VIDEO: जयपुर नगर निगम का बजट पारित, राजस्व प्राप्ति में रहा फिसड्डी 

Abhishek Shrivastava Published Date 2019/02/26 10:44

जयपुर (अभिषेक श्रीवास्तव)। जयपुर नगर निगम की साधारण सभा की बैठक आखिरकार आयोजित हुई और नए वर्ष के बजट के साथ मौजूदा वित्तीय वर्ष के संशोधित अनुमान पारित किए गए। जयपुर नगर निगम की साधारण सभा एक दिन पहले भी बुलाई गई थी, लेकिन भाजपा पार्षदों के बहिष्कार के चलते कोरम पूरा नहीं होने के कारण बैठक स्थगित कर दी गई। आपको बताते हैं किस तरह साधारण सभा का कोरम पूरा हुआ और बजट की खास बातें क्या रही। खास रिपोर्ट-

दरअसल महापौर विष्णु लाटा ने एक बार फिर साधारण सभा की बैठक प्रात:11 बजे बुलाई। बैठक में कुल 34 सदस्यों का कोरम पूरा करने के लिए शहर के सभी कांग्रेसी विधायक बैठक में शामिल हुए। बैठक में शामिल नहीं होने के भाजपा के एलान की परवाह किए बिना भाजपा पार्षद रामनिवास जोनवाल और भाजपा समर्थित पार्षद बैठक में शामिल हुए। मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, लालचंद कटारिया, विधानसभा में सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी व विधायक अमीन कागजी समय पर बैठक में पहुंच गए। लेकिन विधायक गंगा देवी और रफीक खान के देरी से आने के चलते बैठक की औपचारिक कार्यवाही करीब घंटे भर बाद शुरू हो पाई। इसके बाद बैठक में बजट पारित किया गया। 

आपको बताते हैं कि बजट के आंकड़ों के अनुसार नगर निगम राजस्व प्राप्ति और विकास कार्य में खर्च दोनों में किस तरह पीछे रहा है।

—राजस्व प्राप्ति में फिसड्डी रहा जयपुर नगर निगम
—नियम, उपनियम और लाईसेंस फीस से आय का लक्ष्य घटाया
—मौजूदा वित्तीय वर्ष का लक्ष्य था 161 करोड़
—30 नव.18 तक आए केवल 42 करोड़
—लक्ष्य घटाकर किया 132.40 करोड़ रुपए
—नए वित्तीय वर्ष का लक्ष्य रखा 165.20 करोड़
—हाउस टैक्स से आय का लक्ष्य घटाया
—मौजूदा वर्ष का लक्ष्य था 49.50करोड़
—30 नव.18 तक आए केवल 7 लाख रुपए 
—लक्ष्य घटाकर किया 30 लाख रुपए
—नए वित्तीय वर्ष का लक्ष्य रखा 49 करोड़
—संपत्ति किराए एवं अधिकारों से आय के मद में लक्ष्य घटाया
—मौजूदा वर्ष में लक्ष्य घटाकार 107.91 करोड़ रुपए से 66.91 करोड़ किया
—नए वर्ष के लिए लक्ष्य किया 107.91 करोड़
—भूमि से आय के मामले में हुई 0 आय
—30 नवम्बर 2018 तक एक रुपए भी निगम को आय नहीं हुई
—संशोधित अनुमान में अब लक्ष्य घटाया
—मौजूदा वर्ष के लिए 180 करोड़ से 100 करोड़ किया
—नए वर्ष में फिर रखा लक्ष्य 180 करोड़ 
—विकास कार्यों पर खर्च की राशि को घटाया
—मौजूदा वर्ष के संशोधित अनुमान ही नहीं बल्कि नए वित्त वर्ष में खर्च की राशि घटाई
—मौजूदा वर्ष में लक्ष्य था 763.31 करोड़ रुपए
—30 नव.18 तक किए खर्च केवल 134.50 करोड़
—संशोधित अनुमान घटाकार किया 614.60करोड़
—नए वर्ष में घटाकर अनुमान किया 590.12 करोड़

जयपुर नगर निगम की साधारण सभा की बैठक में 1870 करोड़ रुपए से अधिक राशि का बजट पारित किया गया। बजट के आंकड़ों के मुताबिक नगर निगम का प्रशासनिक व शहर के रखरखाव पर खर्च तो साल दर साल बढ़ रहा है, लेकिन उसके मुताबिक आय बढ़ाना तो दूर तय लक्ष्य भी नगर निगम अधिकारी पूरा नहीं कर पा रहे हैं। इसका प्रतिकूल असर शहर के विकास पर पड़ रहा है। विकास पर खर्च की राशि नगर निगम को घटानी पड़ती है।


First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in