. जयपुर में इस तरह ट्रांसमिशन का यह पहला केस सामने आया है, जब बाहर से आए किसी पॉजिटिव ने स्थानीय को बीमारी की चपेट में ले लिया. ये प्रक्रिया ही कोरोना की थर्ड स्टेज कहलाती है. चिकित्सा विभाग के लिए रामगंज केस एक बड़ी चुनौती बन गया है. अब दोनों मरीजों के कांटेक्ट पर्सन को तलाशना बेहद मुश्किल काम है. हालांकि, CMHO प्रथम नरोत्तम शर्मा की टीम फील्ड में जुटी हुई है. 

VIDEO: सीएम अशोक गहलोत ने लिखा कई राज्यों के CM को पत्र, राजस्थानियों की संभाल करने की मांग

7 थाना इलाकों में कर्फ्यू:
जयपुर के रामगंज इलाके में कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद शुक्रवार को रामगंज समेत शहर के 7 थाना इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. इनमें रामगंज, सुभाष चौक, माणक चौक और कोतवाली के संपूर्ण क्षेत्र में तथा गलता गेट, ब्रह्मपुरी व नाहरगढ़ थाना इलाके के चादीवारी क्षेत्र में कर्फ्यू लगाया गया है. इसके बाद पुलिस और सतर्क हो गई है.

VIDEO-Corona Updates: खुशी और गम दोनों लेकर आया भीलवाड़ा में आज का दिन

भीलवाड़ा: कोरोना वायरस के कहर व कर्फ्यू में कैद भीलवाड़ा वासियों के लिए गुरुवार की सुबह की खुशी और गम दोनों साथ लेकर आयी है. जहा तीन पॉजिटिव मरीजों की रिपोर्ट नेगेटिव आयी है. वहीं एक पॉजिटिव मरीज ने आज दम तोड़ दिया. नेगेटिव आए इन मरीजों की 14 दिनों तक आईसोलेशन में रखने के बाद रिपोर्ट नेगेटिव आती है तो इन्‍हे घर भेज दिया जायेगा. वहीं माण्‍डल के एक ओर मरीज के पॉजिटिव आने से कुल मरीजों की संख्‍या 18 हो गयी. 

India Lockdown: वित्त मंत्री ने की घोषणा, उज्जवला स्कीम के तहत मुफ्त में मिलेंगे अगले 3 माह तक 3 गैस सिलेंडर 

कोरोना संदिग्ध होने पर करवाया था अस्पताल में भर्ती:
मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ. राजन नन्‍दा ने कहा कि बुधवार को सब्‍जी मण्‍डी में रहने वाले 73 वर्षिय नारायण सिंह को कोरोना संदिग्‍ध होने के कारण भर्ती किया गया था. नारायण सिंह ने ब्रजेश बांगड चिकित्‍सालय में किडनी का डाय‍लसिस करवाने गया था. जब इस यहां पर लाया गया तो उसकी हालत ज्‍यादा नाजुक थी. नारायण को किडनी और ब्‍लड प्रेशर की वजह से वह कौमा में चला गया था. नारायण कोरोना वायरस से पीड़ित था लेकिन उसकी मौत कोरोना वायरस के कारण नहीं हुई. इसका अंतिम संस्‍कार कोरोना रोगियों के अनुसार ही किया जायेगा.

भीलवाड़ा में कोरोना पॉजिटिव की संख्या हुई 18:
प्राचार्य नन्‍दा ने यह भी कहा कि माण्‍डल में एक पेशेन्‍ट और मिलने से अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्‍या 18 हो गयी है. जिला कलेक्‍टर राजेन्‍द्र भट्ट ने कहा कि अब तक भीलवाड़ा जिले में 439 सैंपलिंग में से 18 रोगी पॉजिटिव पाये गये है. जिनमें से दो संक्रमित रोगियां को जिला स्‍तर पर उपचार कर पुन: सैंपलिंग उपरान्‍त टेस्‍ट नेगेटिव प्राप्‍त हुआ है. स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की गाईड लाईन अनुसार जिले में 6 हजार 4 सौ 45 व्‍यक्तियों को उनके आवास पर होम क्‍वारेटाईन के रूप में रखकर राज्‍यकर्मियों की निगरानी में रखे गया है. संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए ब्रजेश बांगड हॉस्‍पीटल को सीज कर इसके किलोमीटर की परिधी को 0 मॉबोलिटी एरियां घोषित किया गया है.

India Lockdown: वित्त मंत्रालय का ऐलान, महिला जनधन खाता धारकों को अगले 3 माह तक दिए जाएंगे 500 रुपए

भीलवाड़ा जिले की सीमाओं को सील कर 13 चौकियां की स्थापित:
संक्रमण के कम्‍यूनिटि स्‍प्रेट को रोकने के लिए भीलवाड़ा जिले की सीमाओं को सील कर 13 चौकियां स्‍थापित की गयी है. शहर में 332 सर्वें टीमों द्वारा 1 लाख 6 हजार 856 परिवारों के 5 लाख 33 हजार 786 सदस्‍यों के सर्वें में 149 हाईरिस्‍क और 3317 सामान्‍य रोगी पाये गये है. जिले में 133 रोगी विदेशों से भी आये थे. शहर के अतिरिक्‍त जिले के शहरी और ग्रामीणों क्षैत्र के लिए 1948 दलों ने 3 लाख 62 हजार 833 परिवारों के 18 लाख 55 हजार 44 व्‍यक्तियों का सर्वे किया है जो जिले की जनसंख्‍या का 75 प्रतिशत है. जिले में 4 हजार क्‍वारेंटाइन बेड स्‍थापित किये जा रहे है और 80 बेड का आईसोलेशन वार्ड स्‍थापित किया गया.

कोरोना वायरस: भीलवाड़ा शहर के बाजार पूरी तरह से सीज, बाहर निकलने वाले व्‍यक्तियों पर होगी सख्‍त कार्यवाही

कोरोना वायरस: भीलवाड़ा शहर के बाजार पूरी तरह से सीज, बाहर निकलने वाले व्‍यक्तियों पर होगी सख्‍त कार्यवाही

भीलवाड़ा: कोरोना के बढते संक्रमण और मरीजों को देखते हुए अब भीलवाड़ा शहर के बाजारों को पूरी तरह से सीज कर दिया गया है. किसी भी व्‍यक्ति के आने और जाने पर पूर्णतया प्रतिबन्‍ध लगा दिया गया है. इसके साथ ही यदी कोई व्‍यक्ति इस आदेश की अवेहलना करेगा तो उस पर कानूनी कार्यवाही की जायेगी. वहीं शहर में भी कोरोना वायरस को लेकर आमजन में भय व्‍याप्‍त हो गया है और इक्‍का-दुका व्‍यक्तियों को छोडकर लोगों ने अपने आपकों को घर मे कैद कर लिया है. 

अपनी जिम्मेदारी समझे, राजस्थान में तत्काल लागू करें जनता कर्फ्यू! अगले 72 घंटे काफी क्रिटिकल

अब बाहर निकलने वाले व्‍यक्तियों पर होगी सख्‍त कार्यवाही: 
सिटी कोतवाली थाना प्रभारी यशदीप भल्‍ला ने कहा कि शहर में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए कर्फ्यू में 11 बजे तक की छूट दी गयी थी. इसके समाप्‍त होने के बाद अब बाहर निकलने वाले व्‍यक्तियों पर सख्‍त कार्यवाही की जायेगी. इसके साथ ही यदी कोई इसका उल्‍लंघन करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जायेगी. वहीं आमजन मोहम्‍मद इरफान शेख ने कहा कि कोरोना वायरस एक प्राकृतिक आपदा है. इसके कारण हम स्‍वंय को इसके लिए खड़ा होना होगा और बचाव करना होगा. हम प्रशासन के इस कदम का सहयोग करते हैं.   

प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का बढ़ता जा रहा दायरा, पिछले 12 घंटे में 6 नए पॉजिटिव केस 

नर्स दुष्कर्म मामला: आरोपी गिरफ्तार, ​पुलिस ने किया कोर्ट में पेश

नर्स दुष्कर्म मामला: आरोपी गिरफ्तार, ​पुलिस ने किया कोर्ट में पेश

भीलवाड़ा: पडौसी की बीमार मां का इलाज करने पहुंची नर्स के साथ दुष्‍कर्म का मामला सामने आया है. भीलवाड़ा शहर के उपनगर सांगानेर के दुष्‍कर्मी युवक ने नर्स से न केवल दुष्‍कर्म किया, बल्कि अश्‍लील वीडियो बना करीब 2 साल से ब्‍लैकमेल भी कर रहा था. पीड़िता की रिपोर्ट पर सुभाष नगर थाना पुलिस दुष्‍कर्मी अब्दुल क्यूम को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया. 

सुप्रीम कोर्ट में मध्यप्रदेश सियासी संकट का मामला, बहुमत परीक्षण पर सुनवाई

न्‍यायिक अभिरक्षा में भेजा: 
जहां से कोर्ट ने आरोपी को 1 अप्रेल तक न्‍यायिक अभिरक्षा में भेज दिया. सुभाष नगर थाने के सहायक उपनिरिक्षक राधाकृष्‍ण गुर्जर ने कहा कि दुष्‍कर्म पीड़िता ने एक रिपोर्ट थाने में दर्ज करवाई थी. इस रिपोर्ट पर प्रारंभिक जांच में दुष्‍कर्म होना सामने आया था, जिस पर गुरुवार को आरोपी को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया. जहां उस 1 अप्रैल तक न्‍यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया.

अदालतों के कम्प्लीट शटडाउन से मुख्य न्यायाधीश का इंकार, हाइकोर्ट बार ने न्यायिक कार्य नही करने का किया ऐलान

कोरोना वायरस के खौफ के बीच भीलवाड़ा में तैयार मास्क बचा रहा लोगों की जान

कोरोना वायरस के खौफ के बीच भीलवाड़ा में तैयार मास्क बचा रहा लोगों की जान

भीलवाड़ा: कोरोना वायरस के खौफ के बीच कपड़ा नगरी में कोरोना वायरस से बचाव के लिए तैयार किया गया भीलवाड़ा का मास्‍क दक्षिण कोरिया तक लोगों की जान बचाने में सहायक हो रहा है. भीलवाड़ा में करीब 32 हजार मास्‍क प्रतिदिन एक कपड़ा इकाई में बनकर तैयार हो रहे है. 

राजस्थान विश्वविद्यालय की यूजी और पीजी की परीक्षाएं 31 मार्च तक स्थगित 

प्रतिदिन 30 से 35 हजार मास्‍क ही बना पा रहे: 
टेक्‍सटाईल इंजिनियर और उद्योगपति जुगल किशोर चेमाडी ने 5 साल पहले सर्जीकल गारमेन्‍ट के साथ मास्‍क बनाने का कार्य शुरू किया था मगर चाइना के सस्‍ते माल के आगे ये उद्योग टिक नहीं पा रहा था मगर आज कच्‍चे माल की महंगी सप्‍लाई जैसी विपरित परिस्थियों में भी ये प्रतिदिन 30 से 35 हजार मास्‍क ही बना पा रहे हैं. फैक्‍ट्री सुपरवाईजर दिनेश कुमार ने कहा कि कोरोना वायरस के बढ़ने के बाद भीलवाड़ा मास्‍क की मांग बढ़ी है. फैक्‍ट्री में ओर भी मेडिकल सेक्‍टर के उपयोग में आने वाले सुरक्षा और मेडिकल स्‍टाफ के ड्रेसेज बनायी जाती है. 

करीब 1 हजार गुना हमारे मास्‍क की मांग बढ़ गयी: 
अपने पिता के साथ मास्‍क फैक्‍ट्री में कंधे से कंधा मिलाकर काम करने वाले डायरेक्‍टर गौरव कुमार का कहना है कि मेरे पिता ने यह व्‍यवसाय ट्रेड फेयर में जाने के बाद शुरू किया और उन्‍हे वहीं से ईनोवेशन की प्रेरणा मिली थी. कोरोना वायरस के चलते करीब 1 हजार गुना हमारे मास्‍क की मांग बढ़ गयी है. कोरोना वायरस के भय ने हालात बदले है और हमें उम्‍मीद है कि आने वाले समय मास्‍क और सुरक्षा उपकरणों की मांग मेडिकल हेल्‍थ क्षैत्र में बढ़ेगी. अब तक मास्‍क बनाने के लिए चीन तकनि‍क वाली मशीन का उपयोग कर रहे थे मगर अब जर्मनी में बनी मशीन लाने की योजना बना रहे हैं. हम कोरिया के बाद अब मिडल ईस्‍ट देशों से भी हमारे पास में मास्‍क की मांग आ रही है.  

VIDEO: बिछ गई राज्यसभा चुनाव की चौसर, 3 सीटों पर कुछ इस तरह रहेगा गणित 

भीलवाड़ा के उद्योगपतियों को एक नई राह दिखायी:
औद्योगिक नगरी भीलवाड़ा में फैब्रिक्‍स और सर्टिंग के परम्‍परागत उद्योग के बीच अब मेकिडल हेल्‍थ के क्षेत्र में काम आने वाले रेडिमेंट गारमेन्‍ट की मांग ने भीलवाड़ा के उद्योगपतियों को एक नई राह दिखायी है. 

...भीलवाड़ा से फर्स्ट इंडिया के लिए नवीन जोशी की रिपोर्ट

         

Open Covid-19