बांग्लादेश में भीषण हादसा, मालवाहक जहाज से टक्कर के बाद डूबा यात्री जहाज, 27 लोगों की मौत

बांग्लादेश में भीषण हादसा, मालवाहक जहाज से टक्कर के बाद डूबा यात्री जहाज, 27 लोगों की मौत

बांग्लादेश में भीषण हादसा, मालवाहक जहाज से टक्कर के बाद डूबा यात्री जहाज, 27 लोगों की मौत

ढाकाः बांग्लादेश की शीतलाख्या नदी में 100 से अधिक लोगों को लेकर जा रही एक नौका के मालवाहक जहाज से टकरा जाने के कारण कम से कम 27 लोगों की मौत हो गई. अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि घटना रविवार शाम नारायणगंज जिले में हुई जो राजधानी ढाका से करीब 16 किलोमीटर दक्षिण -पूर्व में स्थित है.

22 शवों को सोमवार को निकाला गयाः
राहत कार्य से जुड़े अधिकारियों ने कहा कि पांच शव रविवार को बरामद कर लिए गए थे, जबकि 22 शवों को सोमवार को निकाला गया. राहत दल में नौसेना, तटरक्षक बल, दमकल सेवा और पुलिस के कर्मी शामिल थे. बांग्लादेश अंतर्देशीय जल परिवहन प्राधिकरकण (बीआईडब्ल्यूटीए) के अध्यक्ष कोमोडोर गुलाम सादेक ने यहां संवाददाताओं से कहा कि डुबी हुई नौका को निकालने का काम पूरा हो गया है. वहीं टीवी पर सीधे प्रसारित किए जा रहे दृश्यों में घटनास्थल पर जुड़े पीड़ितों के परिजन व रिश्तेदार रोते-बिलखते नजर आ रहे थे.

सैयदपुर कोयला घाट के पास हुआ हादसाः
खबर के अनुसार मुंशीगंज स्थित शीतलाख्या नदी में सैयदपुर कोयला घाट के पास नौका ‘एमएल सबीत अल हसन’ मालवाहक जहाज ‘एसकेएल-3’ से टक्कर के बाद डूब गई. ‘ढाका ट्रिब्यून’ ने चश्मदीदों ने हवाले से बताया कि टक्कर के बाद मालवाहक जहाज वहां से फरार हो गया.

जांच समिति को पांच दिनों में सौंपेगी अपनी रिपोर्टः 
नारायणगंज के उपायुक्त मुस्तैन बिला ने कहा कि अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (एडीएम) की अध्यक्षता में मामले की जांच के लिये सात सदस्यीय समिति का गठन किया गया है. उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन, मृतकों के परिजनों को शवों के अंतिम संस्कार के लिए 25-25 हजार टका मुआवजे के रूप में देगा. जांच समिति को अगले पांच दिनों में अपनी रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा गया है. बीआईडब्ल्यूटीए ने भी घटना की जांच के लिए चार सदस्यीय समिति का गठन किया है.

नौका में150 लोगों के सवार होने का अनुमानः
नौका पर करीब 150 लोगों के सवार होने का अनुमान है. तटीय पुलिस प्रभारी दीपक चंद्र साहा ने पुष्टि की कि 50-60 लोग तैरकर नदी के किनारे पर आ गए जिनमें से तीन को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.
सोर्स भाषा

और पढ़ें